मंडल सेना ने बिहार से शुरू किया ‘मोदी हटाओ-देश बचाओ’ अभियान

मंडल सेना ने बिहार से शुरू किया ‘मोदी हटाओ-देश बचाओ’ अभियान

मधेपुरा। बिहार के मधेपुरा से मंडल सेना के तत्वाधान में मंडल मसीहा वीपी सिंह को श्रद्धांजलि देते हुए शनिवार को ‘मोदी हटाओ-देश बचाओ’ आंदोलन की शुरूआत की गई। अभियान के तहत मुख्यालय के कॉलेज चौक पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का पुतला दहन किया गया।

यहां उपस्थित विभिन्न वक्ताओं ने उपस्थित जनसमूह को सम्बोधित करते हुए कहा कि जहाँ एक ओर देश में किसानों की आत्महत्याएं लगातार हो रही है, सरहद पर जवान मारे जा रहें हैं, बैंकिंग में मनमाना नियमों के तहत जनता को लूटा जा रहा है, वहीं दूसरी ओर देश में इमरजेंसी जैसे हालात हैं। लालू प्रसाद, मायावती, अखिलेश मुलायम, ममता बनर्जी, करूणानिधि पर हमला है, विपक्ष का भयादोहन हो रहा है। केंद्र सरकार के 5 लाख कर्मियों को निकाला जा रहा है। मोदी सरकार रोजगार और उसके साथ आरक्षण ख़त्म कर रही है। रेल को बेचा जा रहा है। रेल में 4 लाख नौकरियां समाप्त कर दी गयी है। आरक्षण स्वतः समाप्त है। ईवीएम के साथ छेड़छाड़ हो रही है। आपका वोट अब आपका नहीं रहा है। बैंक से अपना ही पैसा नहीं मिलता है। अगर मिलेंगे तो प्रति निकासी या जमा 300 रुपये तक देने होंगें।

वक्ताओं ने कहा कि किसान आत्महत्या कर रहे हैं या उन्हें भाजपा सरकार गोली का शिकार बना रही है। कॉर्पोरेट का अरबों लोन माफ़ है पर किसानों के लिए केंद्र मंत्री इसे फैशन बता रहे हैं। उच्च शिक्षा का निजीकरण करने के लिए बेताब मोदी सरकार यूनिवर्सिटी और कॉलेज में सीटें कम कर रही है। दलित, पिछड़े, अल्पसंख्यक छात्रों का दाखिला कम से कम करने के रोज नए कदम लिए जा रहें है। देश मुश्किल में है। देश 200 वर्षों तक ईस्ट इण्डिया कंपनी का गुलाम रहा। अब मोदी सरकार इस देश के संसाधन लूटने के लिए, इसे रिलाएंस का गुलाम बना रही है। अडानी और अम्बानी को लेकर मोदी विदेश यात्रा में इनके लिए दलाली करते हैं। इससे देश के स्वाभिवान पर निरंतर कुठाराघात हो रहा है।

इस अवसर पर प्रो. सूरज मंडल ने कहा कि मंडल सेना का मोदी हटाओ, देश बचाओ चरण बद्ध आंदोलन को सफल बनाना सभी युवाओं और देशभक्त नागरिकों का परम कर्तव्य है। उन्होंने कहा कि मंडल सेना नरेंद्र मोदी को चेतावनी देती है कि 9 अगस्त, 2017 तक युवाओं को रोजगार दिए जाने की संख्या में दोगुना बढ़ाने की घोषणा नहीं की गयी, तो मंडल सेना मोदी सरकार को हटाने के लिए मंडल मार्च या सामाजिक न्याय मार्च 9 अगस्त को शुरू करेगी।

प्रो जवाहर पासवान ने भी आरक्षण हटाने का विरोध करते हुए मोदी सरकार को संविधान से छेड़छाड़ नहीं करने की सलाह दी। प्रो. ललन साहनी ने आह्वान किया अगर देश दलित, पिछड़े अपने अधिकारों के प्रति सजग रहें तो कोई भी फिर आरक्षण पर हमला करने की सोच नहीं सकता। अरुण कुमार और कृष्णा कुमार ने माध्यमिक शिक्षा और शिक्षक की दयनीय हालत पर चिंता जाहिर किये।

अंगद यादव ने कहा कि मोदी सरकार में भ्रष्टाचार केंद्रित हुआ है। अब मंत्री नहीं, पार्टी पैसे उसूलती है। गूगल पासवान ने आरक्षण के लिए मर मिटने की बात कही। युवा नेता कौशल कुमार यादव युवाओं को सामाजिक न्याय में साथ देने की अपील की। इंजीनियर हरीश मंडल ने मूलनिवासी एकता पर बल दिया। अशोक कामती ने युवाओं से आह्वान किया की वे इस राजनैतिक और सामाजिक अन्याय के विरुद्ध संघर्ष के लिए कृत संकल्प हों। हेमेंद्र कुमार भी युवाओं के वोट पर सत्ता में आये मोदी द्वारा युवाओं पर ही पलटवार को दुर्भाग्यपूर्ण कहा।

उन्होंने कहा कि…
1. सरकारी रोजगार के अवसर कम करने या समाप्त करने के सभी कदम केंद्र व राज्य सरकार तुरंत वापस लें। रेलवे के निजीकरण पर तुरंत रोक लगे। एयर इण्डिया की बिक्री का आदेश वापस लिया जाय।

2. आरक्षण व्यवस्था को संविधान सम्मत एवं अक्षुण्ण रखा जाए तथा आरक्षण में मोदी सरकार द्वारा की गई गैरकानूनी छेड़छाड़ को तुरंत रोका जाय।

3. सुप्रीम कोर्ट द्वारा आरक्षित वर्ग में नौकरी के संबंध में दिए गए गैरकानूनी आदेश कि आरक्षित वर्ग के उम्मीदवार को आरक्षित वर्ग में ही नौकरी मिलेगी, चाहे उसने सामान्य वर्ग के उम्मीदवारों से ज्यादा अंक क्यों न हासिल किए हों, को तुरंत निरस्त करते हुए, पहले से लागू आरक्षण की सही परिभाषा पुनः बहाल किया जाय। प्रोमोशन में आरक्षण लागू हो।

4. मंडल आयोग को पूर्ण रूपसे लागू किये बगैर, तथा मंडल कमीशन की अनुशंसाओं को लागू किये जाने पर एक ‘एक्शन टेकन रिपोर्ट’ प्रस्तुत किये बगैर मोदी सरकार द्वारा नए पिछड़े वर्ग आयोग का गठन को तुरंत रोका जाए।

5. राष्ट्रीय स्तर पर निजी मेडिकल कॉलेजों के परास्नातक कोर्स में से एससी, एसटी और ओबीसी का कोटा अविलम्ब बहाल किया जाए।

6. न्यायपालिका में आरक्षण लागू किया जाए।

7. निजी क्षेत्र और ठेकेदारी व्यवस्था में आरक्षण लागू किया जाए।

8. OBC आरक्षण से गैर संवैधानिक क्रीमी लेयर (Creamy Layer) हटाया जाय। इस बाबत सैकड़ों युवाओं का हस्ताक्षरयुक्त ज्ञापन प्रधान मंत्री को ही भेजा जा रहा है।

मंडल सेना ने आरोप लगाया कि सामाजिक न्याय मुद्दे पर जनता से वोट लेने वाले तमाम राजनैतिक दल और नेता चुप हैं। मोदी सरकार उन्हें ब्लैकमेल कर चुप करा रही है। भाजपा में शामिल अनुसूचित जाति/जनजाति/OBC के अधिकांश नेता अपने स्वार्थ में डूबे हुए हैं और समाज की हितों की रक्षा करने में असमर्थ हैं। संघर्ष हमें स्वयं करना होगा। हमें फिर से अपनी आज़ादी की लड़ाई लड़नी होगी। आरक्षण हम मूलनिवासी बहुजन लेकर रहेगें। मंडल सेना के तत्वाधान में रोजगार और आरक्षण के समर्थन में कई कार्यक्रम देश भर में किये जाने का भी आह्वान किया गया।

Courtesy: nationaldastak

Categories: India