गलत कोर्ट मार्शल पर सेना प्रमुख व केंद्र पर पांच करोड़ का जुर्माना

लखनऊ  समाजवादी पार्टी के नए सुप्रीमो अखिलेश यादव के प्रत्याशियों की सूची जारी करते ही बवाल शुरू हो गया है। कल पहली सूची जारी होने के तीन घंटे बाद ही चार प्रत्याशी बदले गए तो पार्टी मुखिया मुलायम सिंह यादव के खास सिपहसलार राज्यसभा सदस्य बेनी प्रसाद वर्मा ने भी बवाल कर दिया है।

मुलायम सिंह यादव की सूची में बेनी प्रसाद वर्मा के बेटे तथा पूर्व मंत्री राकेश वर्मा को बाराबंकी के रामनगर से प्रत्याशी बनाया गया था। अखिलेश यादव ने राकेश वर्मा को बहराइच के कैसरगंज से पार्टी का प्रत्याशी बनाया है। यह बेनी प्रसाद वर्मा को बर्दाश्त नहीं हो रहा है।

राज्यसभा सदस्य व पूर्व केन्द्रीय मंत्री बेनी वर्मा ने स्पष्ट कहा कि राकेश कैसरगंज से चुनाव नहीं लड़ेगे। कहां से चुनाव लड़ेंगे, इस पर वह फिर बोले कि कैसरगंज से नहीं लड़ेंगे। बेनी वर्मा के इस जवाब के कई मायने हैं। बेनी के बंद पत्तों को खुलने का सभी को इंतजार है। निगाहें राजनीतिक उठापठक पर लगी हुई है।

कहीं खुशी तो कहीं गम

निर्वाचन आयोग ने भले ही प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को समाजवादी पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष मान लिया हो, लेकिन पार्टी के भीतर अभी भी लोग उनको इतने बड़े ओहदे के काबिल नहीं मान रहे है। अखिलेश के समाजवादी पार्टी का अध्यक्ष बनने के बाद भले ही समाजवादी परिवार में घमासान थम गया हो मगर बाराबंकी में थमता नहीं नजर आ रहा है।

बेनी बनाम गोप की गर्म होती राजनीति में कल को उस समय नया मोड़ आ गया जब मुख्यमंत्री ने प्रत्याशियों की सूची जारी की। इसमें कैबिनेट मंत्री अरविन्द सिंह गोप को रामनगर से तो बेनी वर्मा के पुत्र राकेश वर्मा को कैसरगंज से टिकट देने की घोषणा की गई। रामनगर से टिकट का दावा ठोंकने वाले बेनी वर्मा के पुत्र राकेश वर्मा व उनके समर्थकों में इसे लेकर निराशा दिखी तो गोप समर्थकों ने जमकर खुशी मनाई।

बेनी बोले राकेश कैसरगंज से चुनाव नहीं लड़ेंगे

टिकट की घोषणा को लेकर जब राकेश वर्मा से सम्पर्क का प्रयास किया गया तो उनका मोबाइल बंद था। लखनऊ में मौजूद राज्यसभा सदस्य बेनी प्रसाद वर्मा ने दूरभाष पर बताया कि राकेश कैसरगंज से चुनाव नहीं लड़ेंगे। उनसे जब पूछा गया कि फिर कहां से लड़ेंगे तो वह बोले कि हमने तो कैसरगंज से टिकट ही नहीं मांगा था। राकेश के चुनाव लडऩे पर वह बोले कि कैसरगंज से नहीं लडग़ें बस।

तो फिर निर्दलीय

कल तक राकेश वर्मा के समर्थक इस बात को डंके की चोट पर कहते देखे गए थे कि अगर टिकट मिला तो भी चुनाव लड़ेंगे, नहीं मिला तो निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे मगर पार्टी नहीं छोड़ेंगे। ऐसे में सांसद बेनी प्रसाद वर्मा का अगला क्या कदम होगा, इस पर सभी की निगाहें टिकी हुई हैं। बेनी प्रसाद वर्मा ने अभी राकेश वर्मा के चुनाव लडऩे को लेकर चुप्पी साध रखी है मगर माना जा रहा है कि वह इतनी जल्दी पीछे नहीं हटने वाले। कल टिकट की घोषणा के बाद भी राकेश व समर्थक रामनगर क्षेत्र में ही प्रचार में देर रात तक जुटे थे। ऐसे में माना जा रहा है कि शीघ्र ही बेनी प्रसाद वर्मा सभी को चौंकाने वाले हैं।

Courtesy: Jagran.com

 

Categories: Regional