मोदी ने जनता को फकीर बनाया, जनता चुनाव में कंगाल बना देगी : मायावती

मोदी ने जनता को फकीर बनाया, जनता चुनाव में कंगाल बना देगी : मायावती

लखनऊ  बसपा प्रमुख मायावती आज सपा और भाजपा को निशाने पर लिया और कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने नोटबंदी के फैसले से खुद नहीं बल्कि जनता को फकीर बनाया है। 90 फीसद लोग भाजपा के फैसले के विरोध में खड़े हैं। उत्तर प्रदेश में आने वाले विधानसभा चुनाव में जनता उन्हें वोटों से कंगाल बना देगी। सपा मुखिया और बबुआ के परिवार की तरक्की बाबा साहब की देन है लेकिन सपा परिवार एहसान फरामोश है। वह स्मारक में लगी मूर्तियों पर अभद्र बयान देते हैं। स्मारक स्थल पर लगे पत्थरों को बबुआ पैसे की बर्बादी बताते हैं। ऐसा ही रहा तो बबुआ देश में लगी सभी प्रतिमाओं पर तंज कसेगा। सपा मुखिया, बबुआ को अर्थहीन बातें करने से पहले सोचना चाहिए? क्या जनेश्वर मिश्र पार्क में मूर्तियां खड़ी नहीं है। मायावती ने कहा कि क्या जनेश्वर पार्क में लगी मूर्तियां अपना स्थान बदलती रहती है। बाबा साहब की जयंती पर छुट्टी कभी रद्कर देते हैं और कभी लागू कर देते है। मायावती ने आज अंबेडकर स्मारक परिसर में बाबा साहब को श्रद्धांजलि दी।

मोदी के फैसले से जनता बन गयी फकीर

बीजेपी की सोच और कार्यशैली पर सवाल,बीजेपी के लोगों की नीति और नियत हमेशा विरोधी,मंडल कमीशन की रिपोर्ट में बीजेपी ने विरोध किया। मोदी अपने फैसले से फकीर नही बने बल्कि जनता को बनाया है। आगामी विधानसभा चुनाव में जनता सबको आइना दिखाएगी। जनता को बीजेपी ने कंगाल और फकीर बनाया। 90 फीसद लोग भाजपा की नीतियो के विरोध में हैं। वह नोटबंदी के फैसले से लोग उबर नही पा रहे हैं। नोटबंदी से पहले भाजपा ने पूंजीपतियों का कालाधन मैनेज किया। कांग्रेस और भाजपा दलितों को आरक्षण नही देना चाहती हैं। ढाई साल बीतने पर भी भाजपा ने वादे पूरे नही किए। बसपा आर्थिक आधार पर आरक्षण के पक्ष में हैं।जबकि कांग्रेस और भाजपा की नीतियां दलित विरोधी हैं। बसपा ने कई बार संसद में आरक्षण का मुद्दा उठाया हैं। कांग्रेस-बीजेपी ने आरक्षण के मुद्दे को नहीं माना। इसलिए दलित वर्ग भाजपा के बहकावे मे न आए। दलितों पर अत्याचार को समाज भुला नही सकता।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उच्च जाति के

मायावती ने कहा कि मथुरा, दादरी, मुजफ्फरनगर कांड को लोग कभी भूल नहीं सकते। निजी क्षेत्र में भाजपा आरक्षण नही देना चाहती है।भाजपा शासित राज्यों में निजी कंपनियों को ठेका है। भाजपा बाबा साहब के नाम का प्रयोग कर रही। भाजपा बाबा साहेब और आदर सम्मान नहीं देना चाहती। बाबा साहेब के परिनिर्वाण दिवस पर भाजापा ने विवादित ढांचा गिराया। भाजपा बाबा साहेब के सिद्धांतों की विरोधी है। लोग प्रधानमंत्री के जातिवादी षड़यंत्र के झांसे में न आएं। विरोधी पार्टियां निम्न वर्ग को अपने पैरों पर खड़ा नहीं होने देंगी। वोटों के खातिर नरेंद्र मोदी ने चोला बदल लिया है जबकि वह उच्च जाति के हैं। मोदी ने उच्च लोगों के लिए दलितों का शोषण किया।

बबुआ हमारे चुनाव चिह्न का फ्री में कर रहा प्रचार

मायावती ने कहा कि टिकट के राजस्व से सपा सरकार को भारी राजस्व मिल रहा,सपा अपने परिवार के मनोरंजन के लिए सैफई में मनाती महोत्सव। सरकार जिसे फिजूलखर्ची बताती,वहां रोज सैंकड़ों लोग घूमने पहुंचते,स्मारकों पर खर्च की वसूली के लिए टिकट की व्यवस्था की ऐसी बातें सिर्फ के नासमझ बबुआ ही कर सकता है,बबुआ के बयानों से पार्टी को काफी लाभ मिल रहा। बबुआ के बयानों से हमारे चुनाव चिन्ह का फ्री में प्रचार हो रहा,हाथी के चलने या खड़े रहने की बात कोई अनोखी नहीं। सपा सरकार का सीएम वास्तव में बबुआ है,अपने भाषण में हाथियो का जिक्र करना नहीं भूलता। लगता है कि सपने में भी हाथी बबुआ को परेशान करते।

मुस्लिमों की सुरक्षा बाबा साहेब की देन

कांग्रेस और बीजेपी ने पिछड़े समाज को बांटने की कोशिश की,विरोधी पार्टियां दलितों और पिछड़ों में फर्क पैदा करती हैं। बसपा के शासन काल में लोगों को उनके अधिकार मिले,कांग्रेस ने पिछड़े वर्ग के लोगों का शोषण किया
आजादी के बाद लंबे अरसे तक कांग्रेस सत्ता में रही,कांग्रेस के शासन काल में अधिकारों का पूरा लाभ नहीं मिला। सभी लोगों को बीजेपी,RSS से सावधान रहने की जरूरत,आर्थिक स्थिति मजबूत करने के लिए सभी को एकत्रित होना जरूरी। मुस्लिम समाज के लोगों की सुरक्षा बाबा साहेब की देन,BJP और RSS के लोगों को बाबा साहेब का संविधान पसंद नहीं। संघर्ष के बाद बाबा साहेब ने खुद को काबिल बनाया,बाबा साहब ने लोगों को गुलामी से मुक्त कराने के लिए संघर्ष किया। केंद्र,राज्य सरकार को संविधान के तहत सबको हक देना चाहिए,संविधान के अनुछेद 340 के तहत सरकारों को काम करना चाहिए । विरोधी पार्टियां बाबा साहेब को लेकर भ्रम फैलाती हैं,अंग्रेजों की हुकूमत के दौरान बाबा साहेब ने सबको पहचान दिलाई। अनुछेद 340 के तहत सरकारों को कमीशन का गठन करना चाहिए,कांग्रेस की सरकार ने एससी,एसटी को पूरी तरह आरक्षण नहीं दिया। पदोन्नति मे आरक्षण बसपा के संघर्ष की देन,राज्यसभा से पास बिल,लोकसभा मे अटका,कांग्रेस की लापरवाही से मंडल कमीशन रिपोर्ट लागू नही।

सपा सरकार के आर्थिक फैसलों की होगी जांच

बसपा सरकार में किसी को भी बक्शा नहीं जाएगा,विज्ञापन में खर्च धनराशि की भी जांच करायी जायेगी। बसपा सरकार बनने के बाद प्रदेश मे कानूनराज आएगा। बसपा सरकार मे अपराधियों को जेल भेजा जाएगा, सपा सरकार के आर्थिक फैसलों की होगी जांच होगी। सपा सरकार मे लोगो की FIR थानो मे नही होती दर्ज,आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे बीएसपी की देन,यूपी की जनता सपा सरकार से दुखी और निराश है। सपा सरकार बनने से अबतक चल रहा गुंडाराज,प्रदेश के नेता गरीब,निर्दोषो पर ढा रहे कहर। कांग्रेस ने बाबा साहब को भारत रत्न से नही नवाजा,कांग्रेस के शासन में पिछड़ों पर जुल्म हुए,अल्पसंख्यक भी उपेक्षित किए गए थे। वीपी सिंह सरकार ने शर्ते मानीं तब भाजपा ने समर्थन वापस लिया,समर्थन वापसी से वीपी सिंह की सरकार गिरी थी। बाबा साहेब को भारत रत्न से सम्मानित करने का वादा किया था,मंडल कमीशन की रिपोर्ट को लागू करने का भी किया था वादा। मंडल कमीशन रिपोर्ट के विरोध में बीजेपी ने देश भर में विरोध प्रदर्शन किया,वीपी सिंह की सरकार को बसपा ने 3 शर्तो पर समर्थन दिया था।

मायावती ने कहा कि सपा के षड्यंत्र के तहत 9 अक्टूबर को रैली हादसा हुआ था। हर जिले में विधानसभा स्तर पर कार्यक्रम हो रहे हैं। लाखों की संख्या में पहुंचे लोगों का शुक्रिया, संविधान के निर्माता थे बाबा साहब अंबेडकर, केवल लखनऊ से लाखो की संख्या मे लोग पहुंचे। अंबेडकर पार्क में बसपा सुप्रीमो मायावती ने अंबेडकर की मूर्ति पर पुष्पाजंलि अर्पित किया है। बीआर अंबेडकर के परिनिर्वाण दिवस पर कार्यक्रम पर प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में एलसीडी के माध्यम से मायावती के संबोधन का लाइव प्रसारण किया जा रहा है। मुख्य कार्यक्रम में केवल लखनऊ मंडल व बाराबंकी की 50 से ज्यादा विधानसभा क्षेत्र के प्रत्याशी और समर्थकों बुलाया गया है।

सपा की सार्वजनिक अवकाश सियासत

दलितों को लुभाने के लिए सपा सरकार ने डा.अंबेडकर के परिनिर्वाण दिवस को सार्वजनिक (राजपत्रित) अवकाश घोषित किया है जबकि वर्ष 2012 में सपा सरकार बनने के बाद इस अवकाश को समाप्त कर दिया गया था। उधर, सोमवार को सपा प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव पार्टी मुख्यालय में आहूत गोष्ठी में कहा कि बाबा साहब व लोहिया का लक्ष्य एक था। दोनों ही शोषण विहीन समतामूलक समाजवादी समाज स्थापित करना चाहते थे, जबकि बसपा अध्यक्ष मायावती का बाबा साहब की अवधारणा से लेना-देना नहीं है। सपा सरकार ने सिंचाई शुल्क माफ कर बाबा साहब को सच्ची श्रद्धांजलि दी। परिनिर्वाण दिवस की पूर्व संध्या पर शिवपाल यादव ने पुस्तक ‘लोहिया-अंबेडकर व समाजवाद का विमोचन भी किया।

कांग्रेस गांवों में भी गोष्ठी करेगी

दलितों को लुभाने में जुटी कांग्रेस डा.अंबेडकर की स्मृति में पार्टी मुख्यालय के साथ गांव स्तर पर गोष्ठियां आयोजित करेगी। कांग्रेस की शिक्षा, सुरक्षा, स्वाभिमान यात्राएं भी जारी है। प्रवक्ता वीरेंद्र मदान के मुताबिक डा.अंबेडकर के जीवन पर बनी विशेष फिल्म को प्रदर्शन भी कराया जाएगा। सभी जिला व शहर अध्यक्षों को कार्यक्रम आयोजित कराने के निर्देश दिए है।

भाजपा को हराने की शपथ लेंगे

छह दिसंबर को आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति भाजपा को हराने की शपथ लेगी। संयोजक अवधेश वर्मा ने बताया, परिनिर्वाण दिवस पर पूरे प्रदेश में आठ लाख आरक्षण समर्थक बाबा साहब को श्रद्धांजलि देने के साथ ही भाजपा के सफाये की शपथ लेंगे। संयोजक मंडल प्रात: आठ बजे हजरतगंज स्थित बाबा साहब की प्रतिमा पर एकत्रित होकर लम्बे समय से पदोन्नति बिल पास नहीं कराने के विरोध में भाजपा का उप्र से सफाया करने की शपथ लेंगे।

Courtesy: Jagran.com

Categories: Politics