UP Election: कुछ यूं बदल गई गाजियाबाद की पांचों विधानसभा सीटों की तस्वीर

UP Election: कुछ यूं बदल गई गाजियाबाद की पांचों विधानसभा सीटों की तस्वीर

गाजियाबाद (जेएनएन)। यूपी विधानसभा चुनाव 2017 को लेकर बिगुल बज चुका है। उम्मीदवारों के एलान के साथ रोजाना नए-नए समीकरण बन रहे हैं। वहीं, विधानसभा चुनाव में सपा-कांग्रेस गठबंधन के नाम पर चल रहा हाई वोल्टेज ड्रामा रविवार देर शाम समाप्त हुआ तो गाजियाबाद की पांचों विधानसभा सीटों की तस्वीर ही बदल गई। अब यहां फिर से समीकरण बदलते नजर आएंगे।

दूसरी ओर इस गठबंधन के बाद से पूर्व में घोषित समाजवादी प्रत्याशी भी खुद को ठगा सा महसूस कर रहे हैं। उन्हें अपनी मेहनत पर पानी फिरता नजर आ रहा है। इससे पहले यूपी की सबसे बड़ी साहिबाबाद सीट को लेकर एक ओर जहां भाजपा ने सस्पेंस कायम कर रखा था, वहीं सपा-कांग्रेस के गठबंधन की चर्चा लोगों को बार-बार भ्रमित कर रही थी।

वहीं, सपा-कांग्रेस गठबंधन को लेकर संशय इस कदर था कि गठबंधन की वार्ता जारी रहने के बावजूद सपा ने सभी सीटों पर अपने प्रत्याशी भी घोषित कर दिए थे।

गाजियाबाद में सपा का अब क्या होगा?

रविवार शाम हुई गठबंधन की घोषणा के साथ ही सपा ने अपने चार प्रत्याशियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया। साहिबाबाद के साथ ही सपा ने गाजियाबाद, लोनी, मुरादनगर और मोदीनगर सीट कांग्रेस के हवाले कर दी। बता दें कि इससे भी खास बात यह है कि सपा के सभी घोषित प्रत्याशी कलक्ट्रेट से नामांकन फार्म भी ले जा चुके हैं।

गौरतलब है कि मतदाता के लिहाज से यूपी की सबसे बड़ी सीट साहिबाबाद में जहां भाजपा और सपा-कांग्रेस गठबंधन ने ब्राह्मण प्रत्याशियों पर दांव लगाया है, वहीं बसपा और रालोद ने मुस्लिम प्रत्याशियों को मैदान में उतारा है।

गाजियाबाद से भाजपा-बसपा की ओर से वैश्य प्रत्याशी मैदान में हैं, जबकि सपा-कांग्रेस गठबंधन ने यहां से ब्राह्मण प्रत्याशी उतारा है। लोनी से भाजपा और रालोद ने गुर्जर प्रत्याशी उतारे हैं, जबकि बसपा और सपा-कांग्रेस गठबंधन ने मुस्लिम प्रत्याशी घोषित किए हैं।

मुरादनगर से भाजपा से त्यागी, बसपा और रालोद से जाट प्रत्याशी चुनाव लडे़ंगे, जबकि सपा-कांग्रेस गठबंधन ने यहां से सुरेंद्र गोयल के रूप में वैश्य प्रत्याशी उतारा है।

राजपाल त्यागी भाजपा में हुए शामिल

मुरादनगर सीट से छह बार विधायक रहे पूर्व मंत्री राजपाल त्यागी ने रविवार की शाम भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली। याद रहे कि इनके बेट अजीत पाल त्यागी को भाजपा ने मुरादनगर से प्रत्याशी घोषित किया है।

राजपाल त्यागी भाजपा में आने के पूर्व कांग्रेस में रहे हैं। रविवार शाम उन्होंने अपने घर पर भाजपा में शामिल होने की घोषणा की। भाजपा के महानगर अध्यक्ष अजय शर्मा ने उन्हें पार्टी की सदस्यता ग्रहण करा दी। 2014 से राजपाल त्यागी कांग्रेस में थे।

उन्होंने कांग्रेस नेता के रूप में अपने बेटे अजीत पाल को जिला पंचायत अध्यक्ष बनवाया। डेढ़ महीने पहले अजीत ने कांग्रेस को बाय-बाय कहते हुए भाजपा के लखनऊ मुख्यालय में पार्टी की सदस्यता ग्रहण की।

मुरादनगर सीट के लिए भाजपा में पूर्व मंत्री बालेश्वर त्यागी, पिछली बार चुनाव लड़े ब्रजपाल तेवतिया समेत कई दावेदार सक्रिय थे। 2012 में नए सीमांकन के बाद मुरादनगर सीट का स्वरूप बदला है। इस बार इस सीट पर मुकाबला रोचक होगा।

Courtesy: Jagran.com

Categories: Politics

Related Articles