योगी राज: मंदिर में जूते पहनकर घुसने का विरोध करने पर RSS नेता ने कर दी दरोगा और पुजारी की पिटाई

आगरा। नई दिल्ली। भाजपा शासित राज्यों में राष्ट्रवाद और धार्मिक भावना तय करना राष्ट्र स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के हाथों में सौंप दिया प्रतीत हो रहा है। आरएसएस के लोग ही तय करते नजर आ रहे हैं कि कौन गौतस्कर है और कौन राष्ट्र विरोधी। ताजा मामला इससे हटकर भगवान के मंदिर के बारे में सामने आ रहा है। आगरा में मंदिर में जूता पहनकर आने से मना करने और ताला लगाने का विरोध करने पर कुछ लोगों ने शुक्रवार की सुबह पुजारी और एक दारोगा के घर पर हमला कर पिटाई कर दी। मामला न्‍यू आगरा थाना क्षेत्र के रोशनबाग मोहल्‍ले का है। आरोप हिन्‍दूवादी नेता अरविंद चौहान पर लगा है।

 

भास्कर के मुताबिक, रोशनबाग मोहल्ले के मंदिर में सुबह करीब नौ बजे मुकेश गौतम झाड़ू पोछा कर रहे थे। वह एसएसपी (जीआरपी) ऑफि‍स में सब इंस्‍पेक्‍टर (दारोगा) के पद पर तैनात हैं। आरोप है कि इसी दौरान आरएसएस पदाधिकारी अ‍रविंद चौहान यहां पहुंचे। वह जूता पहनकर मंदिर में घुसे और मंदिर का गेट बंद कर दिया। यहां मौजूद पुजारी और मुकेश गौतम ने जूता पहनकर मंदिर में आने का विरोध किया। इसके बाद चौहान यहां से चले गए।

 
कुछ देर बाद दो दर्जन से अधिक लोग मंदिर पर पहुंचे। यहां पुजारी की पिटाई की। इसके बाद यह भीड़ दारोगा मुकेश गौतम के घर पर चली गई। यहां पर इस भीड़ ने पथराव कर दिया। मुकेश गौतम की पिटाई हुई। इस हमल में मोहल्‍ले के पवन कुमार के हाथ पर चोट आई। हरेंद्र कुमार शर्मा अपनी पत्नी सुनीता के साथ दूध लेने गए थे, उन्‍हें भी चोट लगी।
आरोप है कि हमलावरों ने फायरिंग भी की।

 
घटना के बाद पुजारी और दारोगा के साथ मोहल्‍ले के लोगों की भीड़ थाना न्‍यू आगरा पर पहुंची। यहां पहुंचे लोगों ने पुलिस से आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाने को कहा। इस दौरान दूसरा पक्ष भी थाने पर पहुंच गया। मोहल्‍ले की भीड़ जब मुकदमा लिखने को दबाव डाल रही थी, उसी वक्‍त दूसरे गुट ने वहां से लोगों को हटाने की कोशिश की। भीड़ में मौजूद महिलाओं ने जब दूसरे पक्ष पर गुंडई की बात कही, तो उन्‍हें धक्‍का दिया जाने लगा। इस दौरान महिलाओं ने कहा कि ऐसी गुंडई नई सरकार में हो रही है। इसके बाद थाने पर भाजपा विधायकों और कार्यकर्ताओं की भीड़ लग गई। वे आरोपी हमलावर की तरफ से आए हैं।

 

इस मामले पर एएसपी अनुराग वत्‍स ने कहा है, घटना के आसपास के सीसीटीवी कैमरे का पता लगाकर इसकी रिकॉडिंग देखी जाएगी। इसी के आधार पर कार्रवाई की जाएगी। वहीं, बीजेपी के महानगर अध्‍यक्ष विजय शिवहरे का कहना है, ”आरएसएस के पदाधिकारी और कार्यकर्ता राष्‍ट्रसेवा करते हैं। मंदिर पर दरोगा ने दबंगई की थी और दबाव बनाने के लिए थाने पर हंगामा किया गया। मैंने पुलिस अधिकारियों से बात की है और मुझे आश्‍वासन मिला है कि दरोगा के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी और उसका निलंबन होगा।” थाने पर हंगामे के दौरान जब मोहल्‍ले की महिलाओं ने आरएसएस कार्यकर्ताओं पर हमले का आरोप लगाया, तब दूसरे पक्ष ने धक्‍का देने की कोशिश की।

 

Courtesy: nationaldastak

Categories: Politics

Related Articles