नीतीश कुमार के खिलाफ देशभर में उबाल, दलित छात्रों ने फूंका पुतला

नीतीश कुमार के खिलाफ देशभर में उबाल, दलित छात्रों ने फूंका पुतला

इलाहाबाद। नीतीश कुमार ने बुधवार की शाम मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था, जिसके साथ ही 20 महीने पुरानी महागठबंधन सरकार अचानक गिर गई। भाजपा के समर्थन से गुरुवार को नीतीश कुमार ने एक बार फिर बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। वह छठी बार राज्य के मुख्यमंत्री बने हैं। वहीं, भाजपा के सुशील कुमार मोदी ने उप मुख्‍यमंत्री शपथ ली।

खास बातें-

  1. नीतीश कुमार के बीजेपी में जाने से देश भर में आक्रोश
  2. इलाहाबाद विश्वविद्यालय के दलित छात्रों ने फूंका पुतला
  3. छात्रों ने कहा दलितों को नीतीश कुमार से काफी उम्मीद थी
  4. नीतीश कुमार ने दलितों के भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया

नीतीश कुमार द्वारा बीजेपी से गठबंधन करने के बाद पूरे देश में नीतीश के खिलाफ रोष का माहौल है। जगह-जगह नीतीश कुमार और भाजपा के पुतले जलाए जा रहे हैं। इलाहाबाद विश्वविद्यालय के दलित छात्रों ने बालसन चौराहे पर नीतीश कुमार का पुतला फूंक कर अपना विरोध दर्ज कराया। पुतला फूंक रहे छात्रों का कहना है कि जिस तरह से दलितों ने उन्हें अपना मत देकर मुख्यमंत्री बनाया। उन्होंने बीजेपी के साथ गलबहियां कर दलितों के भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया गया है।

 

छात्रों का कहना है कि नीतीश कुमार को बीजेपी का साथ नहीं जाना चाहिए था। दलितों को उनसे काफी अपेक्षा थी उनके साथ गलत हुआ है। दलित छात्रों का कहना है कि नीतीश ने दलितों के भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया है। दलितों को सीएम से काफी उम्मीदें थीं। जिससे नाराज दलित छात्रों ने बालसन चौराहे पर नीतीश का पुतला फूंककर विरोध प्रदर्शन किया।

आपको बता दें कि साल 2013 में प्रधानमंत्री पद के दावेदार के रूप में नरेंद्र मोदी का विरोध करते हुए नीतीश कुमार ने एनडीए का साथ छोड़ा दिया था। इसके बाद लालू और कांग्रेस के साथ मिलकर जोरदार वापसी की थी और बिहार में सरकार बनाई थी। लेकिन 20 महीने बाद ये गठबंधन टूट गया। तेजस्वी यादव के इस्तीफे को लेकर हुई सियासी उठापटक के बाद नीतीश कुमार ने बुधवार की शाम राजद—जेडीयू और कांग्रेस महागठबंधन सरकार से इस्तीफा दे दिया।

 

नीतीश कुमार ने जैसे ही इस्तीफा दिया उसके बाद शाम 7.35 बजे दिल्ली में बीजेपी संसदीय बोर्ड की बैठक हुई और बिहार में नीतीश कुमार को समर्थन देने की घोषणा की गई। इसके कुछ ही समय पश्चात सुशील मोदी ने बीजेपी को समर्थन देने का ऐलान कर दिया और अलसुबह नीतीश कुमार ने बीजेपी के साथ मिलकर नई सरकार बना ली।

Courtesy: nationaldastak.

Categories: India
Tags: CM, Dalit, EFFIGY, students

Related Articles