नोटबंदी को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी भी नहीं जानते देश कहां जा रहा है- अमेरिकी अर्थशास्त्री

नोटबंदी को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी भी नहीं जानते देश कहां जा रहा है- अमेरिकी अर्थशास्त्री

नई दिल्ली: नोटबंदी के फैसले को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी को मिलीजुली प्रतिक्रियाएं मिली हैं. कुछ ने तारीफ की तो कुछेक ने इस मामले को लेकर उन पर निशाना साधा है. विपक्षी पार्टियों का आरोप है कि नोटबंदी से न ही कालाधन वापस आया और न ही भ्रष्टाचार रुका. इससे आम लोगों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ा. उधर, प्रख्यात अमेरिकी अर्थशास्त्री स्टीव एच हांक ने भी उच्च राशि की मुद्रा के चलन से बाहर करने के फैसले की आलोचना की है. उन्होंने कहा कि नोटबंदी ‘हारने वालों’ के लिए है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी नहीं जानते कि आखिर देश कहां जा रहा है. मराईलैंड के बाल्टीमोर स्थित जान्स हापकिन्स यूनिवर्सिटी के अर्थशास्त्री हांक ने ट्विटर पर लिखा है, ‘नोटबंदी हारने वालों के लिए और इसे शुरू से ही गलत तरीके से लागू किया गया.’ वाशिंगटन में कातो संस्थान में ‘ट्रबल्ड करेंसी प्रोजेक्ट’ के वरिष्ठ फेलो और निदेशक हांक ने इससे पहले कहा था, ‘भारत के पास मोदी की नोटबंदी को स्वीकार करने के लिए जरूरी ढांचागत सुविधा नहीं है, उन्हें यह पता होना चाहिए.’

धानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर को 500 और 1,000 रुपये के नोट को चलन से बाहर करने की घोषणा की थी. इसे कालाधन, नकली मुद्रा और भ्रष्टाचार के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करार दिया गया है.
हालांकि नोटबंदी को लेकर आई दिक्कतों को सरकार ने भी स्वीकार किया और कहा कि कालेधन के खिलाफ लड़ाई में लोग परेशानी उठाकर भी हमारे साथ हैं. वहीं विपक्ष लगातार इस मामले को लेकर सरकार पर निशाना साध रहा है. विपक्ष का कहना है कि इससे कोई फायदा नहीं हुआ, बल्कि मजदूरों और किसानों को नोटबंदी ने बर्बाद करके रख दिया. दिहाड़ी मजदूरों को वापस अपने घर लौटना पड़ा क्योंकि दिहाड़ी मजदूरों पर इसका सबसे ज्यादा असर पड़ा.

 

Categories: Finance