आचार संहिता उल्लंघन मामले में साक्षी महाराज को EC का नोटिस, कल देना होगा जवाब

नई दिल्ली. बीजेपी सांसद साक्षी महाराज को चुनाव आयोग ने आचार संहिता उल्लंघन मामले में नोटिस भेजा है। उन्हें 11 जनवरी तक जवाब देना है। साक्षी महाराज ने एक प्रोग्राम में कहा था कि 4 पत्नियां और 40 बच्चे वाले देश की आबादी बढ़ाने के लिए जिम्मेदार हैं। बता दें कि उत्तर प्रदेश में आचार संहिता लागू है। 7 फेज में चुनाव होने हैं। 11 फरवरी को पहले फेज में वोट डाले जाएंगे। महाराज पर दर्ज हुई थी FIR…
– बयान के बाद साक्षी महाराज पर FIR दर्ज कर ली गई थी। बयान पर चुनाव आयोग ने रिपोर्ट भी मांगी थी। साक्षी, उन्नाव से सांसद हैं।
– इलेक्शन कमीशन ने कहा था, ‘पहले डिस्ट्रिक्ट अथॉरिटीज से रिपोर्ट मंगाई जाएगी। इसके बाद तय होगा कि आचार संहिता का वॉयलेशन हुआ या नहीं।’
– कांग्रेस नेता अखिलेश प्रताप सिंह ने कहा, ‘बयान का मकसद नरेंद्र मोदी के वादों से जनता का ध्यान भटकाना है। साक्षी महाराज को संसद और पार्टी से बाहर कर देना चाहिए।’
– बता दें कि 2 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट ने हिंदुत्व के मुद्दे पर दायर कई पिटीशन्स पर सुनवाई करते हुए कहा था कि धर्म, जाति और संप्रदाय के नाम पर नेता वोट नहीं मांग सकते। यह गैर कानूनी है।
– कोर्ट ने कहा था कि ‘चुनाव एक सेक्युलर प्रॉसेस है और इसका पालन किया जाना चाहिए। इंसान और भगवान के बीच रिश्ता अपनी निजी पसंद का मामला है। सरकार को इससे खुद को अलग रखना चाहिए।’
– मामले पर 7 जजों की बेंच सुनवाई कर रही थी।

और क्या बोले थे साक्षी महाराज
– साक्षी महाराज 6 जनवरी को मेरठ में संत समागम में शामिल हुए थे।
– साक्षी महाराज ने कहा कि आबादी बढ़ाने के लिए जिम्मेदार 4 पत्नी और 40 बच्चे वाले हैं।
– “जनसंख्या बढ़ाने के लिए हिंदू जिम्मेदार नहीं है। जनसंख्या पर तभी काबू किया जा सकेगा, जब इस पर कोई सख्त कानून बनेगा।”
– “इस मुद्दे पर सभी दलों को दलगत राजनीति से ऊपर उठकर देशहित में निर्णय लेना होगा।”
– सपा विवाद पर साक्षी महाराज ने कहा कि अब तक जो हिंदू और मुसलमानों को आपस में लड़ा रहे थे, आज उनके खुद के परिवार और पार्टी टूटने के कगार पर है।
– “जनता जान चुकी है कि सपा हर मोर्चे पर विफल हुई है। सपा शासन में गुंडे बदमाश जेल के बाहर होते है, जबकि बीजेपी के शासन में बदमाश जेल के अंदर।”

कांग्रेस ने की शिकायत, सरकार ने पल्ला झाड़ा
– केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा, ‘मैंने अभी तक बयान देखा नहीं है। लेकिन सबको साथ लेकर चलने में हमारा भरोसा है। इस तरह की सोच न तो बीजेपी की है और न ही सरकार की।’
– कांग्रेस नेता केसी मित्तल ने कहा, ‘ये आचार संहिता का वॉयलेशन है। हमने इलेक्शन कमीशन से इस बारे में शिकायत की है।’

Courtesy: Bhaskar.com

 

Categories: India

Related Articles