मोदी बताएं, बीजेपी के खातों में कितना पैसा है – मायावती

मोदी बताएं, बीजेपी के खातों में कितना पैसा है – मायावती

नई दिल्ली
बहुजन समाज पार्टी के अकाउंट में 104 करोड़ रुपये के पुराने नोट जमा होने की जांच के मामले में बीएसपी सुप्रीमो मायवती ने खुद मोर्चा संभाला है। अपने भाई आनंद कुमार के अकाउंट की प्रवर्तन निदेशालय द्वारा जांच के बाद मायावती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। मायावती ने कहा, ‘बीएसपी ने काला धन नहीं जमा किया है और अगर बीएसपी के अकाउंट की जांच हो रही है तो बीजेपी यह भी बताए कि नोटबंदी से पहले और बाद में उसके अकाउंट में कितना पैसा जमा किया गया है।’

मायावती ने नोटबंदी के फैसले की आलोचना करते हुए कहा, ‘अगर बीजेपी नोटबंदी की ही तरह एक-दो और फैसले ले लेती है तो उत्तर प्रदेश में बीएसपी को जीतने से कोई नहीं रोक सकता। बीजेपी खुद ही हार जाएगी।’ मायावती ने कहा कि बीएसपी ने अपने नियमों के मुताबिक ही चलकर एक रूटीन प्रक्रिया के तहत ही पैसे बैंक में जमा कराए हैं। माया बोलीं कि जो लोग पार्टी के मेंबर बनते हैं वे छोटे नोट नहीं बल्कि बड़े नोट में चंदा देते हैं।

‘पूरी ईमानदारी से पैसे जमा कराए’
माया ने कहा, ‘यह पैसा अगस्त के आखिर से आया। उस समय कोई नोटबंदी नहीं हुई थी। मैं अगस्त के आखिर से नवंबर तक उत्तर प्रदेश में रही। दिल्ली नहीं जा सकी। दिल्ली आने पर हिसाब-किताब जांच कर पैसे अकाउंट में जमा करवाने थे। इत्तेफाक से तभी नोटबंदी का फैसला आ गया। यह तो पार्टी का पैसा है और हमारे दफ्तर में जमा है तो क्या उस पैसे को फेंक देंगे? हमने कोई हेरा-फेरी नहीं की। हमारे पास एक-एक पैसे का हिसाब है। हमने पूरी निष्ठा से पैसे जमा कराए।’

बीएसपी की छवि खराब करने की कोशिश
माया ने ईडी की जांच को बीएसपी की छवि खराब करने की कोशिश करार दिया। उन्होंने कहा, ‘बीजेपी के इशारे पर चलकर जिस भी चैनल और अखबार ने रिपोर्ट छापी है, वो बीएसपी की छवि धूमिल कर रहे हैं। तथ्यों को तोड़-मरोड़कर पेश कर रहे हैं। इसी दौरान बीजेपी सहित अन्य पार्टियों ने भी अपना पैसा बैंकों में जमा कराया है लेकिन उनकी चर्चा भी नहीं होती और न ही उनकी खबरें मीडिया में आती हैं। यह केंद्र सरकार की दलित विरोधी मानसिकता नहीं है तो क्या है।’

बीजेपी नहीं चाहती दलित नेता
बीएसपी सुप्रीमो ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान दलित कार्ड भी खेला। माया ने कहा, ‘दलित विरोधी बिलकुल नहीं चाहते कि एक दलित की बेटी के हाथ उत्तर प्रदेश की सत्ता की चाबी आए। बड़े-बड़े धन्नासेठ-उद्योगपति नोटबंदी के फैसले से अभी भी परेशान नहीं नजर आ रहे हैं। बीजेपी में अगर थोड़ी भी ईमानदारी है तो उसको बीएसपी के बैंकों में जमा कराए गए पैसों की जानकारी के साथ-साथ अपनी पार्टी के भी अकाउंट की जानकारी सार्वजनिक करनी चाहिए। इससे बीएसपी के खिलाफ जातिवादी मानसिकता के साथ ही राजनीतिक द्वेष की भी भावना दिखती है।’

‘मेरे भाई ने नियमों का पालन किया’
माया ने अपने भाई का भी बचाव किया। वह बोलीं, ‘मेरे भाई आनंद कुमार पिछले कई सालों से अपना कारोबार कर रहे हैं। उनसे मिली जानकारी के मुताबिक उन्होंने भी आईटी नियमों के अनुसार ही अपने अकाउंट में पैसे जमा कराए हैं लेकिन फिर भी सरकार उसे बवंडर बनाए हुए है। कल से इस खबर को ऐसे पेश किया जा रहा है जैसे यह राशि भ्रष्टाचार से जुड़ी हुई है। मुझे खास सूत्रों से जानकारी मिली है कि बीएसपी में जो भी प्रभावशाली लोग हैं उन्हें शिथिल करने के लिए बीजेपी अपनी सरकारी मशीनरी का इस्तेमाल कर उन्हें परेशान कर सकती है और कुछ को परेशान कर रही है।’

‘ताज प्रकरण में मेरी गलती नहीं’
माया ने ताज प्रकंड में अपना नाम आने पर भी बचाव किया। वह बोलीं, ‘जब भी देश में लोकसभा या उत्तर प्रदेश में विधानसभा के वक्त बीजेपी की सरकार ताज प्रकंड को ऐसे घसीट लाती है जैसे उसमें बीएसपी मुखिया का हाथ हो। केंद्र सरकार एजेंसियों का गलत इस्तेमाल कर रही है। ताज प्रकंड मामले में सच्चाई यह है कि ताज कॉरिडोर का प्रॉजेक्ट ही कुल 170 करोड़ रुपये का पास हुआ। इस दौरान केंद्र में बीजेपी की ही सरकार थी। इस प्रॉजेक्ट के संबंध में मेरे द्वारा कोई निर्देश नहीं दिए गए। मैंने किसी आदेश पर हस्ताक्षर नहीं किए। अगर फिर भी कोई घोटाला हुआ तो उसमें बीजेपी का ही हाथ है।’

‘उत्तर प्रदेश में बनेंगी बीएसपी की सरकार’
माया ने दावा किया कि अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों में उनकी ही पार्टी पूर्ण बहुमत से जीतेगी। माया ने कहा, ‘विधानसभा चुनाव में बीएसपी की सरकार आने जा रही है। इससे बीजेपी एंड कंपनी को साल 2007 के उत्तर प्रदेश चुनाव की तरह ही फायदा कम नुकसान ज्यादा होगा। उस समय भी मेरे खिलाफ आय से ज्यादा संपत्ति का मामला बनाकर पेश किया गया। लेकिन साल 2007 में इन सब आरोपों को नकार के उत्तर प्रदेश की जनता ने मुझे पूर्ण बहुमत दिया था। केंद्र की बीजेपी सरकार बीएसपी के खिलाफ घिनौने हथकंडे अपना रही है।’

प्रवर्तन निदेशालय मायावती के भाई के अकाउंट पर नजर बनाए हुए है। असल में आनंद कुमार का अकाउंट यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के करोलबाग ब्रांच में है। जांच में पता लगा है कि आनंद कुमार के अकाउंट में नवंबर से दिसंबर के बीच 1 करोड़ 43 लाख रुपये जमा हुए हैं। इसमें से 18 लाख 98 हजार के पुराने नोट जमा किए गए हैं। यह पैसे 9 दिसंबर से 16 दिसंबर के बीच जमा हुए हैं। इस बात का भी शक जताया गया है कि बीएसपी और मायावती के भाई के खातों में हवाला लेनदेन के जरिए पैसा पहुंचा।

यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के करोलबाग ब्रांच में ही बीएसपी के अकाउंट में भी 104 करोड़ रुपये के पुराने नोट जमा किए गए हैं। प्रवर्तन निदेशालय के सूत्रों के मुताबिक यह पैसे 2 से 9 दिसंबर के बीच जमा किए गए हैं। सोमवार को ईडी ने यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के करोलबाग ब्रांच में बीएसपी के अकाउंट को छाना। बीएसपी के राजधानी दिल्ली और उससे बाहर भी कई बैंकों में अकाउंट हैं। इसमें पता लगा कि जमा किए गए 104 करोड़ रुपये में से 101 करोड़ रुपये एक हजार के नोट थे और बाकी 500 के पुराने नोट।

Courtesy: NBT
Categories: Politics

Related Articles