भाजपा राज: व्हाट्सएप ग्रुप छोड़ा तो हाथ से जाएगी नौकरी

भाजपा राज: व्हाट्सएप ग्रुप छोड़ा तो हाथ से जाएगी नौकरी

जयपुर। भाजपा शासित राजस्थान में एक अजीबोगरीब कार्रवाई होने लगी है। सोशल मीडिया का ग्रुप छोड़ना भी वसुंधरा राजे सरकार की निगाह में अनुशासनहीनता माना जाने लगा है, और ऐसा करने वाले सरकारी कर्मचारियों को सरकार की तरफ से नोटिस भी जारी किए जाने लगे हैं।
ताजा मामला जयपुर की सांगानेर तहसील में पंचायत समिति का है। विकास अधिकारी ने व्हाट्सएप ग्रुप छोड़ने पर सात ग्राम सेवकों को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया है। अधिकारी ने ग्राम सेवकों से बिना कारण बताए व्हाट्सएप ग्रुप छोड़ने का कारण पूछा है और यही भी कहा कि क्यों न इसके लिए आपके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई अमल में लाई जाए।

 
यह कारण बताओ नोटिस सरकारी हलकों में चर्चा और मजाक का विषय भी बन गया है। जयपुर की सांगानेर पंचायत समिति की इस विकास अधिकारी (बीडीओ) का नाम रिंकू मीणा है। रिंकू मीणा ने संबंधित ग्रुप को सरकारी व्हाट्सएप ग्रुप बताया है जो सरकारी योजनाओं और कार्यों को नियमित और तेज गति से करने के लिए बनाया गया था।

 
दैनिक भास्कर की खबर के मुताबिक नोटिस में विकास अधिकारी ने कहा है कि यह देखने में आया है कि आप (ग्राम सेवक) संबंधित ग्रुप से बिना कारण बताए रिमूव हो गए हैं। इसका कारण स्पष्ट करें। अधिकारी ने ग्राम सेवकों को अनुशासननात्मक कार्रवाई की चेतावनी और भविष्य में ग्रुप में बने रहने की हिदायत भी दी है। इस आदेश की प्रति पंचायत समिति के अन्य कर्मचारियों को भेजी गई है और उन्हें कहा गया है कि ग्रुप में अनावश्यक पोस्ट न करें तथा राजकीय कार्य समय पर करना सुनिश्चित करें।

 

Courtesy: nationaldastak

Categories: India

Related Articles