मोदी को रोकने के लिए अलायंस बना तो नीतीश नहीं, राहुल होंगे पीएम कैंडिडेट: कांग्रेस

मोदी को रोकने के लिए अलायंस बना तो नीतीश नहीं, राहुल होंगे पीएम कैंडिडेट: कांग्रेस

नई दिल्ली. नोटबंदी का समर्थन करने की वजह से कांग्रेस नीतीश कुमार से नाराज है। पार्टी का कहना है कि अगर 2019 के लोकसभा चुनाव में मोदी से मुकाबले के लिए अलायंस बना तो इसके पीएम कैंडिडेट राहुल गांधी होंगे। कांग्रेस का मानना है कि नीतीश 2019 के चुनाव को ध्यान में रखते हुए नोटबंदी का समर्थन कर रहे हैं।

– नोटबंदी का विरोध करने वाले अपोजिशन में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी है। नोटबंदी पर नीतीश ने मोदी का साथ दिया है, इससे वह चिंतित और नाराज है।

– एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, नोटबंदी पर नीतीश के बदले तेवर की वजह से कांग्रेस ऐसी बात कर रही है। हालांकि, उसका कोई नेता ऑफिशियली कुछ कहने को तैयार नहीं है।

– कांग्रेस का मानना है कि नीतीश 2019 के चुनाव को ध्यान में रख कर नोटबंदी का समर्थन कर रहे हैं। वे अपनी अलग छवि बनाना चाहते हैं।

– कांग्रेस के एक सीनियर लीडर ने कहा, “एक ही अलायंस से दो नेता (राहुल और नीतीश) पीएम कैंडिडेट बनकर वोट नहीं मान सकते।”

– उन्होंने कहा, “नोटबंदी के खिलाफ राहुल गांधी की अगुआई में प्रदर्शन हो रहा है, लेकिन हमारे भरोसेमंद नेताओं में से ही एक इसे कमजोर कर रहे हैं। इससे हमें तकलीफ हुई है।”

– उन्होंने जोर देते हुए कहा, “कुछ भी हो जाए, कांग्रेस लोकसभा चुनाव और पीएम कैंडिडेट को लेकर मिलने वाली चुनौती मंजूर नहीं करेगी।”

लालू ने सोनिया से की नीतीश की शिकायत

– बताया जा रहा है कि लालू ने भी नोटबंदी पर नीतीश के रुख की सोनिया गांधी को फोन करके शिकायत की है।

– बीजेपी पर नीतीश के लगातार नर्म रुख को लेकर लालू ने सोनिया को आगाह भी किया है।

– बता दें कि बिहार में लालू की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के साथ बने गठबंधन की सरकार है।

– खुद लालू ने नीतीश को सीएम चुना है। ऐसे में, कांग्रेस का डर वाजिब बताया जा रहा है।

नोटबंदी पर ममता को नीतीश ने ऐसे किया मना
– हाल ही में ममता बनर्जी ने नोटबंदी पर दिल्ली में प्रदर्शन किया। इसमें शामिल होने के लिए उन्होंने नीतीश कुमार को भी फाेन किया था, लेकिन उन्होंने मना कर दिया।
– नीतीश का साफ कहना था कि जब मोदी के फैसले पर प्रेसिडेंट ने मोहर लगा दी, फिर इसका विरोध करना बेकार है।
– खुद नीतीश ने यह खुलासा किया है। उन्होंने पटना में मंगलवार को विधायकों के एक ग्रुप के सामने यह बात कही।
– ये विधायक नीतीश की पार्टी के नहीं थे, बल्कि लालू की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल के थे। लालू ने खुद नीतीश को इस ग्रुप को संबोधित करने के लिए बुलाया था।

लालू बताना चाहते थे नीतीश हमारे ही साथ

– कहा जा रहा है कि लालू ने नीतीश को इसलिए बुलाया था, ताकि विधायकों के सामने यह जताया जा सके कि नोटबंदी का सपोर्ट करने के बाद भी नीतीश उनके ही साथ हैं।

Courtesy: Bhaskar

 

Categories: India

Related Articles