मुझे कुछ होता है तो बीजेपी ज‍िम्मेदार होगी: सहारनपुर जाने से पहले मायावती ने कहा

सहारनपुर.बसपा चीफ मायावती मंगलवार को सहारनपुर के दौरे पर हैं। वे यहां बड़ागांव एरिया के शब्बीरपुर गांव में हुई हिंसा की विक्ट‍िम फैमिलीज से मुलाकात करेंगी। इससे पहले उन्होंने द‍िल्ली में मीडिया से बातचीत में कहा, ”सहारनपुर में हेल‍ीपैड के अरेजमेंट क‍े ल‍िए हमारी पार्टी के लोगों ने डीएम और एसएसपी से मुलाकात की, लेक‍िन उन्होंने परमि‍शन देने से मना कर द‍िया। मैं द‍िल्ली से बाईरोड सहारनपुर जा रही हूं। मेरे वहां तक पहुंचने और वहां से लौटने तक की ज‍िम्मेदारी सरकार की होगी। अगर मुझे कुछ होता है तो इसके ल‍िए बीजेपी सरकार ज‍िम्मेदार होगी क्योंक‍ि मैं हेल‍िकॉप्टर से जाना चाहती थी, लेक‍िन बाईरोड जाने के ल‍िए मजबूर क‍िया जा रहा है। यूपी में 3 साल बाद क‍िसी घटनास्थल का दौरा कर रही हैं मायावती…

– बताया जा रहा है कि मायावती करीब 3 साल बाद यूपी में किसी घटनास्थल का दौरा कर विक्ट‍िम की फैमिली से मिल रही हैं।

– इससे पहले वे जून 2014 में हुए बदायूं कांड के दौरान पीड़ित परिवारों से मिलने पहुंची थीं और उन्हें मदद का आश्वासन दिया था। बदायूं में दो नाबालिग लड़कियों को रेप के बाद फांसी पर लटका दिया गया था।

ये है मायावती का प्रोग्राम…

– बसपा के जोन को-ऑर्डिनेटर नरेश गौतम ने बताया कि मायावती, पार्टी के महासचिव सतीश मिश्रा, जोन इंचार्ज मुनकाद अली सुबह दिल्ली से चलकर कार से मेरठ बाईपास होते हुए सुबह 9 बजे खतौली के भंगेला चेकपोस्ट पहुंचेंगे।
– यहां पार्टी वर्कर्स को एड्रेस करने के बाद वे मंसूरपुर, रामपुर तिराहा, मलीरा गांव में वर्कर्स से मिलेंगे। इसके बाद सुबह 10 बजे शब्बीरपुर गांव पहुंचेंगे। यहां विक्ट‍िम से मुलाकात के बाद वे कार से ही दिल्ली रवाना हो जाएंगे।

भीम आर्मी ने किया था जंतर-मंतर पर प्रोटेस्ट
– बता दें, शब्बीरपुर गांव के मामले को लेकर भीम आर्मी ने नई दिल्ली के जंतर-मंतर पर प्रोटेस्ट किया था। माना जा रहा है कि उसी को ध्यान में रखते हुए मायावती सहारनपुर पहुंच रही हैं।

क्या था पूरा मामला?
– 5 मई को सहारनपुर के शब्बीरपुर गांव में महाराणा प्रताप शोभायात्रा के दौरान डीजे बजाने से रोकने पर दलितों और ठाकुरों में संघर्ष हो गया था। इसमें ठाकुर कम्युनिटी के एक युवक की मौत हो गई थी।
– इस घटना के बाद दलितों के 60 से ज्यादा मकान जला दिए गए थे और कई वाहन फूंक दिए थे। इसके बाद दलितों की भीम आर्मी की तरफ से इस घटना का विरोध किया गया था।
– शब्बीरपुर के वि‍क्ट‍िम्स को इंसाफ दिलाने के लिए 9 मई को सहारनपुर में इकट्ठा हुए दलितों का पुलिस से संघर्ष हो गया था। सहारनपुर में 9 जगह हिंसा हुई। दुकान और वाहनों में आग लगी दी गई। इस मामले में भीम आर्मी फाउंडर चंद्रशेखर को नामजद किया गया। 21 मई को हजारों दलितों ने दिल्ली में जंतर-मंतर पर प्रोटेस्ट किया।

मायावती के दौरे पर क्या कहते हैं एक्सपर्ट…
– सीनियर जर्नलिस्ट और पॉलिटिकल एक्सपर्ट श्रीधर अग्निहोत्री ने DainikBhaskar.com से बातचीत में बताया, ”मायावती 2014 के बदायूं कांड के बाद 3 साल बाद अब इस तरह से किसी घटनास्थल पर जा रही हैं। इसकी वजह है कि वेस्ट यूपी बसपा का गढ़ माना जाता रहा है, ऐसे में वह अपने वोट बैंक को खिसकने नहीं देना चाहती हैं।”
– ”अब तक सोशल इंजीनियरिंग में दलित वोटों के साथ जातीय समीकरण फिट करने में जुटी बसपा सहारनपुर के जरिए दलित-मुस्लिम गठजोड़ की संभावनाओं को भी टटोलने की कोशिश करेगी।”
– ”दूसरा, बीते विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने वेस्ट यूपी में काफी बेहतर प्रदर्शन किया था। ऐसे में मायावती अपने मजबूत गढ़ से विरोधियों का किला भेदने की तैयारी भी करेंगी। सहारनपुर में भी बीते विधानसभा चुनाव में पार्टी का सूपड़ा साफ हो गया। कहीं न कहीं मायावती अपनी स्ट्रैटजी चेंज करने की कोशिश कर रही हैं।”

Courtesy: Bhaskar.com

 

Categories: Politics

Related Articles