पाकिस्तान फिर होगा पस्त, ये हैं टीम इंडिया की 5 सबसे बड़ी ताकत

पाकिस्तान फिर होगा पस्त, ये हैं टीम इंडिया की 5 सबसे बड़ी ताकत

नई दिल्ली। आइसीसी चैंपियंस ट्रॉफी शुरू होने में अब बस एक दिन बाकी है लेकिन करोड़ों भारतीय फैंस की नजरें 4 जून पर टिकी होंगी जब टूर्नामेंट का सबसे बड़ा मुकाबला खेला जाएगा। भारत बनाम पाकिस्तान। एजबेस्टन में होने वाला ये मुकाबला दिलचस्प और रोमांचक होगा इसमें कोई दो राय नहीं है लेकिन कयास अभी से लगाए जाने लगे हैं कि क्या टीम इंडिया पाकिस्तान पर भारी पड़ पाएगी? आइए जानते हैं कि कौन सी है टीम इंडिया की 5 सबसे बड़ी ताकत जो पाक टीम को चैन से नहीं बैठने देंगी।

1. अनुभव में पाक के सीनियर धुरंधरों का ये हाल

टीम इंडिया में अनुभव की कोई कमी नजर नहीं आती। वहीं, दूसरी ओर पाकिस्तान की बात करें तो उनकी टीम में अनुभवी खिलाड़ियों की फेहरिस्त काफी छोटी है। उनके जिस खिलाड़ी को वनडे क्रिकेट का सबसे ज्यादा अनुभव है वो खुद ही अपने करियर में हमेशा टीम से अंदर-बाहर होता रहा है। ये खिलाड़ी हैं शोएब मलिक (247 वनडे मैच)। चलिए अनुभव को टीम के सबसे सीनियर खिलाड़ियों के साथ जोड़कर देखते हैं। भारत में महेंद्र सिंह धौैनी (286 वनडे), युवराज सिंह (296 वनडे), विराट कोहली (179 वनडे) और रोहित शर्मा (153 वनडे) ये हैं भारतीय टीम के चार खिलाड़ी जिनको सबसे ज्यादा अनुभव है और इनमें से धौनी, युवी और रोहित 30 वर्ष की उम्र को छू चुके हैं। वहीं, पाकिस्तान की टीम में शोएब मलिक (247 वनडे), मोहम्मद हफीज (185 वनडे), वहाब रियाज (78 वनडे) और अहमद शहजाद (78 वनडे) सबसे उम्रदराज खिलाड़ियों में नजर आ रहे हैं, आंकड़े साफ बताते हैं कि अनुभव में टीम इंडिया उनसे काफी आगे है।

2- कप्तानी में क्या कहते हैं आंकड़े

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली हैं जबकि पाकिस्तान के कप्तान सरफराज अहमद हैं। विराट को जहां एक विश्व विजेता टीम का हिस्सा होने के साथ-साथ 179 वनडे मैचों का अनुभव है वहीं दूसरी ओर हैं सरफराज अहमद जिनको 70 वनडे मैचों का अनुभव है। कप्तानी की बात करें तो सरफराज को हाल में ही कप्तान बनाया गया है और उन्हें कुल 4 वनडे मैचों में कप्तानी का अनुभव है जिसमें उनकी टीम ने 4 मैच जीते और 1 हारा है। वहीं विराट को 20 वनडे मैचों में कप्तानी का अनुभव है जिसमें भारत ने 16 जीते और 4 हारे हैं। इन दोनों के व्यक्तिगत आंकड़ों की बात करें तो विराट कोहली ने जहां वनडे करियर में 7755 रन बनाए हैं वहीं सरफराज अहमद अब तक कुल 1568 वनडे रन ही बना पाए हैं। कोहली के नाम 27 शतक और 39 अर्धशतक हैं जबकि पाकिस्तान के कप्तान के खाते में मात्र 2 शतक और 6 अर्धशतक हैं।

3- फिरकी में भारत के 3 शेर पड़ेंगे भारी

स्पिन गेंदबाजों की बात करें तो इस मामले में भी पाकिस्तान की टीम भारत के सामने कहीं भी ठहरती नजर नहीं आती। टीम इंडिया के दो स्पिनर रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा व पार्ट टाइम स्पिनर युवराज सिंह ही पाकिस्तान के चार स्पिनर्स पर भारी साबित होते हैं। भारतीय स्पिनर्स- अश्विन ने 105 वनडे मैचों में 145 विकेट लिए हैं, जडेजा ने 129 वनडे मैचों में 151 विकेट लिए हैं जबकि युवराज ने 296 मैचों में 111 विकेट लिए हैं। इसके अलावा ये भी नहीं भूलना होगा कि पिछली चैंपियंस ट्रॉफी में रवींद्र जडेजा टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज बन थे और भारत ने वो खिताब जीता था। वहीं, पाकिस्तान की तरफ से उनके मुख्य स्पिनर होंगे 18 वर्षीय शादाब खान जिनको कुल 3 वनडे मैचों का अनुभव है जिसमें उन्होंने 5 विकेट लिए हैं। वहीं, इमाद वसीम ने 21 वनडे मैचों में 24 विकेट लिए हैं। इसके अलावा उनके दो ऑलराउंडर मोहम्मद हफीज ने 185 वनडे मैचों में 132 विकेट लिए हैं जबकि शोएब मलिक ने 247 वनडे मैचों में 153 विकेट लिए हैं।

4- विकेटकीपर-बल्लेबाज के मामले में बच्चा है पाकिस्तान

 

टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज की बात करें तो इस मामले में तो भारत के सामने पाकिस्तान कहीं भी नजर नहीं आता। टीम इंडिया के मुख्य विकेटकीपर बल्लेबाज हैं पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी और पाकिस्तान के विकेटकीपर बल्लेबाज हैं उनके मौजूदा कप्तान सरफराज अहमद। इन दोनों के अनुभव और आंकड़ों में इतना बड़ा अंतर है कि ज्यादातर फैंस तो बिना किसी सोच-विचार के धौनी के नाम को आगे रख सकते हैं। 35 वर्षीय धौनी ने अब तक 286 वनडे मैचों में 9275 रन बनाए हैं और इन मैचों में उन्होंने विकेटकीपिंग करते हुए 269 कैच और 94 स्टंपिंग को अंजाम दिया है। वहीं सरफराज अहमद ने 70 मैचों में 1568 रन बनाए हैं और इन मैचों में कीपिंग करते हुए उन्होंने 62 कैच लिए हैं और 22 स्टंपिंग की हैं। धौनी टीम इंडिया के सबसे सीनियर खिलाड़ियों में शुमार हैं, अपनी कप्तानी में टीम को आइसीसी के सभी खिताब हासिल करा चुके हैं और उनके पास अब कुछ भी साबित करने को बचा नहीं है। यहां तक कि भारत के एक्स्ट्रा विकेटकीपर दिनेश कार्तिक (71 वनडे) को भी सरफराज अहमद से ज्यादा अनुभव है।

5- सलामी बल्लेबाजों में भी…..

 

मिडिल ऑर्डर में तो भारतीय टीम के ही बल्लेबाज पाकिस्तान से आगे हैं लेकिन ओपनर्स में भी टीम इंडिया ही बाजी मारती नजर आ रही है। पारी की शुरुआत वनडे क्रिकेट मेें हमेशा ही अहम रही है और इस मामले में भी भारतीय ओपनर्स पाकिस्तान के सलामी बल्लेबाजों पर भारी पड़ते नजर आ रहे हैं। भारतीय पारी की शुरुआत की जिम्मेदारी शिखर धवन और रोहित शर्मा पर रहेगी जिन्होंने पिछली चैंपियंस ट्रॉफी में ही एक साथ ओपनिंग करने की शुरुआत की थी। दोनों ने कई मैचों में रिकॉर्ड साझेदारी को अंजाम दिया और भारत ने वो खिताब जीता था। दोनों बल्लेबाजों के बीच तकरीबन 54 वनडे मैचों में पहले विकेट के लिए 2450 रनों की साझेदारी हो चुकी है। यही नहीं, ये दोनों अब वनडे क्रिकेट इतिहास में पांचवीं सबसे सफल सलामी जोड़ी है जबकि भारतीय वनडे इतिहास में तेंदुलकर-गांगुली और तेंदुलकर-सहवाग के बाद तीसरी सबसे सफल जोड़ी। वहीं, दूसरी तरफ है पाकिस्तान की सलामी जोड़ी जिसमें एक तरफ हैं अहमद शहजाद जिन्होंने 78 मैचों में 2585 रन बनाए हैं लेकिन दूसरी तरफ हैं पूर्व कप्तान अजहर अली जिन्हें इसी साल ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 1-4 से मिली हार के बाद न सिर्फ कप्तानी छोड़नी पड़ी थी बल्कि उनको टीम से भी बाहर कर दिया गया था। यानी अब पाकिस्तान को एक ऐसे बल्लेबाज के साथ शुरुआत करनी होगी जो हाल में टीम से बाहर रहा है, जिसकी उम्र 32 है और जिसको सिर्फ 45 वनडे मैचों में 1605 रन बनाने का अनुभव है।

– क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स

‘टीम इंडिया में शानदार सेनापति के साथ-साथ चार ऐसे खिलाड़ी भी हैं जो सेना को अपने दम से जीत दिलाने का दम रखते हैं। ये हैं धौनी, युवराज सिंह, विराट कोहली, उमेश यादव और अश्विन। विराट को मिलाकर ये पांच महारथी पाकिस्तान पर भारी पड़ेंगे। पाकिस्तान के खिलाफ जिन दो खिलाड़ी मेरे फेवरेट होंगे वो हैं कप्तान विराट कोहली और पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी।’ – संजय भारद्वाज (गौतम गंभीर के कोच व पूर्व क्रिकेटर)

‘पूर्व कप्तान और विकेटकीपर-बल्लेबाज धौनी अब भी सबसे बड़ी ताकत होंगे, इस उम्र में वो कई बार साबित कर चुके हैं। इसमें कोई दो राय नहीं कि वो आज भी टीम इंडिया और दुनिया के बेस्ट फिनिशर हैं। भारतीय फैंस बेसब्री से इस मुकाबले का इंतजार कर रहे हैं क्योंकि दो साल बाद ये दोनों टीमें अब जाकर आमने-सामने होंगी। क्रिकेट से दोनों देश करीब आए हैं। क्रिकेट डिप्लोमेसी काफी लंबे समय से दोनों देशों के बीच चलती रही है, हां, हाल की घटनाओं से तनाव जरूर बढ़ा है। दोनों देशों के बोर्ड इस मैच में अपने क्रिकेटरों को संयमित रहने की नसीहत जरूर दें ताकि मैच के दौरान खिलाड़ियों के बीच कुछ अप्रिय न हो।

Courtesy: Jagran

Categories: Sports

Related Articles