जयललिता का MGR मेमोरियल के पास होगा अंतिम संस्कार, प्रेसिडेंट जाएंगे चेन्नई, एक दिन का राष्ट्रीय शोक

जयललिता का MGR मेमोरियल के पास होगा अंतिम संस्कार, प्रेसिडेंट जाएंगे चेन्नई, एक दिन का राष्ट्रीय शोक

चेन्नई. जयललिता का मंगलवार शाम 4:30 बजे मरीना बीच पर MGR मेमोरियल के पास अंतिम संस्कार किया जाएगा। MGR से जयललिता की काफी नजदीकियां रही थीं। फिल्मों से लेकर पॉलिटिक्स तक दोनों का साथ रहा। MGR ही उन्हें पॉलिटिक्स में लाए थे। अम्मा को श्रद्धांजलि देने के लिए प्रणब मुखर्जी, नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी भी चेन्नई पहुंचेंगे। जयललिता की मौत के बाद तमिलनाडु में सरकार के सामने टेन्योर पूरा करने की चुनौती खड़ी हाे सकती है। बता दें कि सोमवार रात 11.30 बजे 68 साल की जयललिता का निधन हो गया था। वो 76 दिन से हॉस्पिटल में भर्ती थीं। अम्मा के अंतिम संस्कार पर पढ़ें अपडेट्स…

9:35AM:जयललिता को श्रद्धांजलि देने प्रणब मुखर्जी भी जाएंगे चेन्नई।

9:25AM:वेंकैया नायडू चेन्नई पहुंचे।

9:20AM:मोदी चेन्नई के लिए रवाना। जयललिता को देंगे श्रद्धांजलि।

9:05AM:चेन्नई में दुकानें, बाजार बंद। कई प्राइवेट कंपनियों ने भी छुट्टी का एलान किया।

8:50AM:तमिलनाडु में 7 दिन का शोक रहेगा। राज्य में तीन दिन स्कूल कॉलेज बंद रहेंगे। साथ ही उत्तराखंड, कर्नाटक और बिहार जैसे राज्यों ने भी जयललिता के सम्मान में एक दिन के शोक का एलान किया है।

8:15AM: केंद्र सरकार की ओर से केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू और पोन राधाकृष्णन जयललिता के अंतिम संस्कार में शामिल होंगे।

8:10AM:तमिलनाडु सरकार ने जयललिता की याद में हर साल 6 दिसंबर को छुट्टी रखने का एलान किया।

8:00AM:केंद्र सरकार ने एक दिन के राष्ट्रीय शोक का एलान किया।

7:35AM: राहुल गांधी भी जाएंगे चेन्नई।
7:30AM: नरेंद्र मोदी जयललिता को श्रद्धांजलि देने 9:30 बजे चेन्नई जाएंगे।
7:00AM: मंगलवार शाम 4:30 बजे चेन्नई में होगा अंतिम संस्कार। अब आगे क्या?

MGR को भी राजाजी गार्डन में रखा गया था

जयललिता का पार्थिव शरीर पहले पोएस गार्डन में उनके रेसिडेंस ले जाया गया। इसके बाद सुबह अंतिम दर्शन के लिए राजाजी हॉल ले जाया गया।

जब AIADMK के फाउंडर एमजीआर का निधन हुआ था, तब भी उनका पार्थिव शरीर इसी हॉल में रखा गया था।

सरकार के टेन्योर पर संकट
पन्नीरसेल्वम सीएम बन गए। वे जया के करीबी थे, लेकिन कई विधायक उन्हें पसंद नहीं करते हैं। इसीलिए विधायकों से लिखित में लिया गया है।
सरकार का करीब 4 साल का समय बाकी है। ऐसे में मुमकिन है कि कुछ वक्त बाद बगावत न हो जाए।

पार्टी में पड़ सकती है फूट

44 साल पुरानी एआईएडीएमके में दो ही नेता हुए हैं। पहले एमजीआर और फिर जयललिता।
अभी शशिकला को जनरल सेक्रेटरी बनाए जाने की चर्चा है।
6 महीने बाद पार्टी की अगुआई करने को लेकर लड़ाई शुरू हो सकती है। पार्टी टूट सकती है।

बीजेपी या कांग्रेस होगी ऑप्शन
49 सालों में तमिलनाडु में सिर्फ दो ही पार्टियां AIADMK या DMK की सरकार रही है।
जयललिता रही नहीं। करुणानिधि भी 92 साल के हैं।
ऐसे में, बीजेपी और कांग्रेस राज्य में अपनी जमीन मजबूत करना चाहेंगी।
जयललिता की पार्टी AIADMK पर दोनों पार्टियों की नजरें होंगी।

Courtesy: Bhaskar.com

Categories: India

Related Articles