निर्भया कांड के चार साल बाद भी नहीं बदला हाल, हर बरस दिल्ली तोड़ती गई रेप का अपना ही पिछला रिकॉर्ड

निर्भया कांड के चार साल बाद भी नहीं बदला हाल, हर बरस दिल्ली तोड़ती गई रेप का अपना ही पिछला रिकॉर्ड

निर्भया कांड को चार साल बीत चुके हैं। लेकिन दिल्ली अब भी लड़कियों के लिए सुरक्षित नहीं हो पाई है। इतने बड़े स्तर पर प्रदर्शन होने के बावजूद अभी भी कुछ नहीं बदला है। वहीं रेप की संख्या भी पिछले सालों में लगातार बढ़ रही है। अगर आंकड़ों की बात की जाए तो 2012 में 706 रेप हुए थे। 2013 में यह संख्या 1,636 पर पहुंच गई। 2014 में मामले और बढ़े और संख्या 2,166 हो गई। 2015 में मामलों के बढ़ने का प्रतिशत भले ही -5 प्रतिशत रहा लेकिन मामलों की संख्या 2,199 हो गई। वहीं 2016 में जिसके अभी भी 15 दिन बचे हुए हैं उसमें 1,981 मामले सामने आ चुके हैं।

इंडियन एक्सप्रेस को इस बात की पड़ताल करते हुए एक और चौंकाने वाली बात पता चली। दरअसल दिल्ली में अमन विहार के इलाके में मामले लगातार बढ़ रहे हैं। जिनके पीछे इलाके के सुनसान होने की बात सामने आ रही है। पुलिस ने इलाके के बारे में बात करते हुए कहा, ‘बसों में रेप करने वाले दिल्ली के अलग-अलग इलाके के होते हैं लेकिन वह ऐसी घटना को अंजाम देने के लिए अमन विहार को ही चुनते हैं क्योंकि यहां की सड़कों पर अंधेरा रहता है, जमीनें खाली पड़ी हैं।’ जहां 2012 में अमन विहार में रेप के कुल 8 मामले दर्ज हुए थे वहीं 2016 में अबतक अमन विहार में रेप के 60 मामले दर्ज हो चुके हैं। यानी एक हफ्ते में एक से ज्यादा।

अमन विहार के जो मामले सामने आते हैं उनमें से 60 प्रतिशत केस में लड़की नाबालिग होती है। 2012 में वहां से लगभग 157 बच्चे किडनैप किए गए थे। जिनमें से कुल 44 को ही ढूंढा जा सका। जुर्म करने वालों में से 87 प्रतिशत लोग गरीबी रेखा से नीचे होते हैं। 88 प्रतिशत दोषी ऐसे होते हैं जो कि 10वीं क्लास तक ही पढ़े होते हैं।

Courtesy:Jansatta

Categories: India