‘मेरे जैसे 50 किसान आत्महत्या करेंगे क्या तब जागेगी सरकार’

‘मेरे जैसे 50 किसान आत्महत्या करेंगे क्या तब जागेगी सरकार’

जिले के गंजबासौदा तहसील के नोघई गांव के किसान राजूसिंह रघुवंशी ने फसल बीमा की राशि न मिलने से परेशान होकर खुदकुशी कर ली। राजू को उम्मीद थी कि फसल बीमा की राशि से वह अपना कर्ज चुका देगा। एक माह तक सेंट्रल बैंक के चक्कर लगाने और सीएम हेल्पलाइन में शिकायत करने के बाद भी जब कुछ नहीं हुआ तो सरकारी तंत्र से उसका भरोसा उठ गया। परेशान होकर राजू ने पांच पेज का सुसाइड नोट लिखकर खेत में जाकर खुदकुशी कर ली।

जिला मुख्यालय से करीब 40 किमी. दूर बसे ग्राम नोघई में राजू सिंह ने 31 जनवरी को आत्महत्या कर ली थी। उस समय सुसाइड नोट पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया था। शुक्रवार को सुसाइड नोट के सामने आने पर उसकी मौत की असली वजह उजागर हुई। नईदुनिया ने किसान का यह सुसाइड नोट पुलिस सूत्रों से हासिल किया है। हालांकि इसकी सत्यता की पुष्टि पुलिस के तकनीकी विशेषज्ञ ही कर सकते हैं।

राजू ने लिखा- मेरा सुसाइड नोट दबाया न जाए, ताकि सरकार का झूठ उजागर हो सके

मेरी मां के नाम करीब 15 बीघा जमीन है। वर्ष 2015-16 में कर्ज लेकर सोयाबीन की फसल बोई थी। शुरुआती दौर में बोवनी करने के बाद फसल बर्बाद हो गई। फिर अतिवृष्टि से फसल चौपट हो गई। इस कारण सेंट्रल बैंक से किसान क्रेडिट कार्ड के रूप में लिया गया 2 लाख रुपए का कर्ज सिर पर चढ़ गया। परिवार का खर्च चलाने के लिए 4 माइक्रो फाइनेंस कंपनियों से 95 हजार का कर्ज लेना पड़ा।

मुझे उम्मीद थी कि बीमा राशि मिलने पर कर्ज से निजात मिलेगी। इसके लिए गंजबासौदा के सेंट्रल बैंक के चक्कर लगाए। लेकिन यहां से भी सिर्फ आश्वासन मिले। 15 दिसंबर को सीएम हेल्पलाइन पर भी शिकायत की, लेकिन महीने भर बाद भी कोई जवाब नहीं आया। सीएम शिवराजसिंह ने 10 दिसंबर को खुद घोषणा की थी हर किसान के खाते में बीमा की राशि आ जाएगी।

लेकिन उनकी घोषणा झूठी निकली। अब मैं कर्ज से परेशान होकर आत्महत्या कर रहा हूं। इसके लिए मैं स्वयं जिम्मेदार हूं। मेरे परिवार के किसी भी सदस्य को परेशान न किया जाए। मेरी मौत के लिए मेरे अलावा शासन भी जिम्मेदार है।

मेरे सुसाइड नोट को दबाया न जाए बल्कि उसे प्रिंट और सोशल मीडिया में उजागर किया जाए ताकि सरकार का झूठ उजागर हो सके। राज्य सरकार हर किसान के खाते में फसल बीमा पहुंचाने की घोषणा कर रही है। केंद्र सरकार किसान की आय को दो गुना करने की बात कह रही है। लेकिन ऐसे में किसान की आय कैसे दोगुनी होगी। क्या मेरी तरह 50 किसान आत्महत्या करेंगे, तब सरकार घोषणाएं पूरी करेगी।

सदमे में पत्नी, बेटी बोली- सरकारी सिस्टम ने ली पिता की जान

इस हादसे के बाद मृतक राजू की पत्नी जमना बाई सदमे में है। वहीं बड़ी बेटी ऋ तु और बेटा राजा सरकारी तंत्र से नाराज हैं। सरकारी स्कूल में कक्षा 10वीं टॉप करने वाली ऋ तु ने कहा कि घटना के दिन 31 दिसंबर को उसके पिता सुबह के समय खेत पर घास काटने गए थे।

स्कूल से लौटने के बाद उन्हें अपने पिता की मौत का पता चला। बेटी ने आरोप लगाया कि पिता की मौत के लिए सरकारी तंत्र जिम्मेदार है। यदि पिता को समय पर फसल बीमा मिल जाता तो शायद उनकी जान नहीं जाती। वहीं मृतक राजू के भाई देवेन्द्र का कहना था कि इस जमीन के भरोसे ही उनके 13 लोगों का परिवार पलता है। पिछले तीन साल से लगताार फसल खराब हो रही थी।

360 में से सिर्फ 4 किसानों को मिला क्लेम

सेंट्रल बैंक की गंजबासौदा शाखा में वर्ष 2015-16 के लिए 360 किसानों का फसल बीमा मंजूर हुआ था, लेकिन इनमें से सिर्फ 4 किसानों की ही राशि प्राप्त हो पाई। बैंक मैनेजर केवल सिंह के मुताबिक 356 किसानों की लगभग 73 लाख रुपए की राशि एग्रीकल्चर इंश्योरेंस कंपनी से प्राप्त नहीं हो पाई है। सिंह के मुताबिक कंपनी के अधिकारियों का कहना था कि वे यह राशि दूसरी लिस्ट में भेजेंगे। अब तक कंपनी ने किसानों की सूची भी बैंक को उपलब्ध नहीं कराई है।

फसल बीमा मौत की वजह नहीं

फसल बीमा नहीं मिलना राजू की मौत की वजह नहीं है। उसके ऊपर माइक्रो फाइनेंस कंपनियों का भी कर्ज था। जिसके कारण वह परेशान था। कुछ बैंकों में बीमा राशि अटकी हुई है। इसके लिए बीमा कंपनी से लगातार पत्राचार किया जा रहा है। – अनिल सुचारी, कलेक्टर विदिशा

हेंडराइटिंग एक्सपर्ट से जांच करवा रहे हैं

सुसाइड नोट मृतक की जेब से बरामद करने के बाद उसे सीलबंद लिफाफा में रखा गया है। इसकी हेंडराइटिंग एक्सपर्ट से जांच कराई जाएगी। हालांकि परिजन ने अपने बयानों में किसी भी व्यक्ति पर प्रताड़ना का आरोप नहीं लगाया है। – महेश रघुवंशी, टीआई, गुलाबगंज

Courtesy:NaiDunia

 

Categories: India