नोटबंदी के चलते लोगों के पास पैसा नहीं रहेगा तो सभी साइकिल चलाएंगे और हमें प्रचार मिलेगा: अखिलेश यादव

नोटबंदी के चलते लोगों के पास पैसा नहीं रहेगा तो सभी साइकिल चलाएंगे और हमें प्रचार मिलेगा: अखिलेश यादव

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने नरेंद्र मोदी सरकार पर चुटकी लेते हुए कहा कि नोटबंदी के कारण लोगों के पास पैसा नहीं रहेगा तो सभी लोग साइकिल चलाएंगे जिससे समाजवादी पार्टी का प्रचार होगा। साइकिल समाजवादी पार्टी का चुनाव चिह्न है। अखिलेश ने कहा कि नोटबंदी से केवल गरीब लोगों को तकलीफ हुई है और अमीर लोगों को बैंक हर सुविधा घर तक पहुंचा देते हैं। अखिलेश ने बताया कि प्रधानमंत्री से उनकी मुलाकात के दौरान पीएम ने कहा था कि स्थिति सुधरेगी और टेक्नोलॉजी से हालात बदल जाएंगे। अखिलेश ने पीएम मोदी पर सवाल खड़ा करते हुए पूछा, “लेकिन क्या देश के लोग टेक्नोलॉजी के लिए तैयार हैं?” मोदी अखिलेश एचटी लीडरशिप सम्मेलन में वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त से बात कर रहे थे।

अखिलेश ने कहा, “नोटबंदी से कालाधन, भ्रष्टाचार, आतंकवाद और विदेशों में कालाधन की समस्या का समाधान नहीं होगा। नए नोटों से नए तरह का भ्रष्टाचार शुरू होगा। नए नोटों के जाली नोट पहले ही बाजार में आ चुके हैं।” अखिलेश ने कहा कि पीएम मोदी ने देश को आगे ले जाने का वादा किया था लेकिन वो इसे बहुत पीछे ले गए। नोटबंदी के नकारात्मक परिणाम की तरफ आगाह करते हुए अखिलेश ने कहा कि लोकतंत्र में जो भी जनता को सताएगा उसे इसका खमियाजा चुनाव में भुगतना होगा। अखिलेश ने कहा कि देश की जनता अभी मोबाइल बैंकिंग के लिए तैयार नहीं है। अखिलेश ने कहा, “पीएम मोदी ने पूरे देश को कतार में खड़ा करा दिया है।” अखिलेश ने 2019 के लोक सभा चुनाव के लिए कांग्रेस के साथ राष्ट्रीय स्तर के गठबंधन की संभावना से भी इनकार नहीं किया। अखिलेश ने कहा कि ये कांग्रेस पर निर्भर करता है कि गठबंधन होगा या नहीं।

अपने पिता मुलायम सिंह यादव से अपनी तुलना पर अखिलेश ने कहा, “मेरे और पिताजी के बीच एक बुनियादी अंतर ये है कि वो पहलवान हैं और मैं फुटबॉलर।” अखिलेश ने कहा कि समाजवादी पार्टी में मुलायम सिंह यादव की मर्जी के बिना कोई फैसला नहीं लिया जाता और वो भी उनका हर आदेश मानते हैं। सपा में अंदरूनी कलह पर अखिलेश ने कहा कि वो किसी और को अपना इस्तीफा नहीं लिखने देंगे। अखिलेश ने कार्यक्रम में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की भी तारीफ की। अखिलेश ने कहा कि राजधानी होने के नाते दिल्ली में अरविंद केजरीवाल जैसा नेता जरूरी है जो हर मुद्दे पर सवाल खड़ा करते रहा। अखिलेश ने नोटबंदी पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का भी समर्थन करते हुए कहा कि वो सही सवाल उठा रही हैं।

कार्यक्रम में सपा सांसद अमर सिंह के बारे में पूछे गए सवाल का जवाब अखिलेश ने सीधे तौर पर नहीं दिया। अखिलेश ने कहा अगर मैं पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष होता तो कुछ सुझाव देता लेकिन मैं वो नहीं हूं। यूपी में अगले साल होने वाले विधान सभा चुनाव पर अखिलेश ने कहा कि राज्य में सपा की वापसी होगी। अखिलेश मानते हैं कि यूपी के चुनाव के देश के बाकी चुनावों की दिशा तय होगी। अखिलेश ने कहा कि राजनीति की राह समतल नहीं होती और उसमें ऊंच-नीच आती रहती है।

Courtesy: Jansatta 

Categories: Politics

Related Articles