यूपी चुनावः सपा में कल का बूम, अब बागी बम

यूपी चुनावः सपा में कल का बूम, अब बागी बम

जिस समाजवादी पार्टी में वर्ष 2012 के चुनाव में बूम देखने को मिला, वह अब बागी बम बनता जा रहा है। पार्टी से बगावत कर एटा सदर सीट के विधायक आशीष यादव ने इस्तीफा दे दिया और अब वे निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में सपा प्रत्याशी के सामने ताल ठोकेंगे। कासगंज और पटियाली विधानसभा के विधायक टिकट कटने से बुरी तरह क्षुब्ध हैं। इन दोनों की के सच का सामना सपा को करना ही पड़ेगा। पांच साल पहले हुए विधानसभा के चुनाव में एटा व कासगंज की राजनीति में सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव की बिसात हर स्तर पर कामयाब रही हैं। सात सीटों में से छह पर सपाई परचम इसी प्रभाव का नतीजा था। राजनीतिक गलियारों की बात मानें तो मुलायम सिंह का दखल अगर इस बार भी भरपूर होता तो चुनावी समर का नजारा कुछ और होता। बदले परिवेश में समाजवादी पार्टी की कमान अब मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के हाथ में है। पिछले फीडबैक के आधार पर उन्होंने एटा के एक और कासगंज जिले के दो विधायकों का पत्ता साफ कर दिया। इनके कटटर समर्थक टिकट वितरण को लेकर बेहद नाखुश हैं। ये कार्यकर्ता सपा से घोषित किए गए प्रत्याशियों के कितने करीब जाएंगे, यह सोचने की बात है? उधर अमांपुर से मुलायम सिंह राहुल पांडेय को समाजवादी पार्टी की टिकट पर मैदान में उतारना चाहते थे। टिकट कटने के बाद पांडेय ने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में विद्रोह करते हुए नामांकन करा दिया है। एटा के विधायक आशीष यादव ने निर्दलीय चुनाव मैदान में उतर चुके हैं। पटियाली में नजीबा खान जीनत का टिकट कटने से उनके समर्थक भी आक्रोशित है। कासगंज में राज्यमंत्री मानपाल सिंह का टिकट कटने से उनके समर्थक नाराज हैं। खास बात यह है कि सपा ने तीन सीटों पर टिकटों के बदलाव के दौरान तीनों सीट पर समीकरणों को अपने नजरिए से संतुलित करने की कोशिश की है, मगर सपा से लड़ने वाले प्रत्याशियों के लिए इस चुनाव में चुनौती कम नहीं होगी। समाजवादी पार्टी ने एटा सदर से जुगेंद्र सिंह यादव कासगंज से हसरत उल्ला शेरवानी और पटियाली विधानसभा सीट से किरण यादव को टिकट दिया है। इन टिकटों की घोषणा जैसे हुई, तभी से सपा में उथल-पुथल बागी स्वर उभरने लगे थे।’ यादव की जगह यादव मैदान में एटा विधानसभा सीट पर विधायक आशीष यादव इस जंग में निर्दलीय मैदान में उतर चुके हैं। हालांकि सपा इस सीट पर यादव जाति का ही जातीय प्रत्याशी मैदान में उतारकर संतुलन बनाने की भरपूर कोशिश की है। विधायक आशीष यादव की जगह पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष जुगेंद्र सिंह यादव एटा सदर सीट पर सपा प्रत्याशी बनाया हैं।

Courtesy: Jagran.com

Categories: Politics

Related Articles