डोनाल्ड ट्रम्प ने नाटो को गैरजरूरी संगठन बताया, 27 देश नाराज

डोनाल्ड ट्रम्प ने नाटो को गैरजरूरी संगठन बताया, 27 देश नाराज

वॉशिंगटन/बीजिंग.डोनाल्ड ट्रम्प के अमेरिकी प्रेसिडेंट बनने में महज तीन दिन बाकी हैं। वे 20 जनवरी से अमेरिका के 45वें प्रेसिडेंट हो जाएंगे। लेकिन अमेरिका और बाहर उनका विरोध तेज हो गया है। ट्रम्प ने सोमवार को यूरोप के बड़े अखबारों को इंटरव्यू दिए। उन्होंने नाटो (नॉर्थ अटलांटिक ट्रीटी ऑर्गनाइजेशन) को गैरजरूरी बताया और जर्मन चांसलर एंगेला मर्केल के शरणार्थियों के फैसले को लेकर सवाल उठाए। इससे नाटो के सभी 27 सदस्य देशों ने चिंता जताई है। वहीं, चीनी मीडिया ने धमकी दी है कि वे ‘वन चाइना पॉलिसी’ को पलटने की कोशिश न करें। मर्केल ने कहा, हमें अमेरिका की जरूरत नहीं…

– मर्केल ने कहा, “हमें अमेरिका की जरूरत नहीं। यूरोप खुद अपना ध्यान रख लेगा।”

– ट्रम्प का शपथ ग्रहण समारोह 20 जनवरी को होना है।

– ऑफिशियल अनुमान के मुताबिक, इसमें 8 से 9 लाख लोग शामिल होंगे। सारे प्रमुख रास्ते बंद रहेंगे। लेकिन यह नहीं कह सकते कि उनमें ट्रम्प समर्थक कितने होंगे और विरोधी कितने।

– एक्टिविस्ट जॉन लेविस के खिलाफ टिप्पणी करने पर अमेरिका के सिविल राइट्स कार्यकर्ता नाराज हैं।

– वहीं, 18 डेमोक्रेट सांसद शपथ समारोह का बहिष्कार करने का एलान कर चुके हैं।

द टाइम्स को इंटरव्यू में किसके बारे में ट्रम्प ने क्या कहा?

रूस:परमाणु हथियार कम करने समेत कई बढ़िया समझौते करेंगे। बैन लगाने से रूस पर बुरा असर पड़ा है। देखते हैं, उससे कैसे लाभ उठा सकते हैं?
ब्रेग्जिट: ब्रिटेन का बेहद स्मार्ट फैसला।
ब्रिटेन- अमेरिका व्यापार: हम व्यापार सौदों के लिए बड़ी तेजी से कुछ करेंगे।
एंगेला मर्केल:अच्छी नेता, लेकिन लाखों शरणार्थियों को जर्मनी में आने देने का गलत फैसला किया।
यूरोपीय यूनियन: यह मूल रूप से जर्मनी का है। शरणार्थियों के मुद्दे पर गुस्से से भरे बाकी देशों को भी इससे निकल जाना चाहिए।
नाटो: यह गैरजरूरी हो चुका है, लेकिन मेरे लिए बहुत अहम है। दूसरे मेंबर्स को भी इसमें अपना हिस्से का भुगतान करना चाहिए।
ईरान एटमी डील:मैंने जितने समझौते देखे, उनमें सबसे गूंगा समझौता।
इराक युद्ध: यह मधुमक्खी के छत्ते पर पत्थर फेंकने जैसा है।

पलटे ओबामा: कहा- ट्रम्प को कम न समझें

– अब तक ट्रम्प का जमकर विरोध करने वाले बराक ओबामा सोमवार को पलट गए।

– उन्होंने कहा कि ट्रम्प बेहद बदले हुए कैंडिडेट हैं। कोई उन्हें कम न समझे। वे अब देश के 45वें राष्ट्रपति होने जा रहे हैं।

– इससे पहले, चुनाव प्रचार के दौरान ओबामा ने कहा था कि ट्रम्प प्रेसिडेंट और कमांडर इन चीफ बनने के लायक ही नहीं हैं।

– ओबामा अपनी पार्टी की कैंडिडेट हिलेरी क्लिंटन का प्रचार कर रहे थे। हिलेरी हार गईं। अब 20 जनवरी को ओबामा भी रिटायर हो रहे हैं।

सीआईए चीफ की वॉर्निंग: अपने बयानों पर कंट्रोल रखें ट्रम्प

– अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए के चीफ जॉन ब्रेनन ने ट्रम्प से कहा कि उन्हें अपने बयानों पर कंट्रोल रखना चाहिए। साथ ही, रूस के खिलाफ लगाए गए बैन को हटाने को लेकर अलर्ट रहना चाहिए।

– ब्रेनन ने ‘फॉक्स न्यूज संडे’ से कहा कि ट्रम्प ने जिस प्रकार दुनिया को संदेश दिया है, उससे लगता है कि उन्हें अपने देश की खुफिया एजेंसी पर ही भरोसा नहीं है।

फ्रांस ने कहा- यूरोप की एकजुटता होगी ट्रम्प का जवाब

– ट्रम्प ने नाटो को गैरजरूरी बताया और कहा कि सदस्य देश अमेरिका को मदद के बदले धन दें। इससे नाटो के सदस्य देश नाराज हो गए हैं।

– जर्मन विदेश मंत्री फ्रैंक वाल्टर स्टेनमेयर ने कहा कि ट्रम्प के बयान से पूरा यूरोप हैरान है। स्टेनमेयर इस मुद्दे पर सोमवार को ब्रसेल्स में नाटो चीफ जेंस स्टोल्टेनबर्ग से मिले।

– स्टोल्टेनबर्ग ने कहा कि उन्हें यूरोप के प्रति अमेरिकी दायित्व पर पूरा भरोसा है। फ्रांस के विदेश मंत्री ज्यां मार्क एरॉ ने कहा- “ट्रम्प के बयान का बेहतरीन जवाब यूरोप की एकजुटता है।”

Courtesy: Bhaskar.com

Categories: International

Related Articles