भाजपा पार्षद ने खोला अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा

छत्तीसगढ़। भाजपा नेता अपनी ही पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोल रहै हैं। हाल ही में झारखंड राज्य में अपनी ही पार्टी पर भेदभाव का आरोप लगाया था। लेकिन अब छत्तीसगढ़ में भाजपा नेता ने अपनी पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोल लिया है।

बता दें कि शराब पर सड़क से सदन तक बवाल मचा हुआ है। सरकार शराबबंदी के लिए प्रयास कर रही है। सरकार द्वारा शराब बेचने के ऐलान के बाद शराब ठेकेदारों ने अवैध रूप से शराब की तस्करी जोरों से शुरू कर दी है।

बताया जा रहा है कि ठेकेदार इतने बेखौफ हो गए हैं कि पहले जो शराब की दुकान सुबह साढ़े दस बजे से रात दस बजे का तक ही खुलती थी अब वो सुबह चार बजे ही खुल जाती है और फिर शराब तस्करी का काम शुरू हो जाता है। हालांकि, प्रशासन की तरफ से सुबह साढ़े दस बजे से रात के दस बजे तक ही शराब की दुकान खोलने के आदेश हैं।

वहीं, शराब खुलेआम वाहन में भरकर अन्य जगहों पर बेचने के लिए भेजा जाता है। इस मामले के खिलाफ सरदार वल्लभ भाई पटेल वार्ड के भाजपा पार्षद ने जैसे ही इसके खिलाफ आवाज उठायी, तो उन्हें शराब ठेकेदार की तरफ से धमकियां दी जानें लगीं।

इस मामले की जानकारी और वीडियो जब पार्षद ने पुलिस को दिया तो पुलिस ने इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की। इसके बाद पार्षद ने अपने इलाकें से एक विरोध रैली निकाली और जिला कलेक्टर कार्यालय तक पहुंचकर उन्हें शराब तस्करी रोकने के लिए कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। बताया जा रहा है कि भाजपा पार्षद ने अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए प्रशासनिक व्यवस्था पर सवाल खड़े किए और जिला प्रशासन से मांग की कि शहर में चल रही शराब तस्करी पर रोक लगायी जाए।

Courtesy: National Dastak

Categories: India

Related Articles