नोटबंदी के 50 दिन: सिर्फ 1% ब्लैकमनी ही जब्त कर पाई सरकार, बैंकों में लौटे 14 लाख करोड़

नई दिल्ली. मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले के 50 दिन पूरे हो गए हैं। 15 लाख करोड़ की करंसी चलन से बाहर की गई थी। इसमें से 14 लाख करोड़ रुपए के नए नोट या तो बदले गए या जमा किए गए। नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर को 500-1000 के पुराने नोट बंद करने के जो कारण बताए थे, उनमें ब्लैकमनी रोकना भी एक मकसद था। अलग-अलग एजेंसियों का अनुमान है कि नोटबंदी के वक्त देश में 3 लाख करोड़ की ब्लैकमनी मौजूद थी। वहीं, सरकार के आंकड़े कहते हैं कि अब तक 3100 करोड़ रुपए की ब्लैकमनी देशभर में चली कार्रवाई के दौरान जब्त की गई। इस लिहाज से नोटबंदी के 50 दिन में सरकार महज 1% ब्लैकमनी ही जब्त कर पाई।जानिए नोटबंदी के 50 दिनों में कितने बदले हालात और ब्लैकमनी का पता लगाने के लिए अब क्या कर रही है सरकार…

  1. कितनी ब्लैकमनी सामने आई?
    पहले: नोटबंदी से पहले 17 लाख करोड़ रुपए करंसी चलन में थी। जब 500-1000 के पुराने नोटों को बंद किया गया। 15 लाख करोड़ की करंसी चलन से बाहर हो गई। कोटक सिक्युरिटीज और केयर रेटिंग के अनुमान के मुताबिक, 17 लाख करोड़ में से 3 लाख करोड़ रुपए ब्लैकमनी के रूप में मौजूद थे। उम्मीद थी कि नोटबंदी से इस ब्लैकमनी के बड़े हिस्से का सरकार पता लगा लेगी।
    अब: इनकम टैक्स डिपार्टमेंट और बाकी एजेंसियों की अब तक की कार्रवाई के आंकड़े बताते हैं कि नोटबंदी के बाद 3100 करोड़ रुपए ब्लैकमनी जब्त की गई है। अगर इकोनॉमी में 3 लाख करोड़ रुपए की ब्लैकमनी है तो सरकार की यह जब्ती उसका महज महज एक फीसदी ही है।
  2. कितने पुराने नोट बैंकों के पास लौटे?
    पहले: 86% फीसदी करंसी यानी करीब 15 लाख करोड़ रुपए सर्कुलेशन से बाहर हुए थे।
    अब: 14 लाख करोड़ रुपए बैंकों में डिपॉजिट या एक्सचेंज हो चुके हैं। डिमोनेटाइज हुई करंसी का ये करीब 90% है।
  3. कैश की किल्लत कितनी दूर हुई?
    पहले: 8 नवंबर को 500-1000 के नोट बंद होने पर 86% करंसी बाहर हो गई। शुरुआती दिनों में इकोनॉमी सिर्फ 14% करंसी पर चल रही थी।
    अब:सरकार का कहना है कि डिमोनेटाइज करंसी की आधे से ज्यादा नई करंसी अब तक प्रिंट हो गई है। RTI के एक जवाब के मुताबिक, 7 लाख करोड़ रुपए की नई करंसी प्रिंट गई है। लेकिन 19 दिसंबर तक 4.09 लाख करोड़ रुपए के नए नोट बैंकों को दिए गए थे।
  4. विद्ड्रॉल की लिमिट कितनी बढ़ी?
    पहले: एटीएम से 2000 रुपए निकाल सकते थे। बाद में अपने बैंक के एटीएम से 2500 रुपए निकालने की इजाजत मिली। बैंक के काउंटर से हफ्ते में 10 हजार रुपए निकालने की लिमिट थी। फिर 24 हजार की लिमिट तय की गई।
    अब: एटीएम और बैंक में जाकर पैसा निकालने की विदड्रॉअल लिमिट बरकरार है। सिर्फ शादी जैसी स्थिति में परिवार के किसी एक मेंबर के खाते से 2.5 लाख निकाले जा सकते हैं, लेकिन कई शर्तों के साथ।
  5. छोटे नोटों की क्राइसिस
    पहले : नोटबंदी के बाद 10 नवंबर से 2000 और 500 के नए नोट मिलने शुरू हुए। इनकी तादाद ज्यादा हो गई। 100 रुपए जैसे छोटे नोटों की किल्लत हो गई।
    अब :RBI के मुताबिक दिसंबर के महीने में 100, 50, 20 और 10 रुपए के नए 1.06 लाख करोड़ रुपए के नोट सर्कुलेशन में आए।
    85,000 करोड़ रुपए के 100 के नोट।
    9000 करोड़ रुपए के 50 के नोट।
    6,200 करोड़ रुपए के 20 के नोट।
    5,700 करोड़ रुपए के 10 के नोट।
  6. 50 दिन में 64 नोटिफिकेशन, बार-बार बदलते नियमों से परेशानी
    – नोटबंदी के बाद से अब तक 50 दिनों में 64 बार नोटिफिकेशन जारी किए। इसके अलावा कई बार नियम बदले जिनसे परेशानी हुई।
  7. नोटबंदी के 50 दिनों में क्या बदला?
    – 20 दिसंबर को अरुण जेटली ने कहा कि नोटबंदी के बाद एक महीने में डिजिटल ट्रांजैक्शन में 300 फीसदी का इजाफा हुआ है।
    पहले: 8 दिसंबर तक हर दिन 3.85 लाख डिजिटल ट्रांजैक्शन होते थे।
    अब: 7 दिसंबर तक हर दिन 16 लाख डिजिटल ट्रांजेक्शन होने लगे। यानी डिजिटल ट्रांजेक्शन में 316% की ग्रोथ दर्ज की गई।
  8. सरकार ने डिजिटल पेमेंट्स पर कई तरह के डिस्काउंट दिए
    – नोटबंदी के 30 दिन पूरे होने पर सरकार ने 11 राहतें दीं।
    – पेट्रोल-डीजल के 4.5 करोड़ कंज्यूमर्स को डिजिटल मोड से खरीददारी पर 0.75% डिस्काउंट की घोषणा सरकार ने की। इसी तरह डिजिटल पेमेंट से रेलवे टिकट लेने पर 0.5% डिस्काउंट और 10 लाख तक का एक्सीडेंटर इंश्योरेंस, रेलवे फैसिलिटीज पर 5% डिस्काउंट देने का एलान हुआ।
    – नई ऑनलाइन इंश्योरेंस पॉलिसी और प्रीमियम पर 10% डिस्काउंट की घोषणा की।
    – 2000 तक के सिंगल डेबिट और क्रेडिट कार्ड ट्रांजेक्शन पर सर्विस टैक्स से छूट और टोल प्लाजा पर डिजिटल पेमेंट करने पर 10% की छूट का ऐलान किया।
  9. ब्लैकमनी सामने लाने के लिए सरकार ने खुद बताए रास्ते, सख्ती भी दिखाई
    – सरकार ने लोकसभा में इनकम टैक्स अमेंडमेंट बिल पास कराया। इसके तहत खुद बेहिसाबी आमदनी बताने पर 50% टैक्स और पकड़े जाने पर 85% रकम जब्त करने का प्रावधान किया गया।
    – 31 मार्च तक के लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (PMGKY) का एलान हुआ। इस दौरान आप 50% टैक्स और पेनल्टी के साथ अघोषित आय का खुलासा कर सकेंगे। 25% हिस्सा चार साल ब्लॉक रहेगा।
    – सरकार ने [email protected] पर लोगों से खुद ब्लैकमनी की जानकारी देने को कहा।
  10. IT डिपार्टमेंट ने भेजे 3500 नोटिस
    – सेंट्रल बोर्ड फॉर डायरेक्ट टैक्सेस (CBDT) ने बताया कि नोटबंदी के बाद से इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने 3500 नोटिस भेजे हैं।
    – ये नोटिस नोटबंदी के बाद बैंक में डिपॉजिट की गई रकम के आधार पर जारी किए गए हैं।

Courtesy: Bhaskar.com

Categories: India

Related Articles