हैकर्स ने पत्रिका की वेबसाइट हैक कर बताया, ईवीएम में छेड़छाड़ संभव

हैकर्स ने पत्रिका की वेबसाइट हैक कर बताया, ईवीएम में छेड़छाड़ संभव

नई दिल्ली। ईवीएम में गड़बड़ी किए जाने को साबित करने के उद्देश्य से हैकर्स के एक ग्रुप द्वारा www.patrika.com वेबसाइट को हैक करने का दावा किया जा रहा है। हालांकि हैक किए जाने के बाद पत्रिका की टेक्निकल टीम ने अपनी वेबसाइट को फिर से संभाल लिया है। इस मामले को खुद पत्रिका ने अपनी खबर में लिखा है।

 

पत्रिका की खबर के अनुसार…….
पांच राज्यों में विधानसभा नतीजों के बाद ईवीएम में गड़बड़ी को लेकर बहस तेज है। यूपी में भाजपा की रिकॉर्ड जीत के बाद मायावती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर गड़बड़ी का आरोप लगाया था, जिसे निर्वाचन आयोग ने खारिज कर दिया। अब एक हैकर ग्रुप ने उस दावे को सही बताया है। Legion नाम के एक हैकर ग्रुप ने हमारी वेबसाइट www.patrika.com को हैक कर सबूत पेश किया है। इस हैकर ग्रुप ने यह भी दावा किया है कि अगर निर्वाचन आयोग और सीबीआई ने ईवीएम में गड़बड़ी की जांच नहीं की तो वे ईवीएम कोड्स को सार्वजनिक कर देंगे। हमारी टेक्नीकल टीम पूरे मामले की जांच कर रही है।

 
Patrika की साइट को हैक कर क्या लिखा ?
शुक्रवार को दोपहर के बाद अचानक हमारी वेबसाइट हैक कर एक खबर को एडिट कर लीजन ग्रुप ने लिखा, यूपी विधानसभा चुनाव में ईवीएम मशीन से छेड़छाड़ की गई थी। भारत में जो ईवीएम मशीन है इनमें कोई खास सुरक्षा व्यवस्था नहीं है। ना ही इनका कोई प्रोग्राम कोड है। इन मशीनों के प्रोग्राम कोड को अपने हिसाब से बदलकर नतीजों को प्रभावित करना बेहद आसान है।

 
हैकर्स ने बताया कैसे भाजपा के पक्ष में हुआ मशीनों का इस्तेमाल
हैकर्स ने हमारी साइट पर लिखा, जैसे मोबाइल को डेवलपर मोड पर लेने के लिए दो किज को एक साथ दबाया जाता है उसी तरह वोटिंग मशीन के प्रोग्राम को भी तैयार किया गया है। मशीन में एक विशेष मोड शुरू करने के बाद 100 वोट पड़ने के बाद दो कीज को एक साथ दबाया गया है। ऐसा करने से प्रोग्राम बदला गया और सारे वोट भारतीय जनता पार्टी के खाते में चले गए। अंतिम वोट पड़ने के बाद उस मोड को डिएक्टिवेट कर दिया गया।

 
हैकर्स ने दी वॉर्निंग
लिजन ग्रुप का कहना है कि अगर उनकी बात का यकीन नहीं हो रहा है तो चुनाव आयोग ईवीएम से छेड़छाड़ के मामले की जांच सीबीआई से करा सकता है। जांच नहीं होने पर हैकर्स ने दावा कि निर्वाचन आयोग के कई कम्प्यूटर उनके पास है। उन्होंने चेतावनी दी कि वे इवीएम कोड्स को सार्वजनिक कर देंगे।

 
कौन है लीजन ग्रुप
ये हैकर्स का एक ग्रुप है। इस ग्रुप ने दिसंबर 2016 में 74 हजार चार्टर्ड अकाउंटेंटस के खाते और मेल को लीक करने का दावा किया था।

Courtesy: nationaldastak

Categories: India