नोटबंदी: इन पांच कारणों से साफ होता है नरेंद्र मोदी से बेहतर समझ रखते हैं मनमोहन सिंह

नोटबंदी: इन पांच कारणों से साफ होता है नरेंद्र मोदी से बेहतर समझ रखते हैं मनमोहन सिंह

केंद्र सरकार की नोटबंदी के घोषणा के खिलाफ विपक्ष आक्रामक है। हालांकि कांग्रेस इस एलान का समर्थन तो कर रही है लेकिन वह सरकार से जवाब मांग रही है। साथ ही उसका सवाल नोटबंदी के लागू होने के तरीके पर है। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पहले राज्‍य सभा में और फिर एक अखबार में कॉलम लिखकर बताया कि कैसे 500 और 1000 रुपये के नोटों को बंद करने के फैसले से भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था को नुकसान झेलना होगा। मनमोहन ने वर्तमान सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, ”यह मानना खुद की पीठ थपथपाने वाली बात होगी कि एक व्‍यक्ति के पास सारे उपाय हैं और पुरानी सरकार कालेधन को लेकर केवल भावुक रहीं। ऐसा नहीं होता।” अपने कॉलम में उन्‍होंने कई अहम सवाल उठाए। मनमोहन की अर्थशास्त्री के रूप में काबिलियत का लोहा पूरी दुनिया मानती है। आइए जानते हैं वे पांच कारण जो यह साबित हैं कि वर्तमान स्थिति के बारे में मनमोहन सिंह को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से ज्‍यादा समझ है-

नकद लेनदेन तर्कसंगत है: मनमोहन ने कहा, ”भारतीय नकद कमाते हैं, नकद में लेनदेन करते हैं और नकद में ही बचत करते हैं, सभी जायज तरीके से।” उन्‍होंने देश में अभी भी लाखों लोग नकद पर आश्रित हैं। ऐसा लगता है कि पुराने नोटों को बैन करने का फैसला यह सोचकर लिया गया कि सारा नकद काला धन है और सारा काला धन नकद में ही है। यह सच से दूर है।

बेहिसाब सं‍पत्ति केवल नकद में इकट्ठी नहीं होती: काला धन बरसों से इकट्ठा किया जाता है। लेकिन काला धन रखने वाले लोग अपना पैसा केवल नकदी में नहीं रखते हैं। वे इसे जमीन, सोना, फोरेन एक्‍सचेंज के रूप में भी रखते हैं। केवल नकदी पर कार्रवाई करने से वास्‍तविक दोषियों पर खास असर नहीं होगा। लेकिन इससे बाकी लोगों पर बुरा असर होगा।

करेंसी को बदलना बड़ी चुनौती: इस तरह के बड़े बदलाव केवल एक रात में नहीं होते हैं। मनमोहन ने कहा, ”करोड़ों रुपये के पुराने नोटों को नए नोटों से बदलना विशाल काम है।” उन्‍होंने कई देशों का उदाहरण देते हुए बताया कि वहां पर किस तरह से बदलाव हुए हैं। देश में वर्तमान में अराजकता की स्थिति है। लोग लाइनों में लगने से मर रहे हैं। मनमोहन के अनुसार यह सब जल्‍दबाजी में लिए गए फैसले के चलते हुआ है।

Courtesy:Jansatta 

Categories: Finance

Related Articles