स्मृति ईरानी का पीछा करने वालों जैसा सलूक BJP नेता के बेटे संग क्यों नहीं?- सागरिका घोष

स्मृति ईरानी का पीछा करने वालों जैसा सलूक BJP नेता के बेटे संग क्यों नहीं?- सागरिका घोष

चंडीगढ़। आईएएस अफसर की बेटी से छेड़खानी और कार से पीछा करने के मामले में हरियाणा बीजेपी अध्यक्ष सुभाष बराला के बेटे विकास बरला का नाम आने के बाद पुलिस प्रशासन और राज्य सरकार बचाव की हरसंभव कोशिश करते नजर आ रही है। इस मामले में राज्य के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर पर सुभाष बराला को बचाने का आरोप लग रहा है। अब इस मुद्दे पर वरिष्ठ पत्रकार सागरिका घोष ने बीजेपी सरकार पर हमला बोला है।

खास बातें-

  1. वरिष्ठ पत्रकार सागरिका घोष ने बीजेपी पर बोला हमला
  2. सागरिका घोष ने स्मृति ईरानी की घटना से की तुलना
  3. चार लड़कों पर स्मृति ईरानी को पीछा करने का था आरोप
  4. चारों लड़कों को पुलिस ने तत्काल गिरफ्तार किया था

सागरिका घोष ने बीजेपी नेता के इस मामले की तुलना केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी का दिल्ली विश्वविद्यालय के चार लड़कों का पीछा किए जाने की घटना से की है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि, “जब स्मृति ईरानी का डीयू के लड़कों ने पीछा किया तो उन्हें गिरफ्तार किया गया, सजा दी गई, वैसा ही बीजेपी के बेटा बचाओ नेता के बेटे के खिलाफ क्यों नहीं किया जा रहा?”

 

इसके पहले तमाम विपक्षी पार्टियों के नेताओं ने बीजेपी सरकार पर निशाना साधा था। वहीं हरियाणा बीजेपी के उपाध्यक्ष रामवीर भट्टी ने एक शर्मनाक बयान देकर बीजेपी की गन्दी मानसिकता प्रकट की थी। उन्होंने कहा था कि “वो लड़की रात को 12 बजे बाहर क्यों घूम रही थी?” रामवीर भट्टी ने ये भी कहा था कि इस समय माहौल बहुत खराब है, इसलिए रात 12 बजो के बाद लड़कियों को घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए।

फिल्म अभिनेत्री रवीना टंडन ने भी रामवीर भट्टी पर भड़कते हुए ट्वीट कर कहा था कि ये कायर हैं, इन लोगों का बस चले तो ये सूरज ढलने के बाद अपनी बेटियों को ताले में बंद कर दें।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने भी सफाई देते हुए कहा कि बेटे के किए के लिए पिता को सजा नहीं दी जा सकती इसलिए सुभाष बराला को पद से नहीं हटाया जाएगा।

Courtesy: nationaldastak.

Categories: India

Related Articles