राहुल बोले- नोटबंदी देश के इतिहास में सबसे बड़ा स्कैम, मैं संसद में बोलूंगा तो मोदीजी बैठ नहीं पाएंगे

राहुल बोले- नोटबंदी देश के इतिहास में सबसे बड़ा स्कैम, मैं संसद में बोलूंगा तो मोदीजी बैठ नहीं पाएंगे

नई दिल्ली. विंटर सेशन में नोटबंदी पर लगातार हंगामा जारी है। शुक्रवार को संसद के दोनों सदनों की कार्यवाही के दौरान हंगामा हुआ। लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही 2 बार स्थगित करनी पड़ी। इस बीच, राहुल गांधी ने सदन से बाहर कहा, ”नोटबंदी हिंदुस्तान के इतिहास का सबसे बड़ा स्कैम है। मुझे बोलने नहीं दिया जा रहा है। मैं पूरी बात रखूंगा कि कैसे और किसे फायदा पहुंचाने के लिए ऐसा किया गया। बोलूंगा तो मोदीजी बैठ नहीं पाएंगे वहां।” बता दें कि नोटबंदी पर राज्यसभा में चर्चा शुरू हो चुकी है, लेकिन पूरी नहीं हुई है। हंगामे के चलते लोकसभा 14 दिसंबर तक के लिए स्थगित हो गई। सरकार ने कहाजनता का पैसा बर्बाद करने के लिए माफी मांगे विपक्ष
– लोकसभा में भी नोटबंदी पर चर्चा हो सकती है, लेकिन कांग्रेस वोटिंग वाले नियम के तहत चर्चा की मांग कर रही है।
– कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, ”नोटबंदी से लोगों को जो तकलीफ हो रही है, उस पर हम चर्चा के लिए तैयार हैं।”
– वहीं, सरकार की ओर से मंत्री अनंत कुमार ने कहा, ”विपक्ष एक बहुमत वाले सदन को चलने नहीं दे रहा है।”
– ”16 दिन का वक्त बर्बाद किया गया। जनता का पैसा बेकार गया। विपक्ष को जनता से माफी मांगनी चाहिए।”

– वहीं, राज्यसभा में सीताराम येचुरी ने कहा, ”सरकार को मानना ही पड़ेगा कि यह देशद्रोही निर्णय है।” इससे पहले अपोजिशन के नेताओं ने मीटिंग की।

नायडु ने कहावोटिंग 2014 में हो चुकी है
– वोटिंग वाले नियम के तहत लोकसभा में चर्चा की मांग को संसदीय कार्यमंत्री वेंकैया नायडु ने नकार दिया है।
– कहा,”वोटिंग 2014 में हो गया है और टाइम की भी वोटिंग हो गई है।”
– ”सदन में बीजेपी सांसदों की संख्या के चलते राहुल भूकंप की बात कर रहे हैं। ”
– राहुल के खिलाफ लोकसभा चुनाल लड़ने वाली स्मृति ईरानी ने कहा, ”राहुल गांधी अपने बोलने की क्षमता को कुछ ज्यादा समझते हैं। उनके आने से भूकंप का असर कांग्रेस में दिखता है, बाहर नहीं।”

नारेबाजीकिसान विरोधी ये सरकार, नहीं चलेगी

– शुक्रवार को सरकार के खिलाफ राज्यसभा में नारेबाजी हुई।

– अपोजिशन के सांसदों ने नारेबाजी की। ”किसान विरोधी ये सरकार, नहीं चलेगी, नहीं चलेगी।”

प्रेसिडेंट ने दी नसीहतभगवान के लिए संसद चलने दें

– गुरुवार को ही प्रेसिडेंट ने नसीहत दी थी। कहा – सांसद भगवान के लिए संसद चलने दें। जनता उन्हें धरना देने के लिए नहीं, बल्कि कामकाज के लिए चुनकर भेजती है।

– वहीं, कांग्रेस का कहना है कि हम बाधा नहीं पहुंचाना चाहते हैं, लेकिन चर्चा जरूरी है।

Courtesy: Bhaskar

Categories: Politics

Related Articles