दहेज न मिला तो बहू के हाथ-पैर बांधे, सिर मुंडवाकर घर से निकाला

दहेज न मिला तो बहू के हाथ-पैर बांधे, सिर मुंडवाकर घर से निकाला

लखनऊ। राजधानी लखनऊ से इंसानियत को शर्मसार करने वाला मामला सामने आया है। दहेज न मिलने पर यहां एक बहू को उसके पति, सास व ससुर ने सिर मुंडवाकर घर से बाहर निकाल दिया। यह पूरा मामला तब सामने आया जब रविवार को अपनी नौ माह की बच्ची के साथ शबनम मायके पहुंची और अपनी बूढ़ी मां को आपबीती बताई। मामले में पारा थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।

करीब दो वर्ष पहले कश्मीरी मोहल्ला अंगूरीबाग निवासी शबनम का  डूडा कॉलोनी निवासी असलम के बेटे कासिम से निकाह हुआ था। रिक्शा चालक कासिम शादी के महज कुछ दिनों बाद से कभी फ्रिज तो पैसे की डिमांड करने लगा। जब मांग पूरी न हुई तो तलाक की धमकी देने के साथ मारना-पीटना शुरू कर दिया।

शबनम के मुताबिक, दहेज की मांग पूरी न होने पर ससुर असलम भी उसे शारीरिक व मानसिक यातनाएं देने लगे। रविवार आधी रात को सास ने उसके दोनों हाथ बांध दिए और ससुर ने उसका सिर मुंड कर उसे गंजा कर दिया। फिर उसके कपड़े फाड़ कर घर से बाहर निकाल दिया।

चीख-पुकार के बीच मौके पर पहुंची पारा पुलिस भी शबनम को दोषी मानते हुए थाने ले जाने लगी। सूचना मिलने पर इसी दौरान उसकी मां और भाई के आने व हस्तक्षेप करने पर वह किसी तरह अपने मायके आ सकी।

शबनम ने बेगमात रायल फैमिली ऑफ अवध के महिला प्रकोष्ठ से इसकी शिकायत की है। बेगमात रायल फैमिली की अध्यक्षा फरहाना मालिकी ने बताया कि मामले की शिकायत पारा थाने में दर्ज कराई है। इसके अलावा वे इस मामले को महिला आयोग के समक्ष रखेंगी।

निकाह के बाद दो साल में शबनम पर इतने जुल्म हुए कि वह ससुराल नहीं जाना चाहती है। कहती हैं कि वह जहर खा लेंगी, मगर अब ससुराल नहीं जाएंगी। वहीं, शबनम की मां का कहना है कि बेटी को पहले कई बार समझा-बुझाकर ससुराल भेज चुकी हैं, लेकिन इस बार वह किसी सूरत में ससुराल नहीं जाना चाहती है।

Courtesy: .nationaldastak.

Categories: Crime