यूपी विधानसभा चुनाव: मायावती की सलाह यदि मुसलमान बंटे तो भाजपा को फायदा

लखनऊ  बसपा अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने आज चुनावी सभाओं का आगाज करते हुए दलित-मुस्लिम मतदाताओं को ही रिझाने की कोशिश की। भाजपा का खूब भय दिखाते हुए कहा कि मुसलमान बंटे तो भाजपा को ही इसका फायदा होगा। दलितों को चेताया कि भाजपा सत्ता में आ गयी तो आरक्षण खत्म कर देगी। सत्ता में आने पर सपा के कार्यकाल में हुई पुलिस भर्ती की जांच का भी उन्होंने ऐलान किया। बसपा अध्यक्ष ने आज दो चुनावी सभाएं कीं। पहली मेरठ, दूसरी अलीगढ़ में।

 

तीन तलाक और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी व जामिया मिलिया इस्लामिया के अल्पसंख्यक स्वरूप में मोदी सरकार की कथित दखलंदाजी का भी जिक्र किया। समझाया कि सपा अखिलेश व शिवपाल के खेमों में बंट चुकी है। दोनों एक-दूसरे को हराने में जुटे हैं। इससे आपका वोट भी दो खेमों में बंटा तो भाजपा को ही फायदा पहुंचेगा। इन्हें सत्ता मिली तो आरएसएस के एजेंडे पर चलते हुए आरक्षण खत्म कर देंगे। इन्हें सिर्फ बसपा ही रोक सकती है। उन्होंने कहा कि अच्छे दिन वालों के चुनाव बाद बुरे दिन आएंगे। उन्होंने आर्थिक आधार पर मुस्लिमों व गरीबों को आरक्षण देने की बात कही और गेंद भी केंद्र के पाले में खिसका दी। सत्ता में आने पर बेकसूर मुसलमानों की रिहाई का वादा भी किया।

अलीगढ़ के नुमाइश मैदान में करीब 45 मिनट के संबोधन में माया ने सर्वाधिक भाजपा को ही कोसा। कहा, मोदी सरकार ने कालाधन, भ्रष्टाचार व राष्ट्रवाद के नाम पर धन्नासेठों को मालामाल कर दिया। पूरे देश में चर्चा है कि नोटबंदी से 10 महीने पहले ही भाजपा नेताओं व धन्नासेठों का कालाधन ठिकाने लगा दिया गया। अब ध्यान बांटने के लिए संस्कृति, राष्ट्रवाद, सर्जिकल स्ट्राइक व परिवर्तन यात्रा का नाटक कर रहे हैं। गुमराह करने के लिए बाबा साहब के नाम का इस्तेमाल कर रहे हैं। मूर्तियों व स्मारकों से मिली आलोचना से सबक लेते हुए माया ने कहा कि ये काम पूरे हो गए, अब सिर्फ विकास पर फोकस रहेगा। उन्होंने किसानों-मजदूरों का एक लाख तक का कर्ज माफ करने, लैपटॉप की बजाय नकद राशि देने, स्कूलों में दूध, केक, अंडा व बिस्किट बांटने, गरीबों को जमीन के पïट्टे देने जैसे वादे किए। दावा किया कि मेट्रो रेल व गंगा हाईवे का काम उन्हीं की सरकार में शुरू हुआ था। इससे पहले मेरठ की जन चेतना रैली में भी पश्चिमी उत्तर प्रदेश में सपा के परंपरागत मुस्लिम वोट बैंक में मायावती ने सेंधमारी की कोशिश की। यहां भी मुसलमानों को भाजपा के सत्ता में आने का खौफ दिखाया। कहा कि मुस्लिमों का हित और सम्मान बसपा में है। सपा अखिलेश व शिवपाल के खेमों में बंट गई है। दोनों एक-दूसरे को हराने में जुटे हैं।

पलायन के लिए कांग्रेस-सपा दोषी

उन्होंने पश्चिमी उत्तर प्रदेश की उपेक्षा और पलायन के लिए कांग्रेस और सपा को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि सत्ता में आए तो सपा के दौर में हुई पुलिसभर्तियों की जांच की जाएगी। पुलिस भर्तियां की जाएंगी पर इनमें भ्रष्टाचार नहीं होगा। बसपा सुप्रीमो ने पर बजट के जरिए चुनावी लाभ लेने का आरोप लगाया। कहा कि मुजफ्फरनगर, दादरी, मथुरा समेत 500 दंगे सपा के कार्यकाल में हुए। मुलायम सिंह ने पुत्र मोह में शिवपाल यादव को अपमानित कराया। अब शिवपाल समर्थक ही सीएम को सबक सिखाएंगे।

हाईकोर्ट बेंच का समर्थन

मायावती ने कहा कि वेस्ट यूपी में हाईकोर्ट बेंच की मांग का वह समर्थन करती हैं। बसपा की सरकार बनने पर केंद्र सरकार पर बेंच के लिए दबाव भी बनाया जाएगा। गन्ना किसानों का बकाया भुगतान, फसल का उचित मूल्य और एक लाख रुपये तक का ऋण माफ कराया जाएगा।

Courtesy: Jagran.com

Categories: Politics

Related Articles