आधार-UAN के डाटा में फर्क होने से एक लाख लोगों के PF क्लेम अटके

आधार-UAN के डाटा में फर्क होने से एक लाख लोगों के PF क्लेम अटके
नई दि‍ल्‍ली.   आधार और ईपीएफओ के यूनि‍वर्सल अकाउंट नंबर (UAN) के डाटा में मिलान नहीं होने की वजह से केंद्र सरकार की दो रोजगार योजनाओं से जुड़े एक लाख से ज्‍यादा लोगों के प्रोविडेंट फंड क्‍लेम सेटल नहीं हो पाए। बता दें कि ये एक लाख लोग प्रधानमंत्री रोजगार प्रोत्‍साहन योजना (PMRPY) और प्रधानमंत्री परि‍धान रोजगार प्रोत्‍साहन योजना (PMPRY) से जुड़े हैं।ईपीएफओ करता है वेरि‍फि‍केशन… 
– सरकार ने अगस्‍त 2016 में ऑर्गनाइज्ड सेक्टर में जॉब्स को बढ़ावा देने के लिए PMRPY और PMPRY की शुरुआत की थी। इनके तहत ईपीएफ अकाउंट वाले नए कर्मचारि‍यों को सरकार की ओर से शुरू के तीन साल के दौरान 8.33 फीसदी का कॉन्‍ट्रि‍ब्‍यूशन मि‍लता है।
– इम्प्लॉइज के वेरि‍फि‍केशन का काम ईपीएफओ देखता है। इसमें शामि‍ल लोगों को अपना यूएएन नंबर आधार के साथ लिंक करना होता है।
गड़बड़ी को 30 जून तक ठीक कि‍या जाए
–  ईपीएफओ ने अपने सभी फील्‍ड अफसरों से कहा कि‍ है इस गड़बड़ी को 30 जून तक दुरुस्‍त कि‍या जाए।
– इस सि‍लसि‍ले में 8 जून को एक लेटर जारी कि‍या गया था। लेटर में कहा गया है कि‍ 8 जून तक मौजूद डाटा के मुताबि‍क, 105591 ईपीएफ मेंबर फायदे से दूर रहे, क्‍योंकि‍ उनका डाटा आपस में मेल नहीं खाता। इस लेटर की कॉपी Moneybhaskar के पास है।
– लेटर में फील्‍ड अफसरों से कहा गया है कि‍ ऐसे इम्प्लॉइज और उनके मालि‍कों से संपर्क कर खुद उनके आधार और दूसरे जरूरी रि‍कॉर्ड हासि‍ल करें। इन दोनों सरकारी योजनाओं के तहत लाभ देने के लि‍ए आधार डाटा और ईपीएफओ के पास उपलब्‍ध जानकारी का मि‍लान कि‍या जाए। अगर मि‍लान हो जाता है तो पैसा जारी कर दि‍या जाए और दोनों का डाटा मेल नहीं होता तो पैसा जारी नहीं किया जाए।
हर कर्मचारी को देनी होगी डि‍टेल
– ईपीएफओ अपने फील्‍ड अफसरों को पहले ही यह नि‍र्देश जारी कर चुका है कि‍ वह इस बात को सुनि‍श्‍चि‍त करें कि‍ इम्‍प्‍लॉई पेंशन स्‍कीम 1995 से जुड़ने वाले हर कर्मचारी की आधार डि‍टेल हासि‍ल हो जाए।
– यह नि‍यम 1 जुलाई 2017 से लागू होगा। हालांकि‍, पूर्वोत्‍तर के राज्‍यों के लि‍ए यह नि‍यम 1 अक्‍टूबर 2017 से लागू होगा।
– इसके अलावा, क्‍लेम सेटलमेंट करने की तय सीमा को 20 दि‍न से घटाकर 10 दि‍न कर दि‍या गया है।
Courtesy: Bhaskar
Categories: Finance