मोदी जी का विदेश प्रेम उन्हें किसानों की हत्या पर दुख जताने नहीं देता!

नई दिल्ली। देश में किसानों की हालात बद से बदतर हो चुकी है। कई राज्यों में किसान आंदोलन चल रहा है। फसल का उचित मूल्य न मिलने और कर्ज के दबाव से किसान आत्महत्या कर रहे हैं। वहीं कुछ किसान आत्महत्या करने की जगह सरकार के सामने अपनी मांगों को रख रहे हैं।

कई किसान संगठन देश के विभिन्न राज्यों में पिछले 8 दिनों से लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं। मध्यप्रदेश में तो किसान आंदोलनों को कुचलने के लिए सरकार ने गोली चलवा दी। सरकार के सिपाहियों ने 6 किसानों की हत्या कर दी और 5 किसान गंभीर रूप से घायल भी हो गए। अन्नदाता से सरकार जंग लड़ रही है।

 

पीएम मोदी सोशल मीडिया के माध्यम से दुनिया भर के लोगों को बधाई और श्रद्धांजली देते हैं लेकिन देश के किसानों की हत्या पर दुख जताने का उनके पास समय नहीं है। किसानों की हत्या को 48 घंटे हो चुके है लेकिन पीएम का एक ट्वीट तक नहीं आया। पीएम योग दिवस की तैयारी कर रहे हैं वो लगातार योग की वीडियो को शेयर कर रहे हैं।

 

म्यांमार के सौ से ज्यादा सैनिकों और उनके परिवार के सदस्यों को ले जा रहे लापता सैन्य विमान का मलबा गुरुवार को अंडमान सागर में मिला। विमान में चालक दल के 14 सदस्यों के साथ 106 यात्री (सैनिक और उनके परिवार के सदस्य) सवार थे। विमान में बच्चे और महिलाएं भी थी। ये बेहद दुखद घटना है। पीएम मोदी ने इस दूर्घटना पर दूख जताया और सहयोग का भरोसा दिलाया है।

जैसे पीएम दूसरे देश के लोगों के दुख में शरीक हो रहे हैं अच्छा होता अगर देश के किसानों के दुख में भी शरीक हो जाते। लेकिन मृत किसान के परिवार वाले शायद पीएम के सांत्वना के भी लायक नहीं हैं। प्रधानसेवक की चुप्पी मृत किसानों के परिजनों पर पहाड़ बन कर टूट रही होगी और पीएम का वो पोस्टर याद आ रहा होगा जिसमे लिखा था “बहुत हुआ किसानों पर अत्याचार, अबकी बार मोदी सरकार”

Courtesy: nationaldastak

Categories: India

Related Articles