पहले दिन ही 150 से ज्यादा नकलची पकड़े, एक लाख 62 हजार ने छोड़ी परीक्षा

पहले दिन ही 150 से ज्यादा नकलची पकड़े, एक लाख 62 हजार ने छोड़ी परीक्षा

इलाहाबाद (जेएनएन)। उप्र बोर्ड परीक्षा में सख्ती के तमाम दावे पहले दिन ही फेल हो गए। कई जिलों में जमकर नकल चली। अलीगढ़ में नकल कराते मिले तीन केंद्र व्यवस्थापकों समेत आठ के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है। उधर मथुरा में नकल कराने वालों ने सिपाही को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। हाईस्कूल व इंटर की परीक्षा में डेढ़ सौ से ज्यादा नकलची पकड़े गए। इनमें छात्रओं की खासी तादाद रही। दर्जन भर से ज्यादा फर्जी परीक्षार्थी भी पकड़ में आए।

गोंडा में पांच फर्जी कक्ष निरीक्षक पकड़े : गोंडा में सचल दल ने धानेपुर के भैया हरिभान दत्त इंटर कॉलेज परीक्षा केंद्र में पांच फर्जी कक्ष निरीक्षक पकड़े। डीआइओएस ने एफआइआर के लिए तहरीर दी है। डीएम आशुतोष निरंजन ने बताया कि इस प्रकरण में गैंगस्टर लगाने के साथ आरोपियों की संपत्ति भी कुर्क की जाएगी। सीतापुर के श्रीराम जानकी इंटर कालेज में परीक्षा देते मुन्ना भाई पकड़ा गया। सूर्य प्रताप इंटर कालेज में हाईस्कूल की छात्र से सचल दल को नकल मिली। बाराबंकी में एक परीक्षा केंद्र पर छात्र को नकल करते डीआइओएस ने पकड़ा जबकि रामसेवक यादव इंटर कॉलेज में एक मुन्ना भाई पकड़ा गया।

दूसरे की जगह परीक्षा दे रही युवती को पकड़ा : अमेठी के जगदीशपुर में मां विद्या देवी गल्र्स इंटर कालेज में सचल दल ने परीक्षार्थी की जगह परीक्षा दे रही युवती को पकड़ा। बलरामपुर में पहली पॉली में एक छात्र और रायबरेली के सलोन के पटेल शिक्षा सदन लहुरेपुर में एसडीएम ने विद्यालय कर्मी को नकल की पर्ची के साथ पकड़ा।’

एक लाख 62 हजार ने इम्तिहान छोड़ा
यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटर परीक्षा 2017 का श्रीगणेश गुरुवार को हो गया है। पहले दिन संयोग से दोनों में हिंदी का प्रश्नपत्र रहा, हिंदी मातृभाषा और अनिवार्य विषय होने के कारण परीक्षा केंद्रों पर भारी भीड़ के साथ ही सुबह से शाम तक गहमागहमी रही। आमतौर पर हिंदी विषय में नकल नहीं होती रही है, लेकिन इस बार शुरुआत में ही नकल की बिंदी लग गई। शहर एवं गांवों के परीक्षा केंद्रों का नजारा अलग-अलग दिखा, जहां एक ओर गांवों में परीक्षा केंद्र के आसपास नकल कराने वालों की भीड़ जुटी रही। वहीं, शहरों में परीक्षार्थियों ने प्रश्नपत्र हल करने में कक्ष निरीक्षकों का सहारा लिया। बलिया के ही एक ही केंद्र से 17 बालक व सात बालिकाएं नकल करते पकड़े गए हैं। इसी तरह से गाजीपुर, देवरिया, जौनपुर, चंदौली, भदोही, कौशांबी, इलाहाबाद और पश्चिम के अलीगढ़, मथुरा, आगरा आदि जिलों में नकल को लेकर भिड़ंत तक हुई हैं। कई केंद्रों पर कार्रवाई भी हुई है।

हाईस्कूल में सबसे अधिक परीक्षार्थियों ने छोड़ा इम्तिहान
बोर्ड परीक्षा के पहले दिन एक लाख 62 हजार 445 परीक्षार्थियों ने इम्तिहान को बाय-बाय कर दिया है। इसमें सबसे अधिक परीक्षार्थी हाईस्कूल के एक लाख 29 हजार 91 हैं। वहीं, इंटर में 33 हजार 354 परीक्षार्थी इम्तिहान में शामिल नहीं हुए हैं। यह संख्या (खासकर इंटर की) शुक्रवार को और बढ़ेगी, क्योंकि देर शाम तक इंटर के अभ्यर्थियों की सूचना सभी केंद्रों से मुख्यालय पर अपडेट नहीं हो सकी थी।

80 फीसद केंद्रों ने भेजी गैरहाजिर अभ्यर्थियों की सूचना
यूपी बोर्ड इस बार की परीक्षा में कॉपियों की अदला-बदली रोकने के लिए वेबसाइट के जरिए सारी गैरहाजिर परीक्षार्थियों की सूचना मंगा रहा है। इसके लिए सभी केंद्रों के कंप्यूटर को वेबसाइट से जोड़ा गया है। हर पाली के बाद सूचनाएं अपडेट किए जाने के निर्देश हैं। मुख्यालय के अफसरों की मानें तो पहले दिन करीब अस्सी फीसद से अधिक केंद्रों ने सूचनाएं अपडेट की हैं। कुछ केंद्रों ने दूरभाष के जरिए रिपोर्ट भेजी है, उन्हें भी कल से वेबसाइट का ही प्रयोग करने का निर्देश दिया गया है। असल में इस बार उन्हीं विद्यालयों को परीक्षा केंद्र बनाया गया है, जहां कंप्यूटर, आपरेटर व इंटरनेट आदि का प्रबंध है।

मोबाइल के जरिए भी परीक्षा केंद्रों से भेजी जा सकती है रिपोर्ट
यूपी बोर्ड परीक्षा के दौरान केंद्रों से वेबसाइट के साथ ही प्रधानाचार्य अपने मोबाइल से भी गैरहाजिर परीक्षार्थियों की सूचनाएं अपडेट कर सकते हैं। सिस्टम सेल के हरिश्चंद्र शर्मा कहते हैं कि प्रधानाचार्य चाहें तो वह अपने मोबाइल पर बोर्ड की वेबसाइट खोलकर उस पर सूचनाएं अपडेट कर सकते हैं। यह रिपोर्ट हर पाली की परीक्षा खत्म होते ही भेजा जाना अनिवार्य है। उसका माध्यम कोई भी हो सकता है।

कई केंद्रों को नोटिस व काली सूची में डाला
बोर्ड परीक्षा के पहले दिन ही नकल के लिए जगजाहिर जिलों में कार्रवाई का चाबुक भी चला है। इलाहाबाद के एक केंद्र की परीक्षा निरस्त करके उसे काली सूची में डाला गया है। इसी तरह अन्य जिलों में भी कार्रवाई हुई है। दो दर्जन विद्यालयों को सामूहिक नकल के आरोप में नोटिस जारी हुआ है। बोर्ड के अफसरों ने नोडल अधिकारियों से इस संबंध में जवाब-तलब भी किया है।

Courtesy: Jagran.com

Categories: Regional

Related Articles

Write a Comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*