नोटबंदी: संसद में विपक्षियों ने लगाए ‘हिम्‍मत है तो मोदी लाओ’ के नारे, बीजेपी का पलटवार

नोटबंदी: संसद में विपक्षियों ने लगाए ‘हिम्‍मत है तो मोदी लाओ’ के नारे, बीजेपी का पलटवार

नई दिल्‍ली
नोटबंदी के फैसले के बाद संसद के शीतकालीन सत्र में सरकार और विपक्ष के बीच पैदा हुआ गतिरोध लगातार 16वें दिन भी जारी रहा। बुधवार को एक तरफ जहां विपक्षी सांसदों ने सदन में ‘हिम्‍मत है तो मोदी लाओ’ के नारे लगाए वहीं इसके पलटवार में बीजेपी सांसदों ने ‘हिम्‍मत है तो चर्चा करो’ के नारे लगाए। हंगामे के बाद लोकसभा और राज्‍यसभा की कार्यवाही स्‍थगित करनी पड़ी। इससे पहले बीजेपी संसदीय दल की बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्ष पर हमला बोला। उन्‍होंने नोटबंदी जैसे बड़े सुधारों पर संसद में बहस नहीं करने देने और गतिरोध पैदा करने को लेकर विपक्षी दलों की निंदा की। बीजेपी सूत्रों का कहना है कि प्रधानमंत्री सदन में नोटबंदी को लेकर बोल सकते हैं।

सदन में हुई नारेबाजी
जेटली ने कहा, ‘हम चर्चा के लिए तैयार थे और अभी भी हैं। विपक्ष चाहता था कि प्रधानमंत्री सदन में मौजूद रहें, इसलिए प्रधानमंत्री लगातार सदन में मौजूद रहे हैं। लेकिन ऐसा लगता है कि विपक्ष सिर्फ सदन की कार्यवाही को बाधित करना चाहता है। विपक्ष का यह प्रयास रहता है कि दो मिनट के लिए शून्‍यकाल में विषय उठा दिया जाए, टेलिविजन कवरेज के लिए वह विषय उठे, लेकिन देश की जानकारी के लिए जो विस्‍तृत चर्चा होनी चाहिए उसकी अनुमति सदन में नहीं दी जाए।’

विपक्ष ने बोला हमला
विपक्ष की तरफ से कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने सदन में मोर्चा संभाला था। उन्‍होंने कहा क‍ि सरकार ने नोटबंदी का कदम बिना किसी तैयारी के उठाया। साथ ही उन्‍होंने आरोप लगाया कि नोटबंदी की वजह से जो इतने लोगों की मौत हुई, उनका जिम्‍मेदार कौन है। उधर, मायावती ने कहा कि प्रधानमंत्री जो कुछ भी कहना चाहते हैं, विपक्ष उसे सुनने को तैयार है। उन्‍हें सदन में आना चाहिए और हर किसी को सुनना चाहिए।

नोटबंदी के समर्थन में प्रस्‍ताव पारित
इससे पहले बीजेपी संसदीय दल की बैठक में नोटबंदी के फैसले और संसद की कार्यवाही पर चर्चा हुई। इस बैठक में बीजेपी संसदीय दल की तरफ से नोटबंदी को समर्थन देने के लिए लोगों की प्रशंसा करते हुए एक प्रस्ताव भी पारित किया गया। इस बैठक के बारे में जानकारी देते हुए बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार ने कहा, ‘पीएम ने कहा कि जैसे मतदान के समय देश में ईवीएम के बारे में प्रचार होता है, वैसे ही कैशलेस सिस्‍टम का प्रचार होना चाहिए। एक प्रस्‍ताव पास किया गया कि जिसमें जिस तरह से जनता ने नोटबंदी के फैसले का समर्थन किया है, उसका स्‍वागत किया गया।’

 

Courtesy: NBT

Categories: Finance

Related Articles