भाजपा को राहुल ने चीनी राजदूत मुद्दे पर दिया करारा जवाब, कहा जब 1000 चीनी सैनिक बॉर्डर से अंदर आ रहे थे, मैं चीनी प्रधानमंत्री के साथ झूला नहीं झूल रहा था

भाजपा को राहुल ने चीनी राजदूत मुद्दे पर दिया करारा जवाब, कहा जब 1000 चीनी सैनिक बॉर्डर से अंदर आ रहे थे, मैं चीनी प्रधानमंत्री के साथ झूला नहीं झूल रहा था
एक तरफ भारत-चीन में डोकलाम सीमा विवाद पर बहस छिड़ी हुई है, वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की मुलाकात चीनी राजदूत से हुई है।  कांग्रेस का कहना है कि राहुल गांधी के साथ ही पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रहे शिवशंकर मेनन ने भी चीनी राजदूत से मुलाकात की है। यही नहीं, दोनों ने भूटानी राजदूत से भी मुलाकात की है। पर ये महज शिष्टाचार वश थी। इसके अलग मायने नहीं निकाले जाने चाहिए। वैसे, राहुल की इस मुलाकात पर बढ़ने विवादों के बीच चीनी दूतावात ने उन जानकारियों को वेबसाइट से हटा दिया है, जिसमें राहुल से मुलाकात की जानकारी दी गई थी।
कांग्रेस द्वारा आधिकारिक तौर पर बयान जारी करने के बाद खुद राहुल गांधी ने भी इस मसले पर चुप्पी तोड़ी है। उन्होंने स्वीकार किया कि उन्होंने चीनी राजदूत से मुलाकात की थी। उसके साथ पूर्व एनएसए शिवशंकर मेनन भी थे। राहुल ने कहा कि उनके साथ नॉर्थ-ईस्ट के नेता भी थे, साथ ही भूटानी दूतावास के लोग भी। राहुल गांधी ने कहा कि साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि उन्हें भी अपने देश के बारे में जानने का पूरा हक है।

 

राहुल गांधी ने चीनी राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री मोदी के बीच हुई 2014 की मुलाक़ात का मज़ाक भी उड़ाया|

 

 

 

Categories: Politics

Related Articles