मेरठ में सिंचाई विभाग के इंजीनियर के घर IT डिपार्टमेंट की रेड, छापेमारी में मिले 2 करोड़ 67 लाख रुपए-30 किलो चांदी

मेरठ.सिंचाई विभाग में तैनात एग्जीक्यूटिव इंजीनियर आरके जैन के यहां सोमवार की सुबह इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की टीम ने रेड मारी। इससे सिंचाई विभाग डिपार्टमेंट में हड़कंप मच गया। इनकम टैक्स की टीम ने मेरठ स्थित सरकारी आवास के अलावा गाजियाबाद स्थित वसुंधरा में उनके निजी आवास पर भी छापेमारी की। एग्जीक्यूटिव इंजीनियर के घर से 22 लाख रुपए की करेंसी बरामद हुई है। इसमें 17 लाख रुपए नई करेंसी के 2000 के नोट हैं, जबकि 5 लाख रुपए के 500 व 1000 के पुराने नोट हैं। वहीं, आरके जैन की निशानदेही पर सिंडिकेट बैंक की ईव्ज शाखा के लॉकर खोले गए। इस दौरान 2 करोड़ 67 लाख की रकम और 30 किलो से ज्यादा चांदी बरामद हुई है। टीम ने एक-एक कमरे की ली तलाशी…

इनकम डिपार्टमेंट की टीम सुबह करीब साढ़े 8 बजे संयुक्त आयकर आयुक्त एमके जैन के नेतृत्व में पहुंची।

इनकम टैक्स की टीम ने स्थानीय पुलिस अधिकारियों से पुलिस फोर्स की डिमांड की।

इसके बाद एसएसपी के निर्देश पर पुलिस लाइन से उन्हें पुलिस फोर्स उपलब्ध कराया गया।

पुलिस फोर्स के साथ इनकम टैक्स की टीम हजारी प्याऊ के पास आरके जैन के सरकारी आवास ए-6 पर पहुंची।

यहां पहुंचते ही टीम ने पूरा मकान में अपने कब्जे में ले लिया। यहां एक-एक कमरे की बारीकी से तलाशी ली गई।

सूत्रों के अनुसार, टीम को आरके जैन के पास आय से अधिक संपत्ति की सूचना मिली थी।

एक टीम उनके सिंचाई विभाग के कार्यालय में पहुंची जबकि एक टीम उनके गाजियाबद में वसुंधरा स्थित आवास पर छापेमारी कर रही थी।

इनकम टैक्स की टीम ने आरके जैन के आॅफिस को वहां के स्टॉफ से बंद रखने के लिए कहा।

आवास की तलाशी के बाद टीम फिर से आरके जैन के आॅफिस पहुंची और आॅफिस खुलवाकर वहां जांच पड़ताल की।

हालांकि, आॅफिस से टीम को जांच पड़ताल के दौरान किसी तरह की नकदी नहीं मिली है।

यहां अच्छी तरह जांच पड़ताल के बाद आॅफिस में ताला लगवाने के बाद टीम ने उसकी चाबी अपने कब्जे में ले ली।

इस दौरान इनकम टैक्स विभाग के संयुक्त निदेशक एमके जैन ने मीडिया को बताया कि आरके जैन के दो लॉकर सीज किए गए हैं। छापेमारी की कार्रवाई अभी चल रही है।

देर रात टीम आरके जैन को उनके आवास से लेकर सिंडीकेंट बैंक पहुंची जहां उनके लॉकर थे।

इस दौरान आरके जैन ने मीडिया को बताया कि बरामद पैसे के बारे में वो कुछ नहीं जानते, सभी पैसे उनके बेटे के हैं।

लॉकर से मिली पुरानी करेंसी और चांदी

देर रात इनकम टैक्स डिपार्मेंट की टीम ने उनके ईव्ज चौराहे से आगे शिवपुरी में स्थित सिंडीकेंट बैंक के लॉकर खुलवाए।

यहां मौजूद दो लॉकरों के अंदर से छापेमारी कर रही टीम को दो करोड़ 40 लाख रुपये की पुरानी करेंसी मिली। ये सभी नोट पुराने 1000 रुपये के नोटों हैं।

इसके अलावा लॉकर में रखी 30 चांदी की र्इंट मिली, जिनका वजन 30 किलो से अधिक बताया जा रहा है।

इतनी बड़ी रकम लॉकर से मिलने के बाद अब तक टीम को गुमराह करने का प्रयास कर रहे आरके जैन चुप्पी साध गए।

फिलहाल इनकम टैक्स डिपार्मेंट की टीम अभी उनसे बरामद नकदी के बारे में पूछताछ कर रही है।

डुप्लीकेट चाबी बनवाई

रेड डालने पहुंची टीम ने आरके जैन के सरकारी आवास में तलाशी के दौरान कई अलमारी खंगाली।

इस दौरान एक अलमारी के ताले बंद मिलने पर उसकी चाबी मांगी गई।

चाबी मिलने पर इस टीम ने डुप्लीकेट चाबी बनाने वाले को बुलवाया।

डुप्लीकेट चाबी बनाने वाले आरिफ नाम के व्यक्ति ने सरकारी आवास पर पहुंच कर चाबी बनवाई।

सूत्रों के अनुसार, आरिफ से तीन डुप्लीकेट चाबी बनवाई गई।

31 जनवरी को होना है रिटायर

इंजीनियर के स्टॉफ ने बताया कि आरके जैन 31 जनवरी को रिटायर्ड हो रहे हैं।

यहां सिंचाई विभाग के मेरठ खंड गंगा नहर कार्यालय में उनकी तैनाती 29 सितंबर 2014 में हुई थी।

नवंबर 2016 में ही उनको इस कार्यालय से हटाकर दूसरे स्थान पर अटैच कर दिया गया था।

इसके विरोध में वह हाईकोर्ट चले गए थे और वहां से स्टे ले आए थे। स्टे मिलने के बाद उन्हें फिर से कार्यालय में बैठने की अनुमति दे दी गई थी।

बताया गया कि सोमवार को ही आरके जैन लखनऊ से वापस लौटे थे।

Courtesy: Bhaskar.com

Categories: Regional

Related Articles