जाधव केस: अब फैसले के दिन का इंतजार, जानिए सुनवाई में क्या हुआ

जाधव केस: अब फैसले के दिन का इंतजार, जानिए सुनवाई में क्या हुआ

पाकिस्तान की दलील

कुलभूषण जाधव मामले में भारत के बाद पाकिस्तान ने अपना पक्ष रखा. इस मामले में फैसला की तारीख दोनों पक्षों से बातचीत के बाद ही तय की जाएगा. इससे पहले इंटरनेशनल कोर्ट ने पाक को बड़ा झटका देते हुए, जाधव के कथित कबूलनामे वाली पाकिस्तानी वीडियो को देखने से इनकार कर दिया.

पाकिस्तान की तरफ से काउंसलर सैयद फराज हुसैन जैदी और क्यूसी कुरैशी ने अपना पक्ष रखा है.

पाकिस्तान ने अपने दलील में कहा –

  • फांसी के फैसले पर रोक लगाने वाली भारत की याचिका खारिज की जाए, आईसीजे का राजनीतिक इस्तेमाल कर रहा है भारत
  • कुलभूषण मामले में वियना संधि लागू नहीं होती है, जाधव मामला काउंसलर एक्सेस के योग्य नहीं.
  • 2008 की संधि से तय हुआ है काउंसलर एक्सेस, सुरक्षा के ऐसे मामलों में काउंसलर एक्सेस मुहैया नहीं कराई जा सकती है
  • कुलभूषण जाधव पाकिस्तान के बलूचिस्तान से गिरफ्तार हुआ था, वो ईरान के रास्ते पाकिस्तान में दाखिल हुआ
  • कुलभूषण ने अपना जुर्म कबूल लिया है, वीडियो के जरिए कबूलनामे का देखा जा सकता है
  • भारत ने कुलभूषण के बेगुनाही के सबूत नहीं दिए, जांच में सहयोग नहीं दिया
  • पाकिस्तान की सुरक्षा का ये मामला आईसीजे के अधिकार क्षेत्र में नहीं आता
  • कोर्ट ने अटलांटिस विमान केस में अधिकार क्षेत्र ना होने की दलील मानी थी

कुलभूषण जाधव को फांसी देने की जल्दी नहीं है, कुलभूषण को 150 दिन का समय दिया जाएगा

भारत रख चुका है अपना पक्ष

भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव मामले में नीदरलैंड के हेग में सुनवाई जारी है. अंतरराष्ट्रीय कोर्ट के 11 जजों की बेंच इस केस की सुनवाई कर रही है. भारत-पाकिस्तान को पक्ष रखने के लिए 90-90 मिनट का समय दिया गया है. भारत की ओर से वकील हरीश साल्वे पक्ष रख चुके हैं.

फैसले से पहले ही पाक दे सकता हैं फांसी: भारत

भारत ने कुलभूषण जाधव पर लगे आरोपों को खारिज करते हुए मांग की की है कि जाधव की फांसी की सजा तत्काल सस्पेंड की जाए. भारत ने ये आशंका जताई है कि इंटरनेशनल कोर्ट के फैसले से पहले ही उसे फांसी दी जा सकती है.

भारतीय अधिकारी दीपक मित्तल ने बहस की शुरुआत करते हुए इंटरनेशनल कोर्ट से कहा-

जाधव को न तो अपने कानूनी अधिकारों का इस्तेमाल करने का मौका दिया गया और न ही उन्हें काउंसलर एक्सेस मुहैया कराया गया. आशंका है कि इस मामले में आईसीजे का फैसला आने से पहले ही उनकी मौत की सजा पर अमल किया जा सकता है.

भारत की ओर से वकील हरीश साल्वे ने कहा-

  • जाधव को पाकिस्तान ने 14 मार्च को गिरफ्तार किया था, भारत को जानकारी 25 मार्च को मिली
  • जाधव को ईरान से अगवा किया गया था
  • पाकिस्तान मिलिट्री अदालत ने उन्हें मौत की सजा सुनाई
  • जाधव को मौत की सजा कथित कबूलनामे के आधार पर दी गई
  • जाधव पर लगाए गए सारे आरोप बेबुनियाद हैं
  • जाधव के माता-पिता ने पाकिस्तान जाने के लिए वीजा आवेदन किया, लेकिन उस पर कोई सुनवाई नहीं हुई
  • पाकिस्तान ने भारत को इस मामले की चार्जशीट नहीं दी

पाकिस्तान ने किया मानवाधिकारों का उल्लंघन: भारत

  • भारत ने 16 बार काउंसलर एक्सेस के लिए पाकिस्तान से गुहार लगाई, लेकिन भारत को काउंसलर एक्सेस नहीं मिली जो मानवाधिकार और अंतरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन है.
  • ये मानवाधिकार और वियना संधि का सरासर उल्लंघन है, काउंसलर एक्सेस मिलना चाहिए था.

भारत ने इंटरनेशनल कोर्ट में की थी अपील

बता दें कि भारत ने जाधव की हिरासत और मुकदमे के मामले में ‘वियना संधि के उल्लंघन’ का आरोप लगाते हुए अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में पाकिस्तान के खिलाफ अपील की थी. भारत ने आईसीजे से जाधव की मौत की सजा पर रोक लगाने की मांग की थी.

आईसीजे से की गई अपील में भारत ने पाकिस्तान पर काउंसलर एक्सेस पर वियना सम्मेलन के खुलेआम उल्लंघन का आरोप लगाया है. भारत ने इस बात पर जोर दिया है कि जाधव का ईरान से अपहरण किया गया था. जाधव भारतीय नौसेना से रिटायर होने के बाद ईरान में कारोबारी कामों से गए हुए थे. हालांकि, पाकिस्तान का दावा है कि उनके सुरक्षाबलों ने तीन मार्च, 2016 को बलूचिस्तान से जाधव को गिरफ्तार किया.

भारत सरकार ने अपील की थी कि कुलभूषण की कानूनी मदद के लिए काउंलर एक्सेस मुहैया कराई जाए.

Courtesy:Quint 

Categories: International

Related Articles