योगी और खट्टर से बिना डरे एक युवक ने सरेआम कहा- I LOVE YOU

योगी और खट्टर से बिना डरे एक युवक ने सरेआम कहा- I LOVE YOU

सरोज स्टेटस वाला” किताब का विमोचन गांधी शांति प्रतिष्ठान में हुआ। इस किताब को अमली जामा पहनाया है अमोल सरोज ने। अमोल सरोज ने फेसबुक पर लिखी और पढ़ी बातों को लेकर ये किताब लिखी है। किताब कितनी बेहतर या खराब है ये पढ़ते ही पता चल जाएगा। हां पढ़ना शुरू करेंगे तो एक सांस में जरूर पढ़ जाएंगे। अमोल सरोज हरियाणा से हैं। पुरुष हैं। लेकिन किताब पढ़ेंगे तो पता चलेगा मर्दवाद के कितने खिलाफ हैं। योगी, मोदी राज की तो बिल्कुल परवाह नहीं करते। सुनिए किताब विमोचन के दौरान उन्होंने क्या कह दिया।

 

मेरी स्पीच
हैल्लो बोलना और लिखना दो जुदा मसले हैं, बोलना मेरा फील्ड नहीं है। लिखने में मैंने प्रैक्टिस की हुई है चाहे वो प्रैक्टिस ग़लत हिंदी लिखने की ही हो पर लिखने में फिर भी प्रैक्टिस है बोलने की तो है नहीं न सही बोलने की ना ग़लत बोलने की। पर आज तो बोलना है ही तो मैं सबसे ज़रूरी बात सबसे पहले कहना चाहता हूँ। किताब एयर सोशल मीडिया पर बात फिर भी हो सकती है ।

 

योगी जी की तर्ज पर खट्टर जी ने भी प्रेमियों को सबक सिखाने के लिये कमर कस ली है। इससे पहले कि आई लव यू कहना ही देशद्रोह हो जाए मैं कहना चाहता हूँ मैं निशा से बहुत बहुत प्यार करता हूँ। प्यार ही मेरे लिखने का एकमात्र कारण है। मैं उन बरगलाए हुए नवयुवकों को भी कहना चाहता हूँ, जो जवानी में माँ बाप से प्यार करते हुए 14 फरवरी बनाते है, कि जो जवानी में माँ बाप से प्यार करते है लोग उन्हें बुढ़ापे में आसाराम कहते हैं। ठरक या नॉर्मेल्टी में आपको क्या चुनना है आप देख लीजिए। एक बात और भी ज्ञान की बताता हूँ । सामान्य होना अब तक देश में गुनाह घोषित नहीं हुआ है और इस पर अभी जेटली जी ने टैक्स भी नहीं लगाया है।

 

मैं इस देश के बच्चों के माँ बापों से भी कहना चाहता हूँ कि बच्चों से प्यार की अपेक्षा करने की बजाय आपस में प्यार करने की कोशिश करें। ज़्यादा मुश्किल नहीं है। आसमान में चाँद 60 की उम्र में भी वैसा ही होता है जैसा 25 की उम्र में दिखता है। ये कॉपी जो आपने राम नाम लिख के भरी हुई है वो अपनी प्रेमिका के लिये कविता लिखते हुए भी भरी जा सकती है जिसने अपनी सारी जिंदगी आपके जूठे बर्तन से लेकर आपके कच्छे धोने में बिता दी।

 

70 साल की उम्र में जब गुलजार लिख सकता है दिल तो बच्चा है जी। तो आपको क्या हुआ है । गुलज़ार से सीखिए कुछ। नॉर्मल होने पर टैक्स नहीं लगा अभी देश में। आप अपने बच्चों के आगे अपने बोया क्या कहते है अंग्रेजी में बैटर हाफ से प्यार जताएंगे तो बच्चे भी ढंग से प्यार करना सीखेंगे। मैं बोल रहा हूँ इस देश के बच्चों के माँ बाप जिस दिन आपस में प्यार करना सीख जायेंगे देश का भला हो जाएगा।
अपने लिए नहीं तो देश के लिये कर लीजिए प्यार।

Courtesy: nationaldastak

 

Categories: Politics

Related Articles