टीम इंडिया का कोच बनने के बाद सौरव गांगुली से लड़ाई पर पहली बार बोले रवि शास्‍त्री, कहा- ऐसा कुछ भी नहीं है

टीम इंडिया का कोच बनने के बाद सौरव गांगुली से लड़ाई पर पहली बार बोले रवि शास्‍त्री, कहा- ऐसा कुछ भी नहीं है

मंगलवार (11 जुलाई, 2017) रात बीसीसीआई द्वारा टीम इंडिया के मुख्य कोच के रूप में पूर्व कप्तान रवि शास्त्री का चयन किया गया है। विवादों के बीच मुख्य कोच चुने जाने पर रवि शास्त्री ने कहा है कि टीम इंडिया उनकी प्रमुखता में होगी। शास्त्री ने मीडिया के उस सवाल का जवाब देते हुए ये बात कही जिसमें उनके और सौरव गांगुली के रिश्तों में खटास होने की बात गई। वर्तमान में बोर्ड ऑफ कंट्रोल फॉर क्रिकेट इन इंडिया (बीसीसीआई), क्रिकेट अडवाईजरी कमिटी (सीएसी) के सदस्य सौरव गांगुली पिछले साल ही नियुक्त किए गए थे। उच्च पदस्थ सूत्रों ने पीटीआई को बताया कि पूर्व कप्तान सौरव गांगुली शास्त्री की नियुक्ति को लेकर सहमत नहीं थे बल्कि अनिल कुंबले को दोबारा टीम इंडिया का मुख्य कोच नियुक्त किए जाने के पक्ष में थे। हालांकि मुख्य कोच बनने के बाद शास्त्री ने कहा कि यह आगे बढ़ने का समय है। यहां बहस होंगी लेकिन अब हमें बड़े परिपेक्ष की तरफ देखने की आवश्यकता है। शास्त्री ने आगे कहा, ‘साक्षात्कार के दौरान गांगुली ने मुझसे काफी अच्छे सवाल पूछे थे। हमें आगे बढ़ने की जरूरत है। व्यक्तिगत नहीं बल्कि सभी को मिलकर टीम इंडिया के पक्ष में अच्छा करना होगा।’ ये बात शास्त्री ने इंडिया टुडे को दिए एक साक्षात्कार में कहीं हैं।

बतौर टीम इंडिया के निदेशक रहे शास्त्री ने आगे कहा कि भारतीय टीम और विराट कोहली अगले कुछ सालों में महान ऊंचाईयों पर पहुंच सकते हैं। मुझे लगता है कि विराट अभी तक चोटी पर नहीं पहुंचे हैं। बल्कि अगले पांच या छह साल विराट कोहली को परिभाषित करेंगे। वर्तमान में टीम इंडिया सभी फॉर्मेट में नंबर वन बन सकती है। पिछले कुछ सालों की तुलना में टीम इंडिया और बेहतर कर सकती है। ये भारतीय टीम की खूबी है और क्षमता है। हमारे पास तेज गेंदबाजों की हैं जोकि 20 विकेट ले सकते हैं। भारतीय टीम के पास क्षमतावान गेंदबाज है जो हर परिस्थिति में बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं। उन्होंने आगे कहा कि मैं एक और उम्र में बड़ा चैलेंज लेने के लिए तैयार हूं।

जानकारी के लिए बात दें कि टीम इंडिया का मुख्य कोच कौन बनेगा, यह फैसला लेना सीएसी के लिए बेहद मुश्किल था। मालूम चला है कि रवि शास्त्री और वीरेंद्र सहवाग के बीच काफी कड़ी प्रतिस्पर्धा थी। लेकिन विराट कोहली ने शास्त्री के पिछले शानदार कार्यकाल को देखते हुए उनके नाम की सिफारिश की। बता दें कि पिछले साल भी रवि शास्त्री ने कोच पद के लिए आवेदन किया था। उस वक्त अनिल कुंबले भी रेस में थे। लेकिन शानदार परफॉर्मेंस के बावजूद उन्हें ड्रॉप कर दिया गया। इस दौरान उनका गांगुली से झगड़ा भी हुआ था। उन्होंने गांगुली पर आरोप लगाया था कि वह उनके इंटरव्यू के दौरान मौजूद नहीं थे। जबकि गांगुली ने कहा था कि क्या शास्त्री सीरियस थे? उन्होंने कहा कि शास्त्री को बैंकॉक में छुट्टियां मनाने के दौरान इंटरव्यू में शामिल नहीं होना चाहिए था।

Courtesy:Jansatta 

Categories: Sports

Related Articles