अखिलेश ने मुलायम को घर में किया नजरबंद, पूर्व राज्‍यमंत्री को दी जा रही धमकी’

अखिलेश ने मुलायम को घर में किया नजरबंद, पूर्व राज्‍यमंत्री को दी जा रही धमकी’

लखनऊ.लोकदल के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष सुनील सिंह ने यह आरोप लगाया है कि अखिलेश ने राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष बनने के बाद मुलायम को घर में नजरबंद कर दिया है। उन्‍हें किसी से मिलने नहीं दिया जा रहा। साथ ही यह भी आरोप लगाया है कि मुलायम के बेहद करीबी पूर्व राज्यमंत्री मधुकर जेटली को अखिलेश खेमे की ओर से धमकी दी जा रही है। क्‍या कहा सुनील सिंह ने…

– सुनील ने कहा- मुलायम को किसी से मिलने नहीं दिया जा रहा है। उन्‍हें घर में ही नजरबंद कर दिया गया है।
– उनसे मिलने वाले लोगों पर नजर रखी जा रही है। साथ ही कई लोगों को उनसे मिलने नहीं दिया जा रहा।
– इसके अलावा यह भी आरोप लगाया है कि मुलायम के करीबी नेताओं को धमकाया जा रहा है।

अखिलेश ने मुझे धमकाया: मधुकर जेटली
– इस मामले पर मधुकर जेटली ने से कहा- ‘मैं कल लोकदल के अध्यक्ष सुनील सिंह के साथ बैठा था, तब ही मुझे अखिलेश का कॉल आया और उन्होंने मुझे धमकाया।’
– ‘इसको लेकर सुनील सिंह ने चुनाव आयोग को लेटर लिखा है। हालांकि अब यह बीती बात हुई, मैं इस बारे में बात नहीं करना चाहता हूं।’

यह बकवास है- किरणमय नंदा
– इस विवाद पर जब सपा उपाध्‍यक्ष किरणमय नंदा से बात की गई तो उन्‍होंने कहा- यह बिलकुल बकवास बात है। सुनील सिंह इतना जरूरी आदमी नहीं कि उसकी बातों पर ध्यान दिया जाए।

घोषणा पत्र जारी करने नहीं आए थे मुलायम
– समाजवादी पार्टी ने रविवार को जब अपना घोषणा पत्र जारी किया तो काफी इंतजार के बाद भी मुलायम नहीं आए थे।
– कार्यक्रम खत्‍म होने के बाद वो आजम खान के साथ पार्टी दफ्तर पहुंचे, जहां वे ज्‍यादा देर तक नहीं रुके।
– देर रात अखिलेश ने एक फोटो पोस्‍ट की थी, जिसमें मुलायम एक चेयर पैर बैठे थे और पार्टी का मेनिफेस्‍टो उनके हाथ में था।
– इस फोटो में आजम खान, सीएम अखिलेश और उनकी सासंद पत्‍नी डिंपल यादव भी नजर आ रहे थे।

मुलायम की पीसी हुई थी कैंसिल
– बता दें, मेनिफेस्‍टो जारी होने के बाद जब मुलायम अपने आवास पहुंचे तो यहां उनसे मिलने लोकदल के अध्यक्ष सुनील सिंह पहुंचे थे।
– इसके बाद मीडिया में मुलायम की प्रेस कांफ्रेंस की सूचना दी गई, लेकिन कुछ देर बाद ही प्रेस कॉन्फ्रेंस रद कर दी गई।
– साथ ही मुलायम ने अब तक अपना कोई प्रचार कार्यक्रम जारी नहीं किया है और न ही कोई सार्वजनिक अपील की है।
मुलायम को राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष बनने का दिया था न्‍योता
– लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी सुनील सिंह ने सपा के विवाद के बीच मुलायम को लोकदल का राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष बनने का न्‍योता दिया था।
– सुनील सिंह ने उस वक्‍त  को बताया था कि जब 1 जनवरी को अखिलेश-रामगोपाल ने विशेष अधिवेशन बुलाया तो उसी दिन अमर सिंह से उनकी बात हुई थी।
– जिसके बाद उन्‍होंने पहल करते हुए मुलायम सिंह से मुलाकात की। जहां शिवपाल यादव से भी मुलाकात हुई थी।
– सुनील ने बताया था कि अमर सिंह की मौजूदगी में कई दौर की मीटिंग के बाद यह फैसला लिया गया था। इस फैसले के मुताबिक अगर चुनाव आयोग सिंबल फ्रीज करता है तो मुलायम लोकदल के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष बनेंगे। साथ ही उनका खेमा लोकदल से ही चुनाव लड़ेगा।
– इसके लिए लोकदल के वरिष्‍ठ नेता तैयार भी हैं।

लोकदल से हुई मुलायम के राजनीतिक जीवन की शुरुआत
– मुलायम के राजनीतिक जीवन की शुरुआत लोकदल से ही हुई थी।
– मुलायम 1982 में लोकदल के अध्यक्ष बनाए गए थे। वह खुद को लोकदल के संस्थापक चौधरी चरण सिंह का असली वारिस भी बता चुके हैं।
– 1985 में मुलायम ने यूपी में लोकदल को 85 सीटों पर जीत भी दिलवाई थी। इसके बाद ही उन्हें विपक्ष का नेता बनाया गया था।

Courtesy: Bhaskar.com

Categories: Politics

Related Articles