लखनऊ में पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर पति को मौत के घाट उतारा

लखनऊ में पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर पति को मौत के घाट उतारा

लखनऊ विवाह के दौरान पति को परमेश्वर की तरह पूजने का प्रण करने वाली महिला के कदम भटक गए। वह चरित्रहीन हो गई और चार महीने पहले ही प्रेमी के साथ मिलकर पति की हत्या कर दी। पति का शव ठिकाने लगाने के बाद घर छोड़कर प्रेमी के साथ रहने लगी। बूढ़ी मां बेटे को खोजते-खोजते परेशान होकर पुलिस के पास गई तो आज हकीकत सामने आ गई। मामला मडिय़ांव थाना का है।

लखनऊ में रिश्तों को शर्मसार कर हत्याओं का सिलसिला जारी है। एक कलयुगी पत्नी अपने आशिक संग रंगरेलिया मनाते पकड़ी गई, तो उसने आशिक संग मिलकर पति को चार माह पूर्व मौत के घाट उतार दिया और उसका शव घर के सेप्टी टैंक में दफन कर दिया। हत्या लगभग चार माह पूर्व हुई और चार महीने तक शव घर के सेप्टी टैंक में ही दफन रहा, लेकिन पुलिस को इसकी भनक तक नही लगी। घटना के चार माह बाद पुलिस ने शव को बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया और हत्यारोपित पत्नी को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि उसका आशिक फरार होने में कामयाब हो गया है।

हरिओमनागर माडिय़ांव में शिवा उर्फ शैलू (29)अपनी पत्नी मधू के संग रहता था और इंदिरानगर के एक कपड़े की दुकान पर काम करता था। 12 नवम्बर को मधू ने माडिय़ांव कोतवाली में एक तहरीर देते हुए बताया था कि उसका पति 20 अक्टूबर को पैतृक निवास बलरामपुर गया था और तबसे उसका कुछ पता नही चल रहा है। इस तहरीर को देने के बाद मधू ने फिर कभी पुलिस से संपर्क नही किया था।

थाना प्रभारी नागेश मिश्रा ने बताया कि परसों शिवा के मामा जगराज के बेटे प्रदीप ने मडियांव थाना में एक तहरीर देते हुए आशंका जताई कि शिवा के साथ कोई अनहोनी हो गई है। प्रदीप की तहरीर पर पुलिस ने मामला दर्ज किया और हरिओमनागर में दबिश देकर मधु को हिरासत में ले लिया। सख्ती से पूछताछ करने पर मधू टूट गई और उसने अपना जुर्म कुबूल कर लिया। मधू ने पुलिस को बताया की बिरहाना राजेंद्र नगर निवासी शिवा के मौसेरे भाई नीरज से उसके अवैध संबंध थे। लगभग चार माह पहले मधु और नीरज घर में बेहद आपत्तिजनक हालात में थे कि तभी शिवा काम से वापस आ गया। दोनों को इस बेहद आपत्तिजनक स्थिति में देख शिवा आग बबूला हो गया और मधु को एक थप्पड़ मार दिया। इसके बाद नीरज और मधु ने मिलकर शिवा की गला कसकर हत्या कर दी और शव को सेप्टी टैंक में दफन कर दिया।

इस हत्या को अंजाम देने के बाद से ही नीरज और मधु एक साथ ही रह रहे थे। कल जब पुलिस ने दबिश देकर मधू को उठाया तब भी नीरज मधू के घर पर ही मौजूद था। पुलिस के वहां पहुंचते ही नीरज वहां से फरार हो गया और पुलिस उसे पकडऩे में नाकाम हो गयी।

मृतक के ममेरे भाई प्रदीप ने बताया कि 2000 में मृतक अपने पिता रामजी और मां सुलोचना के साथ बलरामपुर से वापस आ रहा था कि मसौली के पास ट्रक से एक्सीडेंट हो गया था। इस दुर्घटना में रामजी और सुलोचना की मौत हो गई थी और तबसे मामा जगराज और मामी कुसुम ने ही शिवा का भरण पोषण किया और शिवा हरिओमनागर में जिस मकान में रह रहा था वह मकान भी मामा जगराज का ही है। 2013 में मामा जगराज ने ही शिवा की शादी बिरहाना निवासी मधु से करवाई थी।

घटना की जानकारी पर प्रभारी नागेश मिश्रा घटनास्थल पहुंचे और नगर निगम कर्मचारियों को बुलवाकर शव टैंक से निकलवाया। जानकारी पर सीओ अलीगंज डॉ मीनाक्षी भी कोतवाली पहुँच गई। कोतवाली पहुंचकर डॉ मीनाक्षी ने हत्यारोपित मधु के बयान दर्ज किये है। सीओ ने बताया कि हत्या में शामिल नीरज की तलाश के लिए संभावित ठिकानों पर दबिश दी जायेगी।

 

Courtesy: Jagran.com

Categories: Crime

Related Articles