मोदी सरकारः आईटी सेक्टर के 56 हजार कर्मचारी हो सकते है बेरोजगार

मोदी सरकारः आईटी सेक्टर के 56 हजार कर्मचारी हो सकते है बेरोजगार

नई दिल्ली। आईटी सेक्टर में कंपनियों द्वारा 50 हजार से भी ज्यादा कर्मचारियों की छंटनी की जा सकती है। जिसे लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी के अन्य नेताओं ने पीएम मोदी को सोशल मीडिया पर घेरते हुए कहा है कि क्या मोदी सरकार देश के युवाओं के साथ किये गए वादे भूल गए हैं या फिर उन्हें पूरा करने में नाकाम हैं।

 

इस सन्दर्भ में राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ‘मुझे यह जानकर दुख हुआ हुआ है कि इस सरकार में दूरदर्शिता की कमी के कारण हमारे युवकों को निराश होना पड़ रहा है।’

 

राहुल के इस ट्वीट पर रीट्वीट करते हुए पार्टी के युवा नेता सचिन पायलट ने कहा कि देश के युवाओं के लिए इस वक़्त छंटनी और बिना रोजगार का विकास सबसे बड़ी चिंता की बात है। सरकार को अब जागना होगा और देश से बेरोजगारी दूर करने पर ध्यान देना होगा। अगर मोदी सरकार द्वारा कोई ठोस कदम नहीं उठाये गए तो लाखों लोगों का भविष्य खतरे में है।

 

 

कांग्रेस नेता शशि थरूर ने लिखा कि मोदी सरकार भारतीय युवकों के साथ किए गए वादों को पूरा करने में नाकाम साबित हो रही है। उनके लिए किसी तरह की सुरक्षा नहीं है।

 

कांग्रेस ने अपने टि्वटर पेज पर लिखा कि नौकरियां जा रहीं हैं। बीजेपी द्वारा रचा झूठ बेनकाब हो रहा है। देश का युवा परेशान है। कांग्रेस ने केंद्र सरकार से सवाल किया है कि क्या उनके पास युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए कोई प्लान है।

 

 

 

वहीं कांग्रेस ने ट्विटर पर एक डेटा जारी करते हुए बताया कि कांग्रेस के 2009-11 के दौरान 21 लाख लोगों को रोजागर के अवसर दिए गए वहीं बीजेपी के 2014-16 के कार्यकाल के दौरान मात्र 4.4 लाख लोगों को ही रोजगार के अवसर मिले।

 

Courtesy: nationaldastak

Categories: India

Related Articles