आलोचना करने वालों पर भड़के रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर, कहा- कपड़े उतार दो और नंगे नाचो

आलोचना करने वालों पर भड़के रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर, कहा- कपड़े उतार दो और नंगे नाचो

मीडिया के एक हिस्‍से पर प्रहार करते हुए रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा है कि जो बिना जरूरत बड़-बड़ करते हैं, उन्‍हें उनकी सलाह है कि ‘पब्लिसिटी पाने के लिए वे अपने कतड़े उतारें और नंगे नाचें। उत्‍तरी गोवा के सत्‍तारी में भारतीय जनता पार्टी की एक बैठक के दौरान पर्रिकर ने यह बात कही। सोमवार को हुए इस कार्यक्रम में वह आलोचना की सीमाओं पर बोल रहे थे। उन्‍होंने कहा, ”मुझे अभी भी याद है कि 1968 में वाटरगेट मुद्दे के समय, उसने (एक संपादक) बड़ी संपादकीय सलाह (रिचर्ड) निक्‍सन को लिखी थी। अब, उसका मराठी में लिखा संपादकीय कैसेट निक्‍सन तक पहुंचेगा? वह अमेरिका में है। कुछ लोग अपनी सीमाए नहीं समझते। वे बक-बक करते रहते हैं। मेरे पास उनके लिए कुछ अच्‍छी सलाह है। अपने कपड़े उतारो और नंगे होकर नाचो (कपड़े कढ़ा अनी नगड़े नाचा)।” एक हिंदी अखबार के संपादक के संदर्भ में उन्‍होंने कहा, ”उन्‍हें बेहतर पब्लिसिटी मिलेगी। मैं एक सलाह उन्‍हें देता हूं जो पब्लिसिटी पाने के लिए गालियां देते हैं। यहां एक अखबार था। वह अभी भी है। मैं उसका नाम नहीं लूंगा। उसके एक संपादक थे। वो अंतर्राष्‍ट्रीय स्‍तर के संपादक थे, उन्‍हें बुढ़ापे में यहां लाया गया। उनके अखबार की बिक्री 1000…”

गोवा में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। पर्रिकर चुनाव प्रचार के लिए गोवा के विभिन्‍न हिस्‍सों का दौरा कर रहे हैं। वह 04 दिसंबर को भारतीय नौसेना दिवस के मौके पर पर्रिकर हिस्‍सा लेने नहीं पहुंचे सके थे। ऐसा दूसरी बार हुआ कि जब राजनैतिक कारणों की वजह से रक्षामंत्री पर्रिकर भारतीय सेना के सेवा दिवस कार्यक्रम में शामिल नहीं हो सके। वह इससे पहले एयरफोर्स दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में भी हिस्‍सा नहीं ले पाए थे।

शनिवार (17 दिसंबर) को मनोहर पर्रिकर ने गोवा में एक रैली के दौरान कहा कि नोटबंदी के बाद कुछ नेता भिखारी बन गए हैं। उन्होंने कहा, ‘कुछ लोगों ने गोवा को लूटना ही अपना पेशा बना रखा था। लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गई नोटबंदी के बाद कुछ राजनेता भिखारी हो गए।’ मनोहर पर्रिकर ने दावा किया कि कुछ राजनेताओं को तो दिल का दौरा भी पड़ गया था लेकिन बाद में बताना पड़ा कि दौरा नोटबंदी की वजह से नहीं आया था। पर्रिकर ने कहा कि ऐसे राजनेता फोन से मैसेज कर-करके अपने दोस्तों को कहते हैं कि नोटबंदी की वजह से उन्हें अटैक नहीं आया था।

Courtesy:Jansatta 

Categories: Politics

Related Articles