तीसरे ही मैच में करुण नायर का तिहरा शतक, सहवाग के बाद दूसरे भारतीय

तीसरे ही मैच में करुण नायर का तिहरा शतक, सहवाग के बाद दूसरे भारतीय

चेन्नई: टीम इंडिया ने चेन्नई के एमए चिदंबरम स्टेडियम में सीरीज के पांचवें और अंतिम मैच के चौथे दिन करुण नायर (Karun Nair) के तिहरे शतक की बदौलत इंग्लैंड पर पहली पारी में 282 रन की बढ़त हासिल कर ली है. जवाब में इंग्लैंड ने दूसरी पारी में बिना किसी नुकसान के 2 रन बना लिए हैं. टीम इंडिया ने चायकाल के बाद 7 विकेट पर 759 रन बनाकर पारी घोषित कर दी. करुण नायर (303 रन, 32 चौके, 4 छक्के) नाबाद लौटे. नायर ऐसे पहले भारतीय बन गए हैं, जिसने अपने पहले ही शतक को तिहरे शतक में बदला है, वहीं विश्व में वह सर गैरी सोबर्स (365 रन नाबाद, 1958) और बॉब सिम्पसन (311 रन, 1964) के बाद तीसरे बल्लेबाज हैं, जिसने यह कमाल किया है. टीम इंडिया की ओर से तिहरा शतक लगाने वाले वह वीरेंद्र सहवाग के दूसरे भारतीय हैं. नायर ने पहले 100 रन 185 गेंदों में, दूसरे 100 रन 121 गेंदों में और तीसरे 100 रन महज 85 गेंदों में बनाए. टीम इंडिया ने टेस्ट मैचों का अपना एक पारी का सबसे बड़ा स्कोर बना दिया है. इससे पहले उसका सर्वोच्च स्कोर 726 रन श्रीलंका के खिलाफ था.

नायर ने वीवीएस लक्ष्मण के 281 रनों के रिकॉर्ड (कोलकाता टेस्ट, विरुद्ध ऑस्ट्रेलिया) को पीछे छोड़ दिया है. नायर ने 308 गेंदों में करियर का पहला दोहरा शतक लगाया था. इससे पहले नायर (Karun nair) ने 185 गेंदों में करियर का पहला टेस्ट शतक पूरा किया, वहीं अश्विन ने करियर की 10वीं फिफ्टी पूरी की. अश्विन 67 रन बनाकर स्टुअर्ट ब्रॉड का शिकार बने. उन्होंने नायर के साथ 181 रनों की साझेदारी की. रवींद्र जडेजा ने 55 गेंदों में 51 रनों (एक चौका, दो छक्के) की पारी खेली. इंग्लैंड की ओर से स्टुअर्ट ब्रॉड ने दो विकेट, जबकि मोईन अली, आदिल राशिद, लियाम डॉसन और बेन स्टोक्स ने एक-एक विकेट लिया है.

कांबली-सरदेसाई के बाद तीसरे भारतीय
चायकाल के बाद करुण नायर ने 195 से रन से आगे खेलना शुरू किया और तीसरे और अंतिम सत्र के दूसरे ओवर की पहली ही गेंद पर कवर बाउंड्री पर चौका लगाकर अपना पहला दोहरा शतक पूरा किया. इसके लिए उन्होंने 308 गेंदों का सामना किया और  23 चौके व एक छक्का लगाया. गौरतलब है कि रविवार को लोकेश राहुल एक रन से दोहरा शतक चूक गए थे और 199 रन पर आउट हो गए थे. नायर से पहले टीम इंडिया की ओर से विनोद कांबली (224 रन) और दिलीप सरदेसाई (200 नाबाद) ने करियर के पहले शतक को दोहरे शतक में बदला था. नायर ने पहले शतक को दोहरे शतक में बदलकर सबसे बड़ा स्कोर बनाने वाले भारतीय होने के मामले में विनोद कांबली को पीछे छोड़ दिया है. कांबली ने 224 रनों की पारी खेली थी, जबकि नायर उनसे आगे निकल गए हैं.

नंबर पांच पर या नीचे आकर दोहरे शतक वाले धोनी-लक्ष्मण के बाद तीसरे भारतीय
पांचवें या उससे नीचे के क्रम पर टेस्ट मैचों में दोहरा शतक बनाने वाले करुण नायर मात्र तीसरे भारतीय बल्लेबाज हैं, उनसे पहले एमएस धोनी (MS Dhoni) और वीवीएस लक्ष्मण (VVS Laxman) ने ऐसा किया था. धोनी ने तो चेन्नई में ही ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 224 रनों की पारी खेली थी.

किसी सीरीज में यह नौवीं बार हुआ है, जब टीम इंडिया की ओर से दो दोहरे शतक लगे हैं. गौरतलब है कि इस सीरीज में विराट कोहली भी दोहरा शतक लगा चुके हैं.

टीम इंडिया के लिए यह सीरीज इसलिए भी खास रही, क्योंकि उसने टॉस हारने के बावजूद सीरीज में चार बार 400 से अधिक का स्कोर बनाया. इससे पहले टेस्ट इतिहास में कोई भी टीम किसी सीरीज में टॉस हारने के बाद अधिकतम तीन बार ही ऐसा कर पाई थी. इसके साथ ही किसी सीरीज में ऐसा चौथी बार हुआ है, जब किसी टीम के छह बल्लेबाजों ने शतक लगाए हैं. टीम इंडिया के लिए इससे पहले यह मौका वेस्टइंडीज के खिलाफ 1978-79 की घरेलू सीरीज में आया था.

चाय तक : नायर-अश्विन की शतकीय साझेदारी
लंच के बाद भी करुण नायर ने अपनी शानदार बल्लेबाजी जारी रखी. उनका साथ टीम इंडिया के सबसे भरोसेमंद स्पिनर आर अश्विन ने दिया, जो गेंद और बल्ले दोनों से लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं. दोनों ने टीम को इंग्लैंड के स्कोर 477 रन के पार पहुंचाया. दोनों के बीच शतकीय साझेदारी हो चुकी है. अश्विन ने 116 गेंदों में करियर की 10वीं फिफ्टी पूरी की. हालांकि इस बीच नायर कई बार लकी भी रहे, जब अंपायर ने जोरदार अपीलें नकार दीं और इंग्लैंड के पास कोई रीव्यू भी नहीं बचा था. अश्विन को चायकाल से थोड़ी देर पहले 54 के निजी स्कोर पर अंपायर ने आउट करार दिया. फिर उन्होंने रीव्यू लिया और गेंद न तो बैट में लगती दिखी और न ही विकेटों पर, फिर क्या था अश्विन बच गए. नायर और अश्विन ने इंग्लैंड को चाय तक कोई सफलता हासिल नहीं करने दी और 147 रन की साझेदारी कर ली. चायकाल तक टीम इंडिया ने 5 विकेट पर 582 रन बना लिए. नायर 195 रन और अश्विन 54 रन पर नाबाद लौटे. लंच और चाय के बीच 119 रन बने.

 

लंच तक : नायर का पहला टेस्ट शतक, विजय लौटे
टीम इंडिया ने सुबह चार विकेट पर 391 रन से आगे खेलना शुरू किया. रविवार के नाबाद बल्लेबाज करुण नायर और मुरली विजय ने पारी को आगे बढ़ाया. दोनों के बीच 63 रनों की साझेदारी हुई. इस बीच करुण नायर ने बेन स्टोक्स की गेंद पर चौका लगाकर 185 गेंदों में करियर का पहला शतक पूरा किया. नायर ने अपनी शतकीय पारी में 8 चौके और एक छक्का लगाया. हालांकि नायर के शतक पूरा करने के कुछ ही देर बाद मुरली विजय एकाग्रता खो बैठे और 29 रन पर लिया डॉसन की विकेटों पर लग रही गेंद को पैड अड़ा बैठे और अंपायर ने आउट करार दिया. इस प्रकार टीम इंडिया ने 435 रन पर अपना पांचवां विकेट खो दिया. हालांकि अश्विन ने नायर का भरपूर साथ निभाया और 28 रन जोड़ते हुए लंच तक कोई और विकेट नहीं गिरने दिया. लंच के समय टीम इंडिया का स्कोर 5 विकेट पर 463 रन रहा और करुण नायर (122) और आर अश्विन (9) नाबाद रहे. टीम इंडिया 14 रन पीछे रही.

तीसरे दिन की मुख्य बातें : राहुल दोहरा शतक चूके
चौथे दिन के खेल में लगभग 8 ओवर ही बाकी थे कि लोकेश राहुल (Lokesh Rahul) एक रन से दोहरे शतक से चूक गए. उन्होंने 311 गेंदों पर 199 रन बनाए. राहुल ने अपनी पारी में 16 चौके और 3 छक्के जड़े. उन्होंने 171 गेंदों में करियर का चौथा शतक लगाया, जबकि 96 गेंदों में दूसरी फिफ्टी पूरी की. नायर (Karun Nair) के साथ राहुल ने 161 रनों की साझेदारी की.

राहुल ने कुंदरन और शास्त्री को पीछे छोड़ा
राहुल दोहरे शतक के अलावा एक और मामले में भी अनलकी रहे और सुनील गावस्कर का भारतीय रिकॉर्ड तोड़ने से चूक गए. वह इंग्लैंड के खिलाफ टीम इंडिया के ओपनर के रूप में एक पारी के लिहाज से अब तक के टॉप स्कोरर बन सकते थे, लेकिन 199 रन पर ही आउट हो गए. उनसे ऊपर सुनील गावस्कर (221 रन, ओवल) हैं. हालांकि राहुल ने इस मामले में बीके कुंदरन (192 रन, चेन्नई), रवि शास्त्री (187 रन, ओवल), वीनू मांकड़ (184 रन, लॉर्ड्स) और गौतम गंभीर (179 रन, मोहाली) को पीछे छोड़ दिया.

kl rahul angry bcci

दोहरा शतक नहीं बना पाने से हताश लोकेश राहुल ने बैट जमीन पर दे मारा (फोटो: BCCI)


दिन के खेल की अन्य उपलब्धि लोकेश राहुल (Lokesh Rahul) और पार्थिव (Parthiv Patel) के बीच 152 रनों की साझेदारी रही. पार्थिव पटेल (71 रन, 7 चौके) ने नियमित ओपनर मुरली विजय की जगह जिम्मेदारी संभालते हुए टीम को शानदार शुरुआत दी. इसी वजह से उनके बाद आए भारतीय बल्लेबाज चढ़कर खेल सके. हालांकि कप्तान विराट कोहली (15) और चेतेश्वर पुजारा (16) तो राहुल के साथ छोटी-छोटी साझेदारियां करके ही लौट गए, लेकिन नायर ने राहुल का भरपूर साथ दिया.

राहुल का भारत में टॉप स्कोर
इस शतक से पहले लोकेश राहुल का भारतीय मैदानों पर सर्वोच्च स्कोर 38 रन था. उन्होंने 20.8 के औसत से यहां कुल 104 रन बनाए थे, जबकि वह विदेशी धरती पर तीन शतक लगा चुके हैं. राहुल ने पहले विकेट के लिए पार्थिव पटेल (71) के साथ 152 रन की साझेदारी की. भारतीय बल्लेबाजी के लिहाज से 31 पारियों के बाद यानी 32वीं पारी में पहले विकेट के लिए शतकीय साझेदारी हुई. इससे पहले ओपनिंग साझेदारी में टीम इंडिया की ओर से 24.72 के औसत से रन बने थे, जिनमें पांच बार 50 से अधिक की साझेदारी हुई थी.

दूसरे दिन के खेल की मुख्य बातें
टीम इंडिया ने दूसरे दिन इंग्लैंड को जल्दी आउट करने के लिए खूब संघर्ष किया. हालांकि उसे इसमें चायकाल के बाद ही सफलता मिल पाई. जब दिन की शुरुआत में आर अश्विन ने दिन की पांचवीं ही गेंद पर शुक्रवार के नाबाद बल्लेबाज बेन स्टोक्स (5) को पैवेलियन लौटाया, तो लगा कि भारत जल्दी ही उनको समेट देगा, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया. फील्डिंग के दौरान रवींद्र जडेजा और आदिल राशिद की भिड़ंत भी हो गई. संयोग से किसी को बी चोट नहीं आई. इंग्लैंड की पारी लंबे इंतजार के बाद 477 रन पर सिमटी. डेब्यू टेस्ट खेल रहे लियाम डॉसन 66 रन बनाकर नाबाद लौटे. टॉप स्कोरर मोईन अली 146 रन रहे, वहीं जो रूट ने 88 रन बनाए. टीम इंडिया के लिए रवींद्र जडेजा ने 3, ईशांत शर्मा और उमेश यादव ने 2-2 विकेट, वहीं आर अश्विन और अमित मिश्रा ने एक-एक विकेट लिया. इंग्लैंड के जो रूट और जॉनी बेयरस्टॉ ने पहले दिन एक वर्ल्ड रिकॉर्ड की भी बराबरी कर ली थी. दिन का खेल खत्म होने तक टीम इंडिया ने 60 रन बनाए. लोकेश राहुल 30 रन और पार्थिव पटेल 28 रन पर नाबाद लौटे. इंग्लैंड के स्पिनर लियाम डॉसन और मोईन अली कोई प्रभाव नहीं डाल सके और उन्हें खाली हाथ लौटना पड़ा.

पहले दिन के खेल का अपडेट
इंग्‍लैंड ने टॉस जीतने के बाद पहले दिन जमकर बल्लेबाजी की. कप्तान एलिस्टर कुक और कीटन जेनिंग्स के जल्दी आउट होने के बाद जो रूट और मोईन अली ने तीसरे विकेट के लिए 146 रन की साझेदारी करके स्थिति को संभाल लिया. मोईन ने जॉनी बेयरस्‍टॉ (49) के साथ चौथे विकेट के लिए 86 रन की साझेदारी की. टीम इंडिया के लिए पहले दिन रवींद्र जडेजा (3 विकेट) ही सबसे कामयाब रहे. एक अन्‍य विकेट ईशांत शर्मा के खाते में गया. रविचंद्रन अश्विन को आज कोई विकेट नहीं मिल पाया. मोइन के टेस्‍ट करियर का यह पांचवां शतक है. इसके लिए उन्‍होंने 203 गेंदों का सामना किया और नौ चौके लगाए. वैसे मोईन ने अपने 120 रनों में अब तक 12 चौके लगाए हैं. इंग्‍लैंड के लिए पहले दिन आउट होने वाले बल्‍लेबाज कीटन जेनिंग्‍स (1), कप्‍तान एलिस्‍टर कुक (10), जो रूट (88) और जॉनी बेयरस्‍टा (49) रहे. जहां जेनिंग्‍स को ईशांत ने पार्थिव पटेल से कैच कराया, वहीं कुक, रूट और बेयरस्‍टॉ के विकेट रवींद्र जडेजा के खाते में गए.

Courtesy:NDTV

Categories: Sports

Related Articles