नीतीश कुमार अब टिकने वाले नहीं, हाथी ने अपने सूंड में लपेट लिया है- लालू यादव

नीतीश कुमार अब टिकने वाले नहीं, हाथी ने अपने सूंड में लपेट लिया है- लालू यादव

पटना। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने एक बार फिर नीतीश, आरएसएस और भाजपा पर एक बार फिर करारा हमला किया है। लालू ने नेशनल दस्तक से बातचीत में कहा, मायावती, अखिलेश, शरद पवार, ममता बनर्जी और बहुत सारे लोग चट्टान की तरह 2019 के चुनाव से पहले हमने तैयारी कर रखी है। आरएसएस भाजपा में काफी घबराहट है। नीतीश कुमार का यूज एंड थ्रो वाला राजनीतिक चरित्र रहा है।

मुख्य बातें-

  1. नेशनल दस्तक से बातचीत में बोले लालू- 2019 से पहले चट्टान की तरह खड़े होंगे
  2. लालू यादव ने कहा- नीतीश का यूज एंड थ्रो वाला राजनैतिक चरित्र है
  3. राष्ट्रपति चुनाव में भी रातों-रात बदल गए थे नीतीश कुमार

 

लालू यादव ने कहा,  ”नीतीश कुमार ‘संघ मुक्त भारत’ बनाने की बात करते थे। कहते थे मिट्टी में मिल जाएंगे भाजपा से हाथ नहीं मिलाएंगे और नरेंद्र मोदी ने बिहार चुनाव से पहले प्रचार अभियान के दौरान गाली भी दिया था कि नीतीश कुमार के डीएनए में दोष है। ‘डीएनए में दोष’ मतलब खून में दोष बहुत बड़ी गाली होती है। हम लोगों ने एकता बनाकर इसका जमकर जवाब दिया था। नीतीश कुमार मेरे पास आए कि एक चांस हमें दे दीजिए, तो ये बीजेपी के साथ ही थे। इन्होने बीजेपी के साथ रहकर काफी एन्ज्वाय किया। नकली धर्मनिरपेक्षता का आंसू बहाकर बीजेपी से इनका तलाक हुआ था। जब इनका तलाक हुआ तो इन लोगों ने देखा कि अब लालू यादव आ जाएगा। आप देखेंगे कि हमारे पूरे परिवार भांति-भाति के फर्जी मुकदमे लगाए गए हैं। यह सब नीतीश कुमार के इशारे पर हुआ है। चूंकि नीतीश कुमार अब टिकने वाले नहीं हैं। भाजपा ने हांथी के सूंड में इन्हें लपेट दिया है। अब इनका अस्तित्व समाप्त हो गया है।”

राजद सुप्रीमो ने आगे कहा, ‘अफसोस इस बात का है कि हम लोगों ने गरीब, पिछड़ा दलित सभी ने मिलकर गठबंधन बनाया था। भाजपा को खत्म करने के लिए बिहार की महान जनता ने हमें पूर्ण बहुमत दिया और हमारी प्रदेश की सबसे बड़ी पार्टी बनी।’

लालू यादव ने आगे कहा, शुरुआत से ही ये मनुवादी, सांप्रदायिक लोग दलितों पिछड़ों और अकलियत को सताते रहे हैं, दुर्व्यवहार करते हैं, हमारे मन में टीस थी इसलिए हम इकठ्ठा हुए। राष्ट्रपति का चुनाव था जब हम एकतरफ 18 पार्टी इकठ्ठा हुए कि राष्ट्रपति चुनाव में हम तय कर रहे थे तो रातों-रात नीतीश कुमार ने हमें धोखा दिया और आरएसएस के हार्डकोर को राष्ट्रपति पद के लिए घोषणा कर दी कि हम समर्थन करेंगे। नोटबंदी से तबाही हुी लेकिन तब भी नीतीश ने यही काम किया। फेक सर्जिकल ऑपरेशन की जो बात हुई थी उसमें भी यही काम किया।  इंदिरा गांधी ने इतना बड़ा सर्जिकल ऑपरेशन कराया था कि पाकिस्तान के दो टुकड़े करवा दिए थे। लाखों पाकिस्तानी सैनिकों को सरेंडर करवाया। सर्जिकल ऑपरेशन ये होता है। तब हमारा संदेह पक्का हो गया था कि यह आदमी भागेगा। जबकि नीतीश कुमार को हमने कोई तकलीफ नहीं दी, हमने बार-बार छोटा भाई कहकर टीका लगवाया था।

Courtesy: nationaldastak

Categories: India

Related Articles