नोटबंदी के बाद अब तक 11.5 लाख करोड़ रुपये वापस आए, इस हिसाब से तो नहीं हो पाएगा विमुद्रीकरण, बैंकों और एटीएम की लाइन भी नहीं होंगी कम

नोटबंदी के बाद अब तक 11.5 लाख करोड़ रुपये वापस आए, इस हिसाब से तो नहीं हो पाएगा विमुद्रीकरण, बैंकों और एटीएम की लाइन भी नहीं होंगी कम

 

नई दिल्लीः बंद हुए 500 और 1000 के साढ़े ग्यारह लाख करोड़ रुपए के नोट वापस आए. कुल पंद्रह लाख के पुराने नोट बाजार में थे. रिजर्व बैंक के मुताबिक 1000 का नोट वापस लाने पर भी अभी फैसला नहीं.

आरबीआई बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल ने आज नोटबंदी को लेकर अहम आंकड़े जारी किए. जो इस तरह रहे-

उन्होंने बताया कि 6 दिसंबर तक 500 और 1000 के साढ़े ग्यारह लाख करोड़ वापस लिए जा चुके हैं.

उन्होंने ये भी बताया कि अब तक चार लाख करोड़ के नए नोट जारी किए गए हैं.

8 नवंबर के दिन देश में करीब 15 लाख करोड़ के 500 और 1000 के पुराने नोट थे.

1000 रुपए का नया नोट लाने पर अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है.

आरबीआई ने कहा कि फिलहाल नोट जमा रखने की आखिरी तारीख 30 दिसबंर ही तय है. अगर फिर भी कुछ लोग नोट जमा करने में असफल रहते हैं तो आरबीआई के स्पेशल सेंटर पर जाकर नोट जमा करा सकते हैं. हालांकि उन्हें तक नोट जमा ना करा पाने का कारण बताना होगा.

रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर आर गांधी ने कहा कि नोटबंदी के बाद करीब 11.5 लाख करोड़ के पुराने नोट वापस आए, कुल पंद्रह लाख के पुराने नोट बाजार में थे. नोटबंदी के बाद 4 लाख करोड़ के नए नोट जारी किए गए हैं. फिलहाल जो आंकड़े रिजर्व बैंक ने जारी किए हैं उसके मुताबिक ऐसा लगता नहीं कि बैंकों और एटीएम पर लाइनें जल्द खत्म होनेवाली हैं.

विशेषज्ञों की मानें तो इस हिसाब से विमुद्रीकरण का कोई मतलब ही नहीं रह जाएगा।

Courtesy: ABP

Categories: Finance