आज से ये 7 बदलाव: SBI में 6 बैंकों का मर्जर, दुनिया के टॉप 50 में शामिल

आज से ये 7 बदलाव: SBI में 6 बैंकों का मर्जर, दुनिया के टॉप 50 में शामिल

नई दिल्ली. शनिवार से कई अहम बदलाव लागू हो गए। अब से देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई में महीने में 3 से ज्यादा फ्री ट्रांजैक्शन का चार्ज देना होगा। वहीं, एसबीआई में 6 बैंकों का विलय हो गया। कैश ट्रांजैक्शन लिमिट 3 लाख से घटकर 2 लाख हो सकती है। साथ ही, अब आपको कार-बाइक और हेल्थ इन्श्योरेंस के लिए ज्यादा पैसे चुकाने होंगे। राहत की खबर ये है कि अब मेल-एक्सप्रेस के किराए में राजधानी-शताब्दी में सफर हो सकेगा। सुप्रीम कोर्ट के ऑर्डर के मुताबिक, शनिवार से ही बीएस-III नॉर्म वाली गाड़ियां नहीं बिकेंगी। जानिए, 7 बदलावों के बारे में

1# एसबीआई में 6 बैंकों का विलय
– शनिवार को ही एसबीआई में 6 बैंकों का विलय होने जा रहा है। विलय होने वाले बैंकों के कस्टमर अब से एसबीआई के कस्टमर होंगे। इसके साथ ही एसबीआई दुनिया के टॉप 50 बैंकों में शामिल हो गया।
– जिन बैंकों का विलय हुआ, उनमें स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, भारतीय महिला बैंक, स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद, स्टेट बैंक ऑफ पटियाला और स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर शामिल हैं।
– 5 बैंकों के विलय से एसबीआई का एसेट बेस करीब 37 लाख करोड़ रुपए (555 अरब डॉलर) हो गया। साथ ही 22500 ब्रांच और 58 हजार एटीएम होंगे। नए बैंक के 50 करोड़ से ज्यादा कस्टमर होंगे।
2# फ्री ट्रांजैक्शन लिमिट 3 हुई
– देश का सबसे बड़ा बैंक SBI एक अप्रैल से होम ब्रांच में हर महीने तीन से ज्यादा फ्री कैश ट्रांजैक्शन नहीं करने देगा।
– अगर आप महीने में 3 से ज्यादा ट्रांजैक्शन करते हैं, तो आपको प्रति ट्रांजैक्शन 50 रुपए चुकाने होंगे।
3# अकाउंट में मिनिमम बैलेंस नहीं तो लगेगा जुर्माना

– अगर एसबीआई में आपका अकाउंट है तो एक अप्रैल से आपको अकाउंट में मिनिमम बैलेंस रखना होगा। केंद्र सरकार ने कहा था कि अकाउंट्स में मिनिमम बैलेंस नहीं रहने पर बैंक पेनल्टी लगा सकते हैं, लेकिन इस पर लगाई जाने वाली लेवी रीजनेबल होना चाहिए। सर्विस देने की एवरेज कॉस्ट के हिसाब से ही जुर्माना होना चाहिए। फाइनेंस मिनिस्टर (स्टेट) संतोष कुमार गंगवार ने राज्यसभा में यह जानकारी दी थी।
– गंगवार ने कहा था कि आरबीआई की गाइडलाइन के मुताबिक, मिनिमम बैलेंस की रकम में बदलाव की जानकारी अकाउंटहोल्डर्स को एक महीने पहले देनी चाहिए। यह भी बताएं कि खाते में तय रकम नहीं रखने पर कितनी पेनल्टी वसूली जाएगी।
– बता दें कि देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई समेत देश के कई बैंक मिनिमम बैलेंस नहीं रखने पर जुर्माना वसूलने जा रहे हैं।
– मेट्रो सिटीज में एसबीआई अकाउंट होल्डर्स को मिनिमम 5,000 रुपए बैलेंस रखना होगा। वहीं, अर्बन एरिया में यह लिमिट 3,000, सेमी-अर्बन एरिया में 2,000 रुपए रहेगी।

4# कैश ट्रांजैक्शन की लिमिट
– केंद्र सरकार का प्रपोजल है कि कैश ट्रांजैक्‍शन लिमिट को 3 लाख रुपए से घटाकर 2 लाख रुपए कर दिया जाए। यानी 2 लाख रुपए से ज्यादा के कैश ट्रांजैक्‍शन अमाउंट को इलीगल माना जाएगा। तय लिमिट से जितना ज्यादा कैश ट्रांजैक्‍शन होगा, उतनी ही पेनल्टी लगेगी।
– फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली ने मंगलवार को फाइनेंस बिल पेश किया था। इस बिल में कैश ट्रांजैक्‍शन की लिमिट में बदलाव को प्रपोज किया गया था।
– बता दें कि केंद्र सरकार ने ब्लैक मनी पर लगाम लगाने को लेकर एक एसआईटी गठित की थी। इसने भी अपनी सिफारिश में 3 लाख रुपए से ज्यादा के कैश लेन-देन पर रोक लगाने को कहा था।
– पेनल्टी की रकम उतनी ही होगी, जितनी एक्‍स्‍ट्रा रकम कैश में ली गई है। यानी अगर किसी ने 5 लाख रुपए कैश में लिए हैं, तो उसे 3 लाख रुपए की पेनल्टी देनी पड़ेगी।

Courtesy: Bhaskar

Categories: Finance

Related Articles