सीएम की सभा में उपद्रव करने वालों को पकड़ने गए पुलिसकर्मियों को पीटा

सीएम की सभा में उपद्रव करने वालों को पकड़ने गए पुलिसकर्मियों को पीटा

हमीरपुर मुख्यमंत्री की जनसभा के दौरान गुरुवार को हमीरपुर में उपद्रव करने व पुलिस से हाथापाई के मुख्य आरोपी भाकियू जिलाध्यक्ष निरंजन राजपूत की गिरफ्तारी को कानपुर के सजेती थाना क्षेत्र गई पुलिस को रविवार शाम मुंह की खानी पड़ी। पुलिस पर ग्रामीणों ने हमला कर दिया। पथराव के साथ ही जवानों को दौड़ा दौड़ा कर पीटा गया। कई वाहन क्षतिग्रस्त हो गये। इसमें चार थानाध्यक्ष समेत 14 पुलिस कर्मी गंभीर रूप से घायल हो गए। उपद्रव बढ़ता देख कानपुर व हमीरपुर जिले के कई थानों का फोर्स लगाया गया, तब स्थिति नियंत्रण में आयी। पुलिस ने घटनास्थल से करीब एक किमी दूर बरगिया में डेरा डाल दिया है।

कानपुर के सजेती थाना क्षेत्र के लहुरीमऊ गांव के पास नवेली पावर प्लांट का निर्माण कार्य हो रहा है। इसके लिए अधिग्रहीत जमीन के चार गुना मुआवजे व परिवार के एक सदस्य को नौकरी की मांग को लेकर हमीरपुर जिले के भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष निरंजन राजपूत व महिला जिलाध्यक्ष विशेखा राजपूत के नेतृत्व में 21 नवंबर से धरना प्रदर्शन चल रहा है। 15 दिसंबर को यूपी 100 का शुभारंभ को हमीरपुर आए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की सभा में लाठी डंडे लेकर पहुंचे भाकियू नेताओं व किसानों ने जमकर उपद्रव किया था। इस मामले में निरंजन व विशेखा समेत 11 नामजद और दो सौ अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था।

कानपुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 19 नवंबर को रैली में इनके फिर उपद्रव की खुफिया सूचना के बाद पुलिस ने रविवार शाम करीब चार बजे आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए धरनास्थल पर दबिश दी। इसकी भनक लगी तो बड़ी संख्या में लोग लाठी-डंडे लेकर जुट गये और धर्मशाले की छत से पथराव शुरू कर दिया। पुलिस पीछे हटी तो लाठी डंडे लेकर आए किसानों ने पुलिसकर्मियों पर हमला बोल दिया। पथराव कर पुलिस की गाडिय़ों को भी तोड़ डाला। भीड़ में महिलाएं और बच्चे भी शामिल थे। जान बचाकर भाग रहे कई पुलिसकर्मियों के हेलमेट और डंडे, जूते तक छूट गए। हमले में हमीरपुर सदर कोतवाल प्रवेंद्र कुमारसिंह, क्राइम ब्रांच प्रभारी रामाश्रय यादव, कुरारा प्रभारी निरीक्षक अभिमन्यु सिंह, सजेती थाना प्रभारी आद्या प्रसाद वर्मा सहित सिपाही वेद प्रकाश, सत्य प्रकाश, राकेश यादव, सोहन सिद्धार्थ, महिला सिपाही अनामिका, रश्मी, निराली, संध्या राजा, कल्पना व दीपिका घायल हो गए। घायलों को हमीरपुर सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हमीरपुर के पुलिस अधीक्षक अनिल कुमार ङ्क्षसह और जिलाधिकारी उदयवीर सिंह भी घटनास्थल पहुंचे। कानपुर के एसएसपी आकाश कुलहरी, एसपी ग्रामीण व कई थानों का पुलिस बल लेकर पहुंचे। देर रात तक बगरिया के समीप ही अधिकारी रणनीति तैयार करते रहे। कुलहरी ने बताया कि निरंजन राजपूत व अन्य को पकडऩे हमीरपुर पुलिस गई थी, तभी बवाल हुआ। घायल जवानों को देखने बांदा के डीआइजी ज्ञानेश्वर तिवारी भी पहुंचे। उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों से हालात का जायजा भी लिया।

Courtesy: Jagran.com

Categories: Regional