रमन सिंह के राज में सरकारी तालाबों की खुलेआम अवैध खुदाई

रमन सिंह के राज में सरकारी तालाबों की खुलेआम अवैध खुदाई

रायपूर। छत्तीसगढ़ में भाजपा नेताओं को अवैध खुदाई का ऐसा रास्ता मिल गया है जिसके जरिए वे बड़ी आसानी से दिन-रात कमाई कर रहे हैं, और सरकारी राजस्व को नुकसान पहुँचा रहे हैं, साथ ही पर्यावरण को भी गंभीर हानि पहुंचा रहे हैं।

 

जांजगीर-चाँपा जिला इस मामले में सबसे आगे हैं। जिला मुख्यालय में खनिज विभाग के अधिकारियों की मिलीभगत से कोटमीसोनार ग्राम पंचायत में सरकारी तालाबों की अवैध खुदाई खुलेआम हो रही है। बिछिया तालाब इस खुदाई का सबसे बड़ा अड्डा बना हुआ है।

 

इस तालाब में सरपंच से मिलीभगत कर पोकलेन लगाकर मुरम मिट्टी की खुदाई हो रही है, जिसका इस्तेमाल जांजगीर से अकलतरा तक बन रही एनएच की फोरलेन में हो रहा है। इसके जरिए ठेकेदार करोड़ों रुपए की रायल्टी चुरा ररहा है।

 

 

 

इस फोरलेन में अकलतरा क्षेत्र में इस्तेमाल की गई पूरी की पूरी मुरम मिट् कोटमीसोनार, कल्याणपुर, लटिया, अर्जुनी, कुरुमहु जैसे इलाकों से अवैध खुदाई से लाई गई है। सड़क निर्माता कंपनी का संचालक सरपंच से मिलकर बिना पंचायत से प्रस्ताव पास कराए खुदाई करवा रहा है।

 

 

इस अवैध खुदाई में मनरेगा का भी नुकसान हो रहा है क्योंकि इसकी खुदाई और गहरीकरण मनरेगा के तहत होना था लेकिन राजनीतिक रूप से ऊँची पैठ रखने वाला सरपंच, पंचायत सचिव के साथ मिलकर, इसकी अवैध खुदाई करा रहा है और पूरा फायदा मिल रहा है ठेकेदार को। हालात ये हो गए हैं कि तालाब की खुदाई खतरनाक स्तर तक हो चुकी है। अब यदि इसमें पानी भरता है तो कई लोगों की जान तक जा सकती है।

 

 

पत्रिका ने इस बारे में मौके पर जाकर हकीकत जानने की कोशिस की। इस पर सरपंच ने कहा कि ये खुदाई गाँव के लिए हो रही है। सरपंच सचिव युगल किशोर शुक्ला ने तो कुछ भी कहने से इन्कार कर दिया है।

Courtesy: nationaldastak.

Categories: Politics

Related Articles