आर्मी ने LoC के पास PoK के 12 साल के बच्चे को पकड़ा, जासूसी करने का आरोप

आर्मी ने LoC के पास PoK के 12 साल के बच्चे को पकड़ा, जासूसी करने का आरोप

श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले में लाइन ऑफ कंट्रोल के पास (LoC) आर्मी ने शनिवार को एक 12 साल के बच्चे को अरेस्ट किया। आर्मी को शक है कि इस बच्चे को पाक आर्मी ने भारत में घुसपैठ और आर्मी के पैट्रोलिंग के रास्तों का पता लगाने के लिए भेजा है। PoK का रहने वाला है बच्चा
– न्यूज एजेंसी की खबर के मुताबिक, डिफेंस स्पोक्सपर्सन ने बताया, “एलओसी पर गश्त लगा रहे आर्मी जवानों ने एक 12 साल के बच्चे को अरेस्ट किया है। पाक के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) का रहने वाला ये वाला ये बच्चा एलओसी क्रॉस कर शुक्रवार को राजौरी के नौशेरा सेक्टर में आया था।”
– “बच्चे का नाम अशफाक अली चौहान है। उसके पिता पीओके के डूंगर पेल गांव बलोच रेजीमेंट के जवान थे। अशफाक को एलओसी के पास संदिग्ध हालत में घूमते हुए देखा गया। पैट्रोलिंग पार्टी ने उसे तुरंत गिरफ्तार कर लिया गया।”
– “इस बात की आशंका है कि बच्चे को आतंकियों ने भेजा था। इसके लिए पाक आर्मी की भी रजामंदी थी। अशफाक को घुसपैठ के रास्तों का पता लगाने का लिए भेजा जा सकता है।”
– आर्मी ने अशफाक को जांच के लिए पुलिस के सुपुर्द कर दिया है।

पाक का पर्दाफाश हुआ
– आर्मी के सूत्रों की मानें तो 12 साल के बच्चे के एलओसी के पास पकड़े जाने से पाकिस्तान का पर्दाफाश हुआ है।
– “पाकिस्तान हमेशा से कश्मीर में भारतीय फौजों के ह्यूमन राइट्स वॉयलेशन की बात कहता है। जिस इलाके से बच्चे को पकड़ा गया है, वो हाइली मिलिटराइज्ड जोन कहा जाता है। वहां लैंडमाइन्स हैं, गोलीबारी होती रहती है। ऐसे में, किसी बच्चे को उस इलाके में भेजना क्या ह्यूमन राइट्स वॉयलेशन नहीं है?”

पाक के हमले से है तनाव
– 1 मई को पाकिस्तान ने पुंछ में सीजफायर वॉयलेशन किया। इसके बाद पाक आर्मी ने सोमवार को LoC पार की। पुंछ में भारतीय इलाके में 250 मीटर अंदर तक घुसी पाक बॉर्डर एक्शन टीम (BAT) ने आर्मी-बीएसएफ की पैट्रोलिंग पार्टी पर हमला कर दिया। इसके बाद हमले में शहीद 2 भारतीय जवानों के सिर काट लिए।
– बता दें कि पहले भी भारतीय सैनिकों के शवों के साथ बर्बरता हुई है और हर बार इसके लिए (BAT) को जिम्मेदार ठहराया गया।
– 2 मई को संदिग्ध आतंकियों ने शोपियां में एक पुलिस पोस्ट पर हमला किया था। वे 4 इंसास और एक एके-47 राइफल लूटकर ले गए थे।
– इसके बाद 3 मई को पुलवामा में बैंक डकैती हुई। आतंकियों ने बैंक में हमला कर 4 लाख रुपए लूट लिए। यहां के एसपी मोहम्मद भट की मानें तो शुरुआती जांच बताती है कि इन डकैतियों में लश्कर-ए-तैयबा का हाथ था।
– 4 मई को छिपे आतंकियों की खोज के लिए साउथ कश्मीर में 4 हजार जवानों ने साउथ कश्मीर खासकर शोपियां और पुलवामा में सर्च ऑपरेशन चलाया था।
क्या बोले थे जेटली?
– अरुण जेटली ने कहा, “पाकिस्तान के इनकार की कोई विश्वसनीयता नहीं है। इस घटना के हालात साफ इशारा करते हैं कि पहले हमारे जवानों की हत्या और फिर उनके शवों के साथ बर्बरता में PAK आर्मी पूरी तरह शामिल थी।”
– “दो बॉर्डर जो एक-दूसरे से कुछ ही मीटर की दूरी पर हैं। यहां सिक्युरिटी बहुत ज्यादा है। ऐसी जगह पर इस तरह की करतूत को अंजाम देना बिना PAK आर्मी की मदद, उसके पार्टिसिपेशन और एक्टिव इन्वॉल्वमेंट के संभव नहीं है।”
– फॉरेन मिनिस्ट्री के स्पोक्सपर्सन गोपाल बागले ने बुधवार को कहा था, “सरकार के पास इस बात के पर्याप्त सबूत हैं कि हमारे सैनिकों के साथ बर्बरता पाकिस्तानी आर्मी ने ही की। एलओसी से पाकिस्तान की तरफ जाते खून के धब्बे बताते हैं कि घुसपैठिए भारतीय सीमा में पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) से ही घुसे थे और वहीं लौट गए।”
– “शहीदों के सिर काटे जाने की घटना से भारत में जो गुस्सा है, उसे पाकिस्तान हाई कमिश्नर अब्दुल बासित को तलब कर बता दिया गया है। उम्मीद है कि वो अपनी सरकार को इस बारे में बताएंगे। ये उकसाने वाली घटना है।”
– “पाकिस्तान सेना जो हरकत कर रही थी, उसे कवर करने के लिए ये गोलीबारी की जा रही थी। हमारे जवानों के खून के सैम्पल इकट्ठा किए गए हैं। रोजा नाले में खून मिला है।”

Courtesy: Bhaskar

 

Categories: India