जल्लीकट्टू खेल 1-2 दिन में शुरू होगा: CM पन्नीरसेल्वम, रहमान आज उपवास पर

जल्लीकट्टू खेल 1-2 दिन में शुरू होगा: CM पन्नीरसेल्वम, रहमान आज उपवास पर

चेन्नई. जल्लीकट्टू (सांड को काबू करने वाला खेल) पर बैन को हटाने की मांग को लेकर यहां मरीना बीच पर हजारों लोगों का प्रदर्शन जारी है। ऑस्कर विनिंग म्यूजिक डायरेक्टर एआर रहमान भी तमिलनाडु के लोगों के सपोर्ट में आगे आए हैं। उन्होंने ट्वीट कर इसके लिए शुक्रवार को उपवास रखने की बात कही है। इस बीच, सीएम ओ. पन्नीरसेल्वम ने लोगों से प्रोटेस्ट खत्म करने की मांग करते हुए कहा है कि 1-2 दिन में खेल शुरू हो जाएगा। उधर, रजनीकांत समेत साउथ फिल्म इंडस्ट्री के टॉप एक्टर्स भी आज मरीना बीच पहुंच सकते हैं। मोदी ने दखल से कर दिया है इनकार…

– न्यूज एजेंसी के मुताबिक, मरीना बीच पर लोगों का प्रदर्शन बीते मंगलवार रात से शुरू हुआ था, शुक्रवार को इसका चौथा दिन है।

– प्रदर्शनकारियों की संख्या हजारों में पहुंच चुकी है। इनमें स्टूडेंट्स, वकील, एक्टर्स, आर्टिस्ट्स और आईटी प्रोफेशनल्स शामिल हैं।
– लोग खेल पर बैन हटने तक प्रदर्शन जारी रखने पर अड़े हैं। सोशल मीडिया पर भी इसे लेकर कैम्पेन चलाया जा रहा है।
– बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने 3 साल पहले जल्लीकट्टू को जानवरों के प्रति क्रूरता बताते हुए इस पर बैन लगा दिया था।
– सीएम ओ. पन्नीरसेल्वम ने केंद्र सरकार से कानूनी अड़चन दूर करने के लिए अध्यादेश लाने की मांग की है।
– सीएम ने इस सिलसिले में गुरुवार को नरेंद्र मोदी से मुलाकात भी की थी, लेकिन मोदी ने मामला कोर्ट में होने के चलते दखल देने से इनकार कर दिया है।

श्रीश्री और सदगुरु का क्या कहना है?
– श्रीश्री रवि शंकर और सदगुरु जग्गी वासुदेव ने तमिलनाडु के लोगों का सपोर्ट किया है और बैन हटाने की मांग की है।
– श्रीश्री ने कहा है, “जल्लीकट्टू पोंगल का अहम हिस्सा है। पोंगल तमिलनाडु में होली और दिवाली से बड़ा फेस्टिवल है।”
– श्रीश्री ने ट्वीट कर कहा, “मैं जल्लीकट्टू के सपोर्ट में हूं और प्रदर्शनकारियों से आंदोलन को शांति से जारी रखने की अपील करता हूं। धैर्य बनाए रखें, सही तथ्यों के साथ सुप्रीम कोर्ट में अपील की गई है।”
– सदगुरु ने कहा, “जल्लीकट्टू जानवरों को डेडिकेटेड फेस्टिवल है, लोगों को इसे कल्चरल तरीके से मनाना चाहिए। बैन हटना चाहिए।”

आज बंद रहेगा पब्लिक ट्रांसपोर्ट !
– चेन्नई में 22 जनवरी तक 31 कॉलेज और यूनिवर्सिटी बंद कर दिए गए हैं।
– शुक्रवार को पब्लिक ट्रांसपोर्ट भी बंद रहने के आसार हैं।
– आंदोलन में लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है। मरीना बीच पर 50 हजार से 1 लाख के बीच प्रदर्शनकारी जमा हैं।

– रजनीकांत और कमल हासन ने भी बैन हटाने की मांग की है।

असेंबली में प्रस्ताव लाएगी एआईएडीएमके

– इस बीच, एआईएडीएमके चीफ शशिकला ने कहा है कि पाबंदी हटाने के लिए असेंबली के अगले सेशन में प्रस्ताव पारित किया जाएगा।

– कहा जा रहा है कि कोर्ट के बैन को हटाने के लिए राज्य सरकार एग्जीक्यूटिव ऑर्डर निकालेगी।

– सीएम पन्नीरसेल्वम ने लोगों से तब तक के लिए प्रदर्शन खत्म करने की अपील की है।

प्रदर्शनों पर दखल से SC का इनकार

– उधर, सुप्रीम कोर्ट ने जल्लीकट्टू के समर्थन में हो रहे प्रदर्शनों में दखल देने से इनकार कर दिया है।
– चीफ जस्टिस जेएस खेहर और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने कहा कि यह मुद्दा मद्रास हाईकोर्ट के सामने उठाया जा सकता है।
– पिटीशनर की मांग थी कि कोर्ट को सपोर्टर्स को सुरक्षा मुहैया करानी चाहिए।

विवाद की असल वजह क्या है?
– तमिलनाडु में जल्लीकट्टू पर 2014 से बैन है।
– पिछले साल, जयललिता ने केंद्र से जल्लीकट्टू पर बैन हटाने की मांग की थी। केंद्र सरकार ने 8 जनवरी 2017 को एक नोटिफिकेशन जारी कर पाबंदी हटा दी थी।
– इसके बाद, सुप्रीम कोर्ट में केंद्र के फैसले को चैलेंज किया गया। सुप्रीम कोर्ट ने इन याचिकाओं पर फैसला सुरक्षित रखा है।
– राज्य सरकार ने मांग की थी सुप्रीम कोर्ट पोंगल के पहले इस पर डिसीजन दे दे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

Courtesy: Bhaskar.com

Categories: India

Related Articles