महाराष्ट्रः ठाणे में कांग्रेस नेता का सनसनीखेज कत्ल, वारदात सीसीटीवी में कैद, तेजस्वी यादव ने पूछा-ये जंगलराज नहीं?

महाराष्ट्रः ठाणे में कांग्रेस नेता का सनसनीखेज कत्ल, वारदात सीसीटीवी में कैद, तेजस्वी यादव ने पूछा-ये जंगलराज नहीं?

महाराष्ट्र के ठाणे में कांग्रेस नेता और नगर सेवक मनोज म्हात्रे की बेरहमी से हत्या कर दी गई. हत्यारों ने पहले उन्हें गोली मारी और बाद में तलवार से काट डाला. हत्या की यह सनसनीखेज वारदात एक सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई. क़ातिलों ने उन्हें ऐसी भयानक मौत दी कि देखने वाले भी सिहर उठे.

मुंबई से सटे ठाणे में कांग्रेस नेता मनोज म्हात्रे को कुछ क़ातिलों ने उन्हीं के घर के पास ऐसी भयानक मौत दी कि सीसीटीवी फुटेज देखकर पुलिस वाले भी हैरान रह गए. कातिलों ने पहले उन्हें क़रीब से गोली मारी और फिर तलवारों से काट डाला. कत्ल क्यों हुआ, फिलहाल इस पर अभी राज़ का पर्दा पड़ा हुआ है.

घटना ठाणे के समृद्धि अपार्टमेंट की है. जहां गुमनाम कातिलों ने बीती रात करीब नौ बजे कांग्रेस नेता और नगर सेवक मनोज म्हात्रे पर पीछे से आकर हमला कर दिया. उस वक्त वे अपने घर लौट रहे थे. ये क़त्ल जिस तरीके से किया गया, उसे देख कर साफ़ था कि क़ातिल म्हात्रे से बहुत नफ़रत करते थे, वे उन्हें किसी भी क़ीमत पर ज़िंदा नहीं छोड़ना चाहते थे.

इसी वजह से कातिलों ने ना सिर्फ़ बेहद क़रीब से उन्हें कई गोलियां मारी, बल्कि उनके जमीन पर गिर जाने के बाद तलवार और डंडों से भी उन पर वार किए. बीच में रह-रह कर कुछ और गोलियां उन पर दागी गई. म्हात्रे को हमलावरों ने चारों ओर से घेर लिया था. म्हात्रे ने खुद को बचाने की कोशिश भी की.

म्हात्रे की चीख सुन कर मौके पर पहुंचे लोगों ने जब ये मंज़र देखा तो उनके भी रौंगटे खड़े हो गए. कुछ जहां म्हात्रे की मदद करने का तरीक़ा ढूंढ़ने लगे, वहीं कुछ उल्टे पांव भाग निकले. लेकिन क़ातिलों को देख कोई भी म्हात्रे के पास जाने की हिम्मत नहीं जुटा पाया. सिर्फ़ 25 सेकंड में कातिल उनकी जान लेकर चलते बने.

डीसीपी मनोज पाटिल ने बताया कि बाद में उन्हें अस्पताल ले जाया गया, लेकिन तब तक देर हो चुकी थी. वैसे यह पहला मौका नहीं है, जब म्हात्रे पर हमला हुआ है. इससे पहले भी उन पर जानलेवा हमले हो चुके थे.

कांग्रेस नेता मनोज म्हात्रे नगर सेवक थे. वे एक बार फिर से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे थे. म्हात्रे की गिनती इलाक़े के दबंग लोगों में होती थी. इस बार भी वो नगर पालिका चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे थे. ऐसे में पुलिस को शक है कि इस वारदात के पीछे सियासी रंजिश भी एक वजह हो सकती है.

ये खबर आने के बाद बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने ट्विटर पर देवेन्द्र फडनवीस सरकार और मीडिया को आड़े हाथो लिया।

Categories: Politics

Related Articles