माया ने किया मोदी पर वार, कहा- रैली में भाड़े पर लाई गई भीड़, अपना रोना रोते हैं पीएम

माया ने किया मोदी पर वार, कहा- रैली में भाड़े पर लाई गई भीड़, अपना रोना रोते हैं पीएम

लखनऊ.खराब मौसम के चलते पीएम मोदी बहराइच में होने वाली रैली में नहीं पहुंच पाए, जिसके बाद उन्होंने मोबाइल से रैली को संबोधित किया। इसके बाद बसपा सुप्रीमो मायावती ने मोदी की रैली पर पलटवार करते हुए कहा कि रैली में आई भीड़ भाड़े पर लाई गयी थी। उन्होंने भाजपा की हुई परिवर्तन रैली को फ्लॉप बताते हुए कहा कि पहले की इनकी रैलियों की तरह ही इस बार भी जिले के बाहर के भाड़े के लोगों की और टिकटार्थियों द्वारा स्वार्थ की ही भीड़ इकट्ठा हुई।
पुरानी बातें ही दोहराई गयी
मायावती ने कहा पीएम ने रैली में एक बार फिर पुरानी बाते ही दोहराई है।
उन्होंने कहा पुरानी बाते सुनकर लोगों को निराश होना पड़ा।
उन्होंने कहा मोबाइल से रैली संबोधित कर पीएम ने सिर्फ औपचारिक्‍ताएं ही पूरी की हैं।

उलटा चोर कोतवाल को डांटे
मायावती ने कहा मोदी कहते हैं कि हमें संसद में बोलने नहीं दिया जाता इसलिए जनसभा में बोलते हैं।
उन्होंने कहा यह बिलकुल उसी तरह है कि उल्टा चोर कोतवाल को डांटे।
माया ने कहा यह वास्तव में सरासर गलत बयानी है। देश के प्रधानमंत्री को इस प्रकार से रोना-धोना करना व उस माध्यम से जनता को वरगलाने का प्रयास करना थोड़ा भी शोभा नही देता है।

समस्या दूर करने की बजाय पीएम रोते हैं
मायावती ने कहा कि सरकार द्वारा 500 व 1000 रुपए की नोटबन्दी का फैसला 90 प्रतिशत ईमानदार देशवासियों के लिए एक गम्भीर समस्या बन गयी है।
लेकिन पीएम इस समस्या को जल्दी दूर करके लोगों को राहत पहुंचाने के बजाय अपना ही रोना रोते रहते हैं।
लोगों की शिकायत यह रही है कि पीएम नरेन्द्र मोदी संसद का सत्र जारी रहने के बावजूद अक्सर संसद के बाहर ही बयानबाज़ी करते हैं और इस प्रकार संसद का अपमान करते हैं।
उन्होंने कहा कि पीएम के नोटबन्दी का फैसला खोदा पहाड़ और निकली चुहिया की ही तरह साबित हुआ है।

भाजपा से सावधान रहे जनता
मायावती ने कहा कि भाजपा, पीएम और उनके केन्द्रीय मंत्रियों द्वारा लगातार दौरे करके छोटी से छोटी योजनाओं का शिलान्यास व अनेकों प्रकार की जो घोषणायें की जा रही हैं। यह सब एक छलावा है।
वास्तव में वे सब लोकसभा आमचुनाव की तरह ही, ज़्यादातर को चुनाव के बाद ठण्डे बस्ते में डाल दिया जाएगा।

Courtesy: Bhaskar.com

Categories: Politics